मुख्य समाचार:

विलियम नॉर्डहॉस और पॉल रोमर को मिला अर्थशास्त्र का नोबल पुरस्कार

अर्थशास्त्र के नोबल पुरस्कार की घोषणा के साथ ही 2018 के नोबल पुरस्कारों की घोषणा पूरी हो गई.

October 8, 2018 6:10 PM
US duo William Nordhaus and Paul Romer win Nobel Economics Prizeनॉर्डहॉस येल विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं, जबकि रोमर न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के स्टर्न स्कूल आॅफ बिजनेस से जुड़े हैं. (Image: Yale university and NYU )

जलवायु और नवोन्मेष (इनोवेशन) को आर्थिक वृद्धि के साथ जोड़ने वाले अमेरिकी अर्थशास्त्री विलियम नॉर्डहॉस और पॉल रोमर को संयुक्त रूप से इस वर्ष का अर्थशास्त्र का नोबल पुरस्कार विजेता घोषित किया गया है. पुरस्कार देने वाली रॉयल स्वीडिश एकेडमी आॅफ साइंस ने एक बयान में यह जानकारी दी. अर्थशास्त्र के नोबल पुरस्कार की घोषणा के साथ ही 2018 के नोबल पुरस्कारों की घोषणा पूरी हो गई.

बयान के अनुसार, नॉर्डहॉस येल विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं, जबकि रोमर न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के स्टर्न स्कूल आॅफ बिजनेस से जुड़े हैं. इन दोनों अर्थशास्त्रियों ने कुछ ज्वलंत प्रश्नों के समाधान प्रस्तुत किए हैं, जो बताते हैं कि हम किस तरह अपनी आर्थिक वृद्धि को लंबे समय तक निरंतर मजबूत बनाए रख सकते हैं. दोनों अर्थशास्त्रियों ने आर्थिक विश्लेषण के लिए एक ऐसे मॉडल का निर्माण किया है जो इसके दायरे का विस्तार करता है. यह मॉडल बताता है कि कैसे बाजार अर्थव्यवस्था प्रकृति एवं ज्ञान के साथ अंतर्संबंध स्थापित करती है.

मिलेगा 10.1 लाख डॉलर का इनाम

77 वर्षीय नॉर्डहॉस को यह पुरस्कार ‘जलवायु परिवर्तन के दीर्घकालिक वृहद आर्थिक विश्लेषण के साथ संबंध’ स्थापित करने के लिए विशेष तौर पर दिया गया है. वहीं 62 वर्षीय रोमर को ‘प्रौद्योगिकी नवोन्मेष के दीर्घावधि में वृहद आर्थिक विश्लेषण के साथ संबंध’ स्थापित करने के लिए इस पुरस्कार से नवाजा गया है. दोनों अर्थशास्त्रियों को संयुक्त तौर पर 90 लाख स्वीडिश क्रोनॉर (10.1 लाख डॉलर या 8,60,000 यूरो) की इनामी राशि दी जाएगी.

पिछले साल रिचर्ड थेलर को मिला था अर्थशास्त्र का नोबल

पिछले साल अर्थशास्त्र का नोबल पुरस्कार अमेरिकी अर्थशास्त्री रिचर्ड थेलर को दिया गया था. उन्हें लोकप्रिय ‘नज’ सिद्धांत का सह-जनक माना जाता है. उनका सिद्धांत दर्शाता है कि कैसे लोगों को ऐसे आर्थिक निर्णय के लिए राजी किया जा सकता है, जो उन्हें स्वस्थ और खुश रखे.

पहली बार दिया गया था 1969 में

अर्थशास्त्र में दिया जाने वाला नोबल पुरस्कार, अल्फ्रेड नोबल की वसीयत के अनुसार स्थापित अन्य पांच नोबल पुरस्कारों की तरह नहीं है. इस पुरस्कार की स्थापना स्वीडन के केंद्रीय बैंक रिक्सबैंक ने 1968 में अलग से बैंक की तीसरी शताब्दी के मौके पर की. 1969 में पहली बार अर्थशास्त्र का नोबल पुरस्कार दिया गया.

1901 में हुई थी नोबल पुरस्कारों की शुरुआत

नोबल की मूल वसीयत के अनुसार रसायन शास्त्र, भौतिक शास्त्र, साहित्य, शांति और औषधि जैसे पांच क्षेत्रों में वार्षिक आधार पर नोबल पुरस्कार दिया जाता है. पहली बार ये पुरस्कार 1901 में दिए गए. इनामी राशि के अलावा नोबल पुरस्कार के तहत एक प्रशस्ति पत्र और स्वर्ण पदक भी दिया जाता है. इसे 10 दिसंबर को स्टॉकहोम में आयोजित होने वाले एक आधिकारिक कार्यक्रम में प्रदान किया जाएगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. विलियम नॉर्डहॉस और पॉल रोमर को मिला अर्थशास्त्र का नोबल पुरस्कार

Go to Top