सर्वाधिक पढ़ी गईं

Coronavirus New Strain: ‘नए तरह’ का कोरोना वायरस कितना खतरनाक? सरकार की क्या है तैयारी

New Covid-19 strain in UK: नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल के मुताबिक कोरोना वायरस के म्यूटेशन पर लगातार परीक्षण किया जा रहा है और अभी तक ब्रिटेन में मौजूद नए स्ट्रेन बी.1.1.7 का मामला यहां सामने नहीं आया है.

December 23, 2020 12:39 PM
KNOW DETAILS ABOU UK STARIN OF CORONA VIRUS AND INDIAN GOVERNMENT STEPS TO FIGHT AGAINST ITकोरोना वायरस के अब तक 4 हजार म्यूटेशन हो चुके हैं.

New Covid-19 strain in UK: ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से दुनिया भर में खलबली मच चुकी है. कई देशों ने ब्रिटेन से उड़ानों पर रोक लगा दी है. भारत में भी यूके से होकर आने-जाने वाली सभी फ्लाइट्स को 31 दिसंबर तक बंद कर दिया है. हालांकि, भारत के लिए राहत की खबर यह है कि अभी तक जो यात्री पिछले कुछ समय से यूनाइटेड किंगडम (UK) होकर यहां आए हैं, उनमें यह नया स्ट्रेन नहीं पाया गया है. हालांकि कुछ यात्री जरूर कोरोना संक्रमित जरूर पाए गए हैं. नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल के मुताबिक कोरोना वायरस के म्यूटेशन पर लगातार परीक्षण किया जा रहा है और अभी तक ब्रिटेन में मौजूद नए स्ट्रेन बी.1.1.7 का मामला यहां सामने नहीं आया है.

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने पिछले एक महीने में यूके से आने वाले यात्रियों के लिए एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर्स (एसओपी) जारी किया है. पॉल ने यूके वैज्ञानिकों से बातचीत कर बताया कि इस नए वायरस स्ट्रेन की संक्रामकता 70 फीसदी तक बढ़ चुकी है. इस समय दुनिया भर के कई देशों में वैक्सीन ट्रॉयल चल रहा है और कुछ देशों में इसे लगाने की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है. हालांकि अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि जो वैक्सीन अब तक तैयार हो चुकी है और उनके या तो ट्रॉयल चल रहे हैं या उनके इमरजेंसी प्रयोग की मंजूरी मिल चुकी है, वे नए यूके स्ट्रेन के खिलाफ प्रभावी होंगी या नहीं.

नया स्ट्रेन कितना खतरनाक, अभी स्पष्ट नहीं

दक्षिण और पूर्वी इंग्लैंड में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. ऐसे में इसे लेकर जांच की गई तो पिछले हफ्ते कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन का पता चला. इसका नाम वीयूआई (वैरिएंट अंडर इंवेस्टीगेशन) 202012/01 या बी.1.1.7 लाइनेज रखा गया है. पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) के मुताबिक, इस नए स्ट्रेन से संक्रमित 1108 मामले 13 दिसंबर तक सामने आ चुके हैं जिसमें सबसे अधिक मामले दक्षिणी और पूर्वी इंग्लैंड से हैं.

पीएचई के मुताबिक यह नया स्ट्रेन कोरोना वायरस के अन्य स्ट्रेन की तुलना में अधिक तेजी से संक्रमित कर रहा है. हालांकि अभी तक यह सामने नहीं आया है कि यह नया स्ट्रेन अन्य स्ट्रेन की तुलना में कितना खतरनाक है. पीएचई के मुताबिक किसी भी वायरस के स्पाइक प्रोटीन में म्यूटेशन होता है और वे मानव कोशिकाओं को अलग तरीके से प्रभावित करते हैं.

18 दिसंबर को न्यू एंड इमर्जिंग रेस्पिरेटरी वायरस थ्रेट्स एडवायजरी ग्रुप (NERVTAG) के मुताबिक यह नया स्ट्रेन कितना खतरनाक है, इसे लेकर पर्याप्त डेटा नहीं हैं. एक्सपर्ट बॉडी के मुताबिक नए स्ट्रेन से संक्रमित करीब 1 हजार लोगों में चार लोगों की मौत हुई है. बता दें कि कोरोना वायरस के इस नए स्ट्रेन का सबसे पहला पता सितंबर में मिला था लेकिन उस समय इसे कोई नाम नहीं दिया गया था और आमतौर पर जांच के दौरान जब तीन की बजाय दो ही जीन सामने आए तो जांच की गई और इस नए स्ट्रेन का पता चला.

