scorecardresearch

Stock Market: निवेशकों ने 1 दिन में कमाए 3 लाख करोड़, ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद भी सेंसेक्स क्यों 1000 अंक चढ़ा?

ब्याज दरें बढ़ने के बाद भी स्टॉक माके्रट में रैली रही. आज बाजार की जोरदार तेजी में बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 3 लाख करोड़ से ज्यादा बढ़ गया है.

Stock Market: निवेशकों ने 1 दिन में कमाए 3 लाख करोड़, ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद भी सेंसेक्स क्यों 1000 अंक चढ़ा?
इंट्राडे में सेंसेक्स में 1000 अंकों से ज्यादा बढ़कर 56850 के लेवल के पार चला गया. (image: pixabay)

Stock Market Rally Today: आज के कारोबार में शेयर बाजार में जोरदार खरीदारी देखने को मिली है. इंट्राडे में सेंसेक्स में 1000 अंकों से ज्यादा तेजी आई और यह 56850 के लेवल के पार चला गया. वहीं निफ्टी भी 276 अंक मजबूत होकर 16900 के पार चला गया. बाजार की इस तेजी में बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 3 लाख करोड़ से ज्यादा बढ़ गया. यानी निवेशकों ने एक ही दिन में 3 लाख करोड़ कमा लिए. बुधवार को अमेरिकी सेंट्रल बैंक यूएस फेड ने ब्याज दरों में 75 बेसिस अंकों की बढ़ोतरी की है, उसके बाद भी बाजारों में जोरदार रैली देखने को मिली. एक्सपर्ट का कहना है कि बाजार के लिए दरों में बढ़ोतरी की बात पहले से डिस्काउंट थी. वहीं फेड ने आगे दरों में इस तरह की बढ़ोतरी न करने के संकेत दिए हैं. इससे सेंटीमेंट बेहतर हुआ है.

दरों में बढ़ोतरी अनुमान के मुताबिक

Tradingo के फाउंडर पार्थ न्याती का कहना है कि यूएस फेड ने कल ब्याज दरों में 75 बीपीएस बढ़ोतरी का एलान किया है. यह बढ़ोतरी बाजार की उम्मीदों के अनुरूप ही थी. हमारा मानना ​​है कि भारतीय बाजार पहले ही कीमतों में बढ़ोतरी को डिस्काउंट कर चुके हैं. इसलिए भारतीय बाजारों पर इसका असर कम से कम होने वाला है. हालांकि, बाजार को उम्मीद है कि साल के अंत तक दरें 3 फीसदी के स्तर के आसपास स्थिर हो जाएंगी. हालांकि कोई भी नकारात्मक सरप्राइज वैश्विक और भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए खतरनाक हो सकती है.

LIC के शेयर ने डुबोए पैसे, लेकिन इन स्कीम ने किया कमाल, 10 गुना से 17 गुना बढ़ाई निवेशकों की दौलत

लंबे समय तक नहीं चलेगा रेट हाइक!

यूएस फेडरल रिजर्व ने बुधवार को ब्याज दरों में 75 बेसिस प्वॉइंट की बढ़ोतरी की है. इसके अलावा अमेरिकी सेंट्रल बैंक ने भविष्य में इंटरेस्ट रेट गाइडेंस को 3 फीसदी से 3.5 फीसदी की सीमा में रखा है. पॉजिटिव यह रहा कि फेड ने संकेत दिया है कि इस तरह की बढ़ोतरी लंबे समय तक नहीं चल सकती है. आगे इसकी गति धीमी होगी. यूएस फेड द्वारा इस तरह के संकेत दिए जाने से इक्विटी पर पॉजिटिव असर देखने को मिला है. कमोडिटी की कीमतों में गिरावट भी बेहतर संकेत हैं.

जून के लो से अच्छी रिकवरी

रेलिगेयर ब्रोकिंग में वीपी-रिसर्च अजीत मिश्रा के अनुसार बाजार में जून के निचले स्तरों से रिकवरी देखने को मिली है. ऑटो और एफएमसीजी जैसे सेक्टर में अच्छी तेजी देखने को मिली है. आगे बैंकिंग और फाइनेंशियल सेक्टर बाजार को मोमेंटम दे सकते हैं. हालांकि आईटी और एनर्जी जैसे सेक्टर पर दबाव है. ऐसे में बाजार में गिरावट आने पर क्वालिटी शेयरों को जोड़ना चाहिए.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News