मुख्य समाचार:
  1. उबर जल्द भारत में चलाएगी उड़ने वाली कैब, 5 देशों में शुरू करेगी सर्विस

उबर जल्द भारत में चलाएगी उड़ने वाली कैब, 5 देशों में शुरू करेगी सर्विस

भारत में जल्द आप उड़ने वाली कैब की सर्विस ले पाएंगे. ऐप आधारित टैक्सी सर्विस देने वाली विदेशी कंपनी उबर ने अपने फ्लाइंग कैब के लिए 5 देशों में भारत का भी चुनाव किया है.

August 30, 2018 4:21 PM
uber, cab, flying cab, india, service, 5 countries shortlist, traffic problem, उबर, फ्लाइंग कैब, भारत, ट्रैफिक भारत में जल्द आप उड़ने वाली कैब की सर्विस ले पाएंगे. ऐप आधारित टैक्सी सर्विस देने वाली विदेशी कंपनी उबर ने अपने फ्लाइंग कैब के लिए 5 देशों में भारत का भी चुनाव किया है. (Reuters)

भारत में जल्द आप उड़ने वाली कैब की सर्विस ले पाएंगे. ऐप आधारित टैक्सी सर्विस देने वाली विदेशी कंपनी उबर ने अपने फ्लाइंग कैब के लिए 5 देशों में भारत का भी चुनाव किया है. भारत के अलावा आॅस्ट्रेलिया, जापान, ब्राजील और फ्रांस को भी कंपनी ने अपनी सर्विस के लिए शॉर्ट लिस्ट किया है. टोक्यो में चल रहे उबर एलिवेट एशिया पैसिफिक एक्स्पो में उबर ने इस बात की घोषणा की है.

जल्द होगा तीसरे शहर का चुनाव
इसके पहले उबर अमेरिका के डलास और लॉस एंजिलिस में फ्लाइंग कैब की सर्विस देने की घोषणा कर चुकी है. अब तीसरे शहर का चुनाव शॉर्टलिस्ट किए गए देशों में से किसी एक देश में से होगा. भारत में मुंबई, दिल्ली और बंगलुरू में से किसी एक शहर का चुनाव इसके लिए किया जा सकता है, जहां ट्रैफिक बहुत ज्यादा है और कई बार महज कुछ दूरी चलने के लिए घंटों लग जाते हैं.

ट्रांसपोर्टेशन का बेहतर विकल्प
उबर एविएशन प्रोग्राम के हेड एरिक एलिसन का कहना है कि हम अपनी तकनीकी को नई उंचाई पर ले जाना चाहते हैं और इसी दिशा में हम फ्लाइंग कैब की सर्विस देंगे. अगल 5 साल में यह विकल्प होगा कि आप एक बटन दबाएं और उबर की उड़ने वाली कैब आपके पास हाजिर हो.

उबर ने अपने बयान में कहा है कि उन शहरों में जहां ट्रैफिक की समस्या बहुत ज्यादा हो, उबर की फ्लाइंग कैब ट्रांसपोर्टेशन का एक बेहतर विकल्प हो सकती है. इससे न केवल जाम से छुटकारा मिलेगा, समय की खासी बचत भी हो जाएगी.

टूरिज्म को मिलेगा बूस्ट
टोक्यो में उबर एलिवेट एशिया पैसिफिक एक्स्पो में जापानी गवर्नमेंट की ओर से भी यह कहा गया कि फ्लाइंग कैब से न केवल ट्रैफिक की समस्या से निजात मिलेगी, बल्कि शहरों को रिमोट एरिया से जोड़ने में मदद मिलेगी. वहीं इससे टूरिज्म को भी बूस्ट मिलेगा.

Go to Top