ये भी पढ़ें… ग्रामीण इलाकों में 44% लोग कोविड-19 वैक्सीन के लिए पैसे देने को तैयार: सर्वे

कोरोना वायरस के अब तक 4 हजार म्यूटेशन

जब कोई वायरस मानव शरीर में प्रवेश करता है तो उसमें हर महीने औसतन एक से दो म्यूटेशन होना प्राकृतिक है. ब्रिटिश कंसोर्टियम कोविड-19 जेनोमिक्स यूके (सीओजी-यूके) के मुताबिक सार्स-कोवि-2 के स्पाइक प्रोटीन में इस समय करीब 4 हजार म्यूटेशन हो चुके हैं. सीओजी-यूके जीनोम सीक्वेसिंग को एनालाइज करती है. पीएचई के मुताबिक अभी तक इस पर स्पष्ट तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता है कि फाइजर वैक्सीन नए स्ट्रेन से सुरक्षित कर पाएगी या नहीं.

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंच चुका है यूके स्ट्रेन

यूरोपियन सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल के मुताबिक डेनमार्क से तीन सीक्वेंस और ऑस्ट्रेलिया से एक सीक्वेंस में यूके वैरिएंट स्ट्रेन पाया गया है. इन सैंपल्स को पिछले महीने नवंबर में कलेक्ट किया गया था. इससे स्पष्ट होता है कि अब यूके वैरिएंट स्ट्रेन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैल चुका है. इटली और फ्रांस ने भी अपने यहां यूके स्ट्रेन की पुष्टि की है.

25 नवंबर के बाद UK से आने वाले यात्रियों की होगी जांच

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव भूषण कुमार के मुताबिक राज्यों के साथ 25 नवंबर से लेकर 23 दिसंबर तक यूके से यहां आने वाले यात्रियों की सूची साझा की जाएगी ताकि उन पर निगरानी की जा सके. उनसे संपर्क किया जाएगा और यह सुनिश्चित करने की कोशिश की जाएगी कि वे संक्रमित नहीं हुए हैं.

केंद्र सरकार द्वारा जारी एसओपी के मुताबिक जो यात्री 25 नवंबर से 8 दिसंबर के बीच यूके से भारत आए हैं, उनसे डिस्ट्रिक्ट सर्विलांस ऑफिसर्स संपर्क करेंगे और उन्हें अपने स्वास्थ्य को सेल्फ मॉनीटर करने के लिए कहा जाएगा. इसके अलावा 9 दिसंबर से 23 दिसंबर के बीच यूके से भारत आने वालों को ये ऑफिसर्स 14 दिनों तक हर दिन देखने जाएंगे कि उन्हें कोई स्वास्थ्य समस्या तो नहीं है. इन यात्रियों से 28 दिनों तक खुद को सेल्फ मॉनीटर के लिए भी कहा गया है.

अगर यूके से आए किसी यात्री को कोरोना पॉजिटिव पाया गया तो उनके सैपंल की जीनोम सीक्वेंसिंग की जाएगी. अगर उनके जीनोम सीक्वेंसिंग में पाया गया कि वे नए स्ट्रेन से संक्रमित हैं, तो उन्हें अलग आइसोलेशन यूनिट में रखा जाएगा.

UK से आने वाले कुछ यात्री कोरोना संक्रमित

महाराष्ट्र सरकार ने स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोटोकॉल जारी किया है. इसके तहत यूरोप, दक्षिण अफ्रीका और मध्य पूर्व से पिछले कुछ दिनों में महाराष्ट्र पहुंचने वाले लोगों को 14 दिनों तक इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन में रहना होगा यानी वे अपने घर में क्वारंटीन नहीं रह सकते हैं. सोमवार को मुंबई एयरपोर्ट पर चार फ्लाइट्स ब्रिटेन से आई जिससे 690 यात्री उतरे. मंगलवार यानी 22 दिसंबर को लंदन के लिए आने-जाने वाली कोई फ्लाइट्स नहीं थी.

राजधानी दिल्ली में भी यूके से आने वाले यात्रियों का टेस्ट कराया गया. उन्हें इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन किया गया है. सोमवार यानी 21 दिसंबर को लंदन से आने वाली फ्लाइट से उतरे छह यात्री कोरोना संक्रमित भी पाए गए. पिछले दो हफ्ते मिें दिल्ली एयरपोर्ट पर 6-7 हजार लोग उतरे हैं और अब उनका घर-घर जाकर स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा.

इसी प्रकार कोलकाता एयरपोर्ट पर भी यूके से आए दो यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए. रविवार 20 दिसंबर को कोलकाता के नेताजी सुभाष चंद्र बोस इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर यूके से एक फ्लाइट से 222 यात्री उतरे जिसमें 25 यात्रियों के पास कोविड रिपोर्ट्स नहीं था तो उनका टेस्ट किया गया, उनमें से दो का कोरोना टेस्ट परिणाम एक दिन पहले पॉजिटिव आया. अब उन यात्रियों के संपर्क में आए हुए लोगों से संपर्क कर उन्हें होम आइसोलेशन के लिए कहा जाएगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. Coronavirus New Strain: ‘नए तरह’ का कोरोना वायरस कितना खतरनाक? सरकार की क्या है तैयारी

Go to Top