जॉनसन एंड जॉनसन का बेबी पाउडर अगले साल से नहीं बिकेगा, अमेरिका-कनाडा में पहले ही बंद है बिक्री

दिग्गज अमेरिकी कंपनी J&J ने अगले साल 2023 से टैल्क वाले बेबी पाउडर की बिक्री नहीं करने का फैसला किया है.

जॉनसन एंड जॉनसन का बेबी पाउडर अगले साल से नहीं बिकेगा, अमेरिका-कनाडा में पहले ही बंद है बिक्री
करीब दो साल पहले जॉनसन एंड जॉनसन ने कम बिक्री के चलते अमेरिका और कनाडा में टैल्क बेबी पाउडर की बिक्री बंद कर दिया था लेकिन बाकी देशों में इसकी बिक्री होती रही.

दिग्गज अमेरिकी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने अगले साल 2023 से टैल्क वाले बेबी पाउडर की बिक्री नहीं करने का फैसला किया है. इस पाउडर के चलते कैंसर होने की शिकायतों पर कंपनी हजारों मुकदमों का सामना कर रही है और अमेरिका व कनाडा में इसकी बिक्री दो साल पहले ही बंद हो चुकी. अब कंपनी ने दुनिया के बाकी देशों में इसकी बिक्री को रोकने का फैसला किया है. कंरनी ने कहा है कि टैल्क की बजाय अब इसमें कॉर्नस्टार्च का इस्तेमाल किया जाएगा. बता दें कि इसी टैल्क को लेकर कंपनी को मुकदमों का सामना करना पड़ा है.

Corporate Tax: अप्रैल-जुलाई में कंपनियों से अधिक वसूली, आईटी विभाग ने आंकड़ों के जरिए नए टैक्स सिस्टम का किया बचाव

38 हजार मुकदमों के चलते अमेरिका-कनाडा में बिक्री बंद

