मुख्य समाचार:
  1. कश्मीर पर ट्रम्प का झूठ बेनकाब, भारत के विरोध के बाद व्हाइट हाउस को देनी पड़ी सफाई

कश्मीर पर ट्रम्प का झूठ बेनकाब, भारत के विरोध के बाद व्हाइट हाउस को देनी पड़ी सफाई

भारत ने कश्मीर पर अमेरिका का दावा खारिज किया

July 23, 2019 10:38 AM
Trump Claim On Kashmir, Mediate On Kashmir, Imran Khan, India Clarifies, MEA, कश्मीर पर अमेरिका का दावा खारिज, PM Modiभारत ने कश्मीर पर अमेरिका का दावा खारिज किया

भारत ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के उस दावे को पूरी तरह से खारिज कर दिया है, जिसमें अमेरिकी प्रेसिडेंट ने कहा था कि पीएम नरेंद्र मोदी ने उनसे कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने के लिए कहा था. भारत ने इस दावे को चौंकाने वाला बताया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट के जरिए यह बात साफ की है.

विदेश मंत्रालय का ट्वीट

रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि हमने अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा प्रेस को दिये उस बयान को देखा है जिसमें उन्होंने कहा है कि यदि भारत और पाकिस्तान अनुरोध करते हैं तो वह कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता के लिए तैयार हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति से इस तरह का कोई अनुरोध नहीं किया है.

व्हाइट हाउस की सफाई

वहीं, ट्रम्प के इस बयान के बाद उपजे विवाद के बाद ट्रम्प प्रशासन ने भी सफाई देनी शुरू कर दी है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच एक ‘द्विपक्षीय’ मुद्दा है और अमेरिका दोनों देश के बीच वार्ता का स्वागत करता है. साथ ही मंत्रालय ने कहा कि हमारा मानना है कि भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी वार्ता की सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि पाकिस्तान अपनी सीमा में चरमपंथियों एवं आंतकवादियों के खिलाफ निरंतर एवं स्थिर कार्रवाई करे.

MEA ने साफ किया भारत का रुख

उन्होंने कहा कि भारत का लगातार यही रुख रहा है कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों पर केवल द्विपक्षीय चर्चा होगी. पाकिस्तान के साथ किसी भी बातचीत के लिए सीमापार आतंकवाद पर रोक जरूरी होगी. भारत और पाकिस्तान के बीच सभी मुद्दों के समाधान के लिए शिमला समझौता और लाहौर घोषणापत्र का अनुपालन आधार होगा. बता दें कि ट्रंप ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ बात चीत में दावा किया था कि प्रधानमंत्री मोदी ने उनसे कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने को कहा था.

क्या था ट्रम्प का दावा

अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावा किया कि मोदी और उन्होंने पिछले महीने जापान के ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर कश्मीर मुद्दे पर चर्चा की थी, जहां भारतीय प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें कश्मीर पर तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की पेशकश की थी. ट्रंप ने कहा कि मैं दो सप्ताह पहले प्रधानमंत्री मोदी के साथ था और हमने इस विषय (कश्मीर) पर बात की थी.ट्रंप ने कहा कि यदि दोनों देश कहेंगे तो वह मदद के लिए तैयार हैं.

इमरान खान ने क्या कहा

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने कहा कि वह तैयार हैं और उन्होंने अमेरिका के इस तरह के कदम का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि अगर आप (कश्मीर पर) मध्यस्थता कर सकते हैं तो एक अरब से अधिक लोगों की प्रार्थना आपके साथ है. भारत का कहना है कि कश्मीर मुद्दा एक द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है.

Go to Top