मुख्य समाचार:

ट्रम्प का हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन बनाने वाली फ्रांसीसी कंपनी में ‘निजी हित’, अमेरिकी मीडिया का दावा

‘न्यूयार्क टाइम्स’ के मुताबिक अगर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को उपचार के लिए स्वीकार कर लिया जाता है तो कई दवा कंपनियों को फायदा होगा. इसमें राष्ट्रपति ट्रम्प से जुड़े शेयरधारक और वरिष्ठ कार्यकारी अधिकारी भी हैं.

April 8, 2020 11:18 AM
NYT claims Trump himself has a small personal financial interest in Sanofi who makes Plaquenil, the brand name version of hydroxychloroquineअमेरिका में अभी तक कोरोना से 12,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है जबकि 4 लाख से ज्यादा लोगों पॉजिटिव हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (President Trump ) कोरोना वायरस (Coronavirus) के मरीजों के उपचार में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (hydroxychloroquine) को जोर-शोर से बढ़ावा दे रहे हैं और भारत से भी मलेरियारोधी दवा अमेरिका को देने के लिए कह चुके हैं. इस बीच, अमेरिकी मीडिया की एक खबर के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति का फ्रांस की बड़ी दवा कंपनी सनोफी में ‘‘कुछ निजी आर्थिक हित हैं.’’ हालांकि, दुनिया के किसी भी देश में अभी तक इस दवा का कोरोना के लिए उपचार के लिए आधिकारिक मान्यता नहीं मिली है. इसे न तो कोरोना के खिलाफ कारगर दवा ही बताया गया है और नहीं इलाज इसके इस्तेमाल की अनुमति दी गई है.

अमेरिका में अभी तक कोरोना वायरस संक्रमण से 12,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है जबकि 4 लाख से ज्यादा लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. मंगलवार तक बीते 24 घंटे में 16 नई मौतें हुईं और 205 नए मामले सामने आए हैं. अमेरिका में अभी तक 21777 लोग कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं.

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन: मलेरिया के इलाज की पुरानी दवा

ट्रंप ने सोमवार को भारत को चेतावनी देते हुए कहा कि व्यक्तिगत अनुरोध के बावजूद अगर उनके देश को मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाई हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का निर्यात नहीं किया गया तो इसे लेकर जवाबी कार्रवाई की जा सकती है. हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन एक पुरानी और बेहद कम मूल्य की (सस्ती) दवा है जिसका इस्तेमाल मलेरिया के इलाज में होता है. राष्ट्रपति ट्रंप इसे कोरोना वायरस संक्रमण के प्रभावी इलाज के रूप में देख रहे हैं.

Hydroxychloriquine: आखिर क्या है हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा, जिस पर अमेरिका ने दे डाली भारत को धमकी?

ट्रम्प का फ्रांस की दवा कंपनी सनोफी में निजी हित

‘न्यूयार्क टाइम्स’ के मुताबिक अगर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को उपचार के लिए स्वीकार कर लिया जाता है तो कई दवा कंपनियों को फायदा होगा. इसमें राष्ट्रपति ट्रम्प से जुड़े शेयरधारक और वरिष्ठ कार्यकारी अधिकारी भी हैं. ट्रम्प का भी फ्रांस की दवा कंपनी सनोफी में थोड़ा निजी वित्तीय हित है. सनोफी हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के ब्रांड संस्करण प्लाक्वेनिल नाम से दवा बनाती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि जेनेरिक दवा बनाने वाली कई कंपनियां हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन बनाने की तैयारी में है. इसमें भारतवंशी चिराग पटेल और चिंटू पटेल की एमनील फार्मस्यूटिकल कंपनी भी है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. ट्रम्प का हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन बनाने वाली फ्रांसीसी कंपनी में ‘निजी हित’, अमेरिकी मीडिया का दावा

Go to Top