मुख्य समाचार:

ट्रम्प से नहीं बनी बात तो किम ने चला नया दांव, पुतिन से मिलने पहुंचे रूस

अमेरिका के साथ उत्तरी कोरिया के संबंधों में खटास के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई दूर करने के लिए अब उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन रूस पहुंच गए हैं.

April 24, 2019 5:30 PM
kim, north korea, russia, kim jong un, putin, Russian leader Vladimir Putin, Vladimir Putin, kim meets putin, kim and putin meet, kim jong un in russia, kim in russia, russia president, किम जोंग उन, व्लादीमिर पुतिन, पुतिन किम, किम पुतिनकिम ने इसे आपसी संबंधों की शुरुआत बताया. (Image- Reuters)

अमेरिका के साथ उत्तरी कोरिया के संबंधों में खटास के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई दूर करने के लिए अब उत्तर कोरिया के शासक किम जोन उन (Kim Jong Un) रूस पहुंच गए हैं. पूरी तरह सैन्य व्यवस्था से सुसज्जित अपनी ट्रेन लेकर किम जांग उन रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मिलने के लिए बुधवार रूस के व्लाडीवोस्टक पहुंच गए हैं. रशियन राष्ट्रपति पुतिन के साथ किम की बैठक गुरुवार को होगी. किम की पुतिन से यह पहली मुलाकात होगी जब से 2011 में वह सत्ता में आए हैं.

खास बात यह है कि किम की यह यात्रा करीब एक साल बाद हुई है जब से रूस ने उन्हें आने का निमंत्रण भेजा था. उत्तर कोरियाई नेता Kim Jong Un की यह मुलाकात एक विकल्प के तौर पर माना जा रहा है क्योंकि कुछ समय पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के साथ उनकी मुलाकात के परिणाम बेहतर नहीं रहे और उत्तरी कोरिया को प्रतिबंधों से अभी तक राहत नहीं मिली है.

किसी समझौते या संयुक्त बयान के आसार नहीं

किम अपनी इस यात्रा पर रूस के पास डिप्लोमेटिक और आर्थिक मदद के लिए आए हैं लेकिन किसी समझौते की कोई संभावना नहीं बन रही है. पुतिन के विदेशी नीति सलाहकार यूरी उश्कोव के मुताबिक दोनों देशों के प्रमुखों के बीच किसी भी प्रकार के सौदे पर हस्ताक्षर या संयुक्त बयान  की कोई योजना नहीं है.

इसकी मुख्य वजह यह है कि रूस की आर्थिक स्थिति बहुत बेहतर नहीं है और वह ऐसा कुछ भी नहीं करना चाहता है जिससे सैंक्शन का उल्लंघन हो और अमेरिका के साथ विवाद बढ़े.

Kim Jong Un ने इसे आपसी संबंधों की शुरुआत बताया

उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता ने पुतिन के साथ अपनी मुलाकात को दोनों देशों के आपसी संबंधों पर प्रोडक्टिव टॉक्स के लिए शुरुआती पहल बताया. यह मुलाकात किम और पुतिन दोनों के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण मानी जा रही है. इसके जरिए किम अमेरिका को यह दिखाना चाहते हैं कि चीन के अलावा भी उत्तर कोरिया के दोस्त हैं. रसियन एकेडमी ऑफ साइसेंज में सेंटर फॉर एशियन स्ट्रेटजी के प्रमुख जॉर्जी टोलोराया के मुताबिक रूस के पास यह दिखाने का अवसर है कि अभी भी अंतरराष्ट्रीय मुद्दों में अभी भी उसका दखल है.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. ट्रम्प से नहीं बनी बात तो किम ने चला नया दांव, पुतिन से मिलने पहुंचे रूस

Go to Top