मुख्य समाचार:
  1. World Bank ने कई भारतीय कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध, धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े में कार्रवाई

World Bank ने कई भारतीय कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध, धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े में कार्रवाई

World Bank ने कई भारतीय कंपनियों और लोगों को दुनिया भर की अपनी विभिन्न प्रोजेक्ट्स से प्रतिबंधित कर दिया है. विश्वबैंक ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी. विश्वबैंक ने हालिया सालाना रिपोर्ट में बुधवार को कहा कि उसने धोखाधड़ी तथा फर्जीवाड़े के कारण ओलिव हेल्थ केयर और जय मोदी को प्रतिबंधित किया है. ये […]

October 4, 2018 1:07 PM
World Bank Bans Several Indian Companies, World Bank, Olive Health Care, Jay Modiविश्वबैंक ने सालाना रिपोर्ट में बुधवार को कहा कि उसने धोखाधड़ी तथा फर्जीवाड़े के कारण ओलिव हेल्थ केयर और जय मोदी को प्रतिबंधित किया है. (Reuters)

World Bank ने कई भारतीय कंपनियों और लोगों को दुनिया भर की अपनी विभिन्न प्रोजेक्ट्स से प्रतिबंधित कर दिया है. विश्वबैंक ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी. विश्वबैंक ने हालिया सालाना रिपोर्ट में बुधवार को कहा कि उसने धोखाधड़ी तथा फर्जीवाड़े के कारण ओलिव हेल्थ केयर और जय मोदी को प्रतिबंधित किया है. ये दोनों बांग्लादेश में विश्वबैंक की एक प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे.

ओलिव हेल्थ केयर को 10 साल छह महीने के लिए और जय मोदी को सात साल छह महीने के लिए प्रतिबंधित किया गया है. विश्वबैंक ने इनके अलावा एंजलिक इंटरनेशनल लिमिटेड को साढ़े चार साल के लिए प्रतिबंधित किया है. कंपनी इथियोपिया और नेपाल में विश्वबैंक की प्रोजेक्ट पर काम कर रही थी.

अर्जेंटीना और बांग्लादेश में विश्वबैंक की परियोजना पर काम कर रही फैमिली केयर को चार साल के लिए प्रतिबंधित किया गया है. इनके अलावा मधुकॉन प्रोजेक्ट्स लिमिटेड को दो साल के लिए और आरकेडी कंस्ट्रक्शंस प्राइवेट लिमिटेड को डेढ़ साल के लिए प्रतिबंधित किया गया है. दोनों कंपनियां देश में ही विश्वबैंक की परियोजना पर काम कर रही थीं.

एक साल से कम समय के लिए प्रतिबंधित की गई भारतीय कंपनियों में तात्वे ग्लोबल एनवायर्नमेंट प्राइवेट लिमिटेड, एसएमईसी (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड और मैकलॉड्स फार्माश्यूटिकल्स लिमिटेड शामिल हैं. विश्वबैंक ने कुल 78 कंपनियों पर रोक लगाई है. इनके अतिरिक्त पांच कंपनियां पर शर्तों के साथ प्रतिबंध लगा है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop