मुख्य समाचार:
  1. अमेरिका ने फिर दी चेतावनी, कहा- भारत को अब इन दोनों में किसी एक को चुनना होगा

अमेरिका ने फिर दी चेतावनी, कहा- भारत को अब इन दोनों में किसी एक को चुनना होगा

भारत और रूस के बीच डिफेंस डील पर यूएस की चेतावनी

June 14, 2019 4:44 PM
US, India, Russia, S-400 deal, defence deal in india and russia, defence needs, S-400 missile defence system, cooperation, Trumpभारत और रूस के बीच डिफेंस डील पर यूएस की चेतावनी

ट्रंप प्रशासन ने एक बार फिर भारत और रूस के बीच डिफेंस डील पर चेतावनी भरे लहजे में संदेश दिया है. ट्रंप प्रशासन की ओर से कहा गया है कि अमेरिका, भारत की रक्षा जरूरतों को आधुनिक तकनीकी और साजो-सामान के साथ पूरा करने में मदद के लिए तैयार है. लेकिन भारत अगर रूस के साथ लंबी दूरी के ‘एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम’ डील करता है तो भारत को हमारे सहयोग पर असर पड़ सकता है.

बता दें कि कुछ दिन पहले भी अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा ऐसी ही एक चेतावनी दी गई थी. अधिकारी ने कहा था कि भारत ने रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के अपने फैसले की दिशा में कदम आगे बढ़ाया तो भारत-अमेरिका रक्षा संबंधों पर इसका गंभीर असर पड़ेगा. गौरतलब है कि ‘एस-400’ रूस का सबसे आधुनिक सतह से हवा तक लंबी दूरी वाला मिसाइल रक्षा तंत्र है.

भारत को अब निर्णय लेना होगा

विदेश मंत्रालय की विशेष अधिकारी एलिस जी वेल्स ने कहा कि एक खास मोड़ पर पहुंच कर भारत को अब यह निर्णय लेना ही पड़ेगा कि वह क्या हथियार तंत्र और मंच चुनता है. यह ऐसा मामला है कि 10 साल पहले तक हम भारत को उतने सैन्य साजो सामान की पेशकश नहीं करते थे जितना हम आज देने के लिए तैयार हैं. हम भारत के साथ बातचीत कर रहे है कि हम अपने रक्षा संबंधों को किस प्रकार से बढ़ा सकते हैं. पिछले 10 साल में भारत-अमेरिका रक्षा व्यापार जीरो से 1800 करोड़ डॉलर तक पहुंच गया है.

‘काटसा’ प्रतिबंधों के कारण S-400 महत्वपूर्ण

पिछले दिनों अमेरिकी अधिकारी ने कहा था कि ‘काटसा’ प्रतिबंधों के कारण एस-400 महत्वपूर्ण है. ‘काटसा कानून’ के तहत अमेरिका के दुश्मनों के साथ किसी सौदे के कारण अमेरिकी पाबंदियां झेलनी पड़ सकती हैं. अमेरिकी कांग्रेस ने यह कानून रूस से हथियारों की खरीद को रोकने के लिए बनाया था.

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के बीच पिछले साल अक्टूबर में अनेक मुद्दों पर विचार विमर्श के बाद भारत और रूस के बीच पांच अरब डॉलर में ‘एस-400’ हवाई रक्षा तंत्र खरीद सौदे पर हस्ताक्षर हुए थे.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop