मुख्य समाचार:

Coronavirus Cases, Symptoms, Treatment and Vaccine Latest Update: कोरोना वायरस ने 6.3 लाख लोगों की ली जान, लड़ने के लिए दुनिया कितनी तैयार

Coronavirus Cases,Symptoms,Treatment and Vaccine Latest Update in India: भारत सहित दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच अलग अलग देशों में करीब 140 कंपनियां इसके इलाज के लिए वैक्सीन बनाने में लगी हैं.

Updated: Jul 24, 2020 3:50 PM
COVID-19 vaccine development report, coronavirus, what is coronavirus, coronavirus treatment, COVID Vaccine, coronavirus vaccine, COVID-19 treatment, कोरोना वायरस, कोरोना वैक्सीनभारत सहित दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच अलग अलग देशों में करीब 140 कंपनियां इसके इलाज के लिए वैक्सीन बनाने में लगी हैं.

Coronavirus Cases,Symptoms,Treatment and Vaccine Update: भारत सहित दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच अलग अलग देशों में करीब 140 कंपनियां इसके इलाज के लिए वैक्सीन बनाने में लगी हैं. कई तो इसके ट्रॉयल के तीसरे फेज में भी पहुंच चुकी हैं. कुछ कंपनियों द्वारा मानव परीक्षण में सही परिणाम आए हैं, जिससे वैक्सीन के जल्द आने को लेकर उम्मीदें और बढ़ गई हैं. हालांकि इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वैक्सीन के आधिकारिक तौर पर इस्तेमाल होने को लेकर स्थिति साफ की है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि कोविड वैक्सीन को लेकर प्रोग्रेस बेहतर है, लेकिन 2021 के पहले इसके इस्तेमाल होने की उम्मीद बहुत कम है. जानते हैं अब तक कोरोना वायरस और इसके इलाज को लेकर अबतक डेवलपमेंट पर एक रिपोर्ट….

क्या है कोरोना वायरस के लक्षण

कोरोनावायरस का प्रकोप चीन के वुहान में दिसंबर 2019 के मध्य में शुरू हुआ था और अब यह दुनिया के करीब हर देश में फैल चुका है. अबतक करीब 1.5 करोड़ लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं और करीब 6.3 लाख लोगों की जान जा चुकी है. कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है. इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है. इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था. डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं. अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई दवा या टीका नहीं बना है.

बीमारी के लक्षण और सावधानी

लक्षण: बुखार, थकान, मांसपेशियों व ज्वॉइंट में दर्द, लगातार खांसी, सर्दी जुकाम, सांस लेने में दिक्कत, स्वाद या गंध का पता न चलना मुख्स लक्षण हैं. अमेरीकी सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक ठंड लगना, कंपकंपी महसूस होना, मासंपेशियों में दर्द और गले में खराश होना भी कोरोना वायरस की चपेट में आने के संकेत हो सकते हैं. हालांकि यह ध्यान रखने वाली बात है कि संक्रमण का लक्षण सामन आने में 2 हफ्ते या इससे भी ज्यादा दिन लग सकते हैं.

सावधानी: सबसे जरूरी है साफ सफाई, अपने हाथों को दिन में कई बार साबुन से धोएं, अगर खांसी या छींक आ रही है तो बेहतर क्वालिटी का मास्क लगाएं, संक्रमित व्यक्ति के पास जाने से बचें, किसी को खांसी या छींक आ रही है तो उसके संपर्क में न आएं, पब्लिक प्लेस पर जानें से बचें अगर जा रहे हैं तो मास्क का प्रयोग करें, बच्चों को इस तरह के कोई लक्षण हों तो उसे स्कूल न भेजें, खुद में संक्रमण की जरा भी शंका हो तो जांच करवाएं.

अस्पताल में कब एडमिट होने की जरूरत

कोरोना से पीड़ित मरीजों में ज्यादा खतरा उनको होता है, जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है. मरैजूदा समय में कुल मामलों में से कसर्फ 1 फीसदी मामले ही गंभीर है, जबकि 99 फीसदी मामले माइल्ड केस में हैं. अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत तब होती है जब व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत आनी शुरू हो जाए. मरीज के फेफड़ों की जांच कर डॉक्टर इस बात का पता लगाते हैं कि संक्रमण कितना बढ़ा है और क्या मरीज़ को ऑक्सीजन या वेंटिलेटर की जरूरत है.

