मुख्य समाचार:

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से मूसलाधार बारिश में हुआ इजाफा: स्टडी

शोध के मुताबिक, 1964 से 2013 के बीच भारी बारिश होने के मामले निरंतर बढ़े हैं. इसी अवधि के दौरान ग्लोबल वार्मिंग भी बढ़ी है.

June 5, 2019 7:36 PM

Torrential rain more frequent with global warming: Study

विश्व भर में पिछले 50 साल में जलवायु परिवर्तन के कारण बार-बार भारी बारिश होने में इजाफा हुआ है. एक अध्ययन में यह बात सामने आई है. शोध के मुताबिक, 1964 से 2013 के बीच भारी बारिश होने के मामले निरंतर बढ़े हैं. इसी अवधि के दौरान ग्लोबल वार्मिंग भी बढ़ी है.

इन भारी बारिशों के चलते अचानक से बाढ़ आने, तबाही मचने और जलजनित बीमारिय‍ों की आशंका बढ़ जाती है. इसके अलावा भूस्खलन, फसलों की बर्बादी, इमारतों एवं पुलों का ढहना, घरों में दरारें पड़ना, सड़कों एवं यातायात का बाधित होना जैसी समस्याएं भी उत्पन्न होती हैं.

कहां ज्यादा हुईं अत्यधिक बारिश की घटनाएं

अत्यधिक बारिश बार-बार होने की घटनाएं कनाडा, यूरोप के ज्यादातर हिस्सों, अमेरिका के पश्चिम मध्य एवं पूर्वोत्तर क्षेत्र, उत्तरी ऑस्ट्रेलिया, पश्चिमी रूस और चीन के कई हिस्सों में बढ़ी हैं.

दुनिया भर के 1 लाख वर्षा निगरानी केन्द्रों से जुटाए गए रिकॉर्ड

शोधकर्ताओं ने बताया कि अध्ययन के लिए विश्व भर के 1,00,000 वर्षा निगरानी केंद्रों से रोजाना के 8,700 से अधिक वर्षा रिकॉर्डों का अध्ययन किया गया. इनमें पाया गया कि 1964 से 2013 के बीच मूसलाधार बारिश की निरंतरता बढ़ी है. यह अध्ययन वॉटर रिसोर्सेज रिसर्च पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. ग्लोबल वार्मिंग की वजह से मूसलाधार बारिश में हुआ इजाफा: स्टडी

Go to Top