मुख्य समाचार:

US फेड रिजर्व ने ब्याज दरों में नहीं किया बदलाव, लेकिन आगे पॉलिसी में नरमी के संकेत

US Fed रिजर्व ने ब्याज दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है.

June 20, 2019 9:52 AM
US Fed Reserve, Rate Cut, US Central bank, यूएस फेड, US Economy, Inflation, FOMC, फेडरल ओपन मार्केट कमिटी, Equity, Gold, Bond, Rupee, DollarUS Fed रिजर्व ने ब्याज दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है.

US Fed रिजर्व की फेडरल ओपन मार्केट कमिटी (FOMC) ने ब्याज दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है. हालांकि फेड ने आगे दरों में 50 बेसिस प्वॉइंट की कटौती के संकेत देते हुए पॉलिसी में नरमी बरतने की बात कही है. फेड द्वारा कहा गया कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था में सुधार और महंगाई कंट्रोल में रहने से आगे रेट कट की गुंजाइश बनी है. अर्थव्यवस्था के आधार पर आगे उचित फैसले लिए जाएंगे. फिलहाल बाजार को भी उम्मीद है कि आगे यूएस फेड रेट कट की सौगात दे सकता है.

फेड चेयरमैन जिरोम पॉवेल ने कहा है कि अमेरिकी इकोनॉमी में सुधार हो रहा है और महंगाई भी अनुमान से कम है. उम्मीद है कि आगे भी महंगाई कंट्रोल में बनी रहेगी और डाटा में सुधार होगा. इसे देखते हुए 2020 में पॉलिसी में ज्यादा ढील दी जा सकती है. फिलहाल ब्याज दरों को 2.25 से 2.50 फीसदी की रेंज में रहने दिया गया है. साल 2019 में अबतक दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है, हालांकि संकेत नरमी वाले रहे हैं.

पहले लगातार 6 बार बढ़ चुके हैं रेट

डेट                            कितनी बढ़ोत्तरी            कितनी हुई दर

जून 2017                   25 बेसिस प्वॉइंट           1.25%
दिसंबर 2017              25 बेसिस प्वॉइंट           1.50%
मार्च 2018                  25 बेसिस प्वॉइंट           1.75%
जून 2018                   25 बेसिस प्वॉइंट           2.00%
सितंबर 2018             25 बेसिस प्वॉइंट           2.25%
दिसंबर 2018             25 बेसिस प्वॉइंट           2.50%

क्या है FOMC

एफओएमसी यानी फेडरल ओपन मार्केट कमिटी है. यह फेडरल रिजर्व सिस्टम के अधीन एक समिति है, जिसे अमेरिकी कानून के तहत देश के ओपन मार्केट के संचालन की देखरेख के साथ ब्याज दरों और अमेरिकी अर्थव्यवस्था में मुद्रा आपूर्ति की व्यवस्था के बारे में महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए गठित किया गया है.

रेट कट होता है तो भारत पर क्या असर

इक्विटी: दरें घटती हैं तो इससे दूनिया के दूसरे बाजारों को फायदा होगा. यूएस के निवेशक दूसरे बाजारों में ज्यादा रिटर्न की लालच पैसा लगाएंगे. इसका फायदा घरेलू बाजार को भी होगा. बता दें कि इस साल के शुरू में यूएस फेड ने टोन डाउन करते हुए ब्याज दरें घटाए जाने की बात कही थी, जिसके बाद घरेलू बाजार में शानदार तेजी देखने को मिली थी.

गोल्ड: यूएस फेड द्वारा रेट कट किया जाना गोल्ड के लिए पॉजिटिव सेंटीमेंट है. अगर यूएस फेड ब्याज दरें घटाता है तो अमेरिका में लोग इक्विटी और बॉन्ड से पैसे निकालकर दूसरे एसेट क्लास मसलन गोल्ड, सिल्वर में लगाएंगे. इससे गोल्ड की कीमतों को सपोर्ट मिलेगा.

रुपया: यूएस फेड के नरम रुख से रुपये को भी सपोर्ट मिलेगा. ब्याज दरों का घटना डॉलर के लिए निगेटिव सेंटीमेंट होगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. US फेड रिजर्व ने ब्याज दरों में नहीं किया बदलाव, लेकिन आगे पॉलिसी में नरमी के संकेत

Go to Top