इलाज पर डेवलपमेंट

बता दें कि कोरोना वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं है. इससे दुनियाभर में मरीजों की संख्या 1.5 करोउ़ के आस पास हो चुकी है. भारत में मरीजों की संख्या 12.5 लाख के पार है. इस वायरस से बढ़ते खतरे के बीच दुनिया की तमाम फार्मा कंपनियां इसके इलाज के खोज में लगी हुई हैं. इस क्रम में कई कंपनियां वैक्सीन या एंटी वायरस ड्रग बनाने में सफलता पाने के करीब हैं. अब कुछ वैक्सीन व दवाओं का ट्रॉयल फाइनल सटेज में हैं, वहीं कुछ पर 99 से 100 फीसदी असरदार होने का दावा है.

99% से 100% असरदार होने का दावा

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन: हाल ही में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा डेवलप की जा रही वैक्सीन के बारे में रिसर्चर ने दावा किया मानव परीक्षण में यह वैक्सीन पूरी तरह से कारगर रही है. दावा किया गया है कि यह वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित और इम्यून सिस्टम बढ़ाने वाली है. इसके परीक्षण में किसी भी तरह का नुकसान नहीं पाया गया है. इस दवा को आधिकारिक रूप में AZD1222 के रूप में जाना जाता है और ब्रिटिश-स्वीडिश फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका द्वारा तैयार की गई है.

Sinovac: वहीं, स्काई न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार चीन की एक कंपनी Sinovac बायोटेक का दावा है कि उसकी वैक्सीन कोरोना वायरस के इलाज में कारगर है और अभी ट्रॉयल में यह 99 फीसदी असरदार साबित हुई है. कुछ दिन बाद इसका फेज 3 में ट्रॉयल किया जाएगा. कंपनी ने अभी 10 करोड़ डोज बनाने का लक्ष्य तय किया है.

Moderna: रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी कंपनी Moderna 27 जुलाई को तीसरे फेज का ट्रॉयल करने जा रही है. दूसरे दौर में 600 मरीजों पर परीक्षण किया गया, जिसके रिजल्ट बेहतर रहे. वैक्सीन की वजह से वॉलंटियर्स में प्रोटेक्टिव एंटीबॉडीज बनाने में मदद मिली, जो कोरोना के संक्रमण को होने से रोक सकते हैं.

1000 रुपये में वैक्सीन का दावा: भारत की फार्मा कंपनी सेरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया ने भी दावा किया था कि कोविड 19 की वैक्सीन का बल्क उत्पादन इस साल के अंत से शुरू हो जाएगा. वैक्सीन का ह्यूमन ट्रॉयल जारी है. कंपनी ने यह भी कहा है कि इस वैक्सीन की कीम भारतीय करंसी में 1000 रुपये होगी.

भारत में भी ह्यूमन ट्रॉयल

COVAXIN: भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन ‘COVAXIN’ का PGI रोहतक में शुक्रवार को मानव परीक्षण शुरू हुआ. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) – नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरलॉजी (NIV) और भारत बायोटेक ने मिलकर Covaxin नाम से वैक्‍सीन बनाई है.

ZyCoV-D: भारत में फार्मा कंपनी जायडस कैडिला (Zydus Cadila) ने अपनी संभावित कोविड-19 वैक्सीन ZyCoV-D का इंसानों पर ट्रायल शुरू कर दिया है. पहले चरण में कंपनी देश के विभिन्न हिस्सों में 1000 लोगों को इसके लिए इनरॉल करेगी. जायडस कोविड-19 की संभावित वैक्सीन के इंसानी ट्रायल के लिए मंजूरी पाने वाली दूसरी भारतीय फार्मा कंपनी है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. Coronavirus Cases, Symptoms, Treatment and Vaccine Latest Update: कोरोना वायरस ने 6.3 लाख लोगों की ली जान, लड़ने के लिए दुनिया कितनी तैयार

Go to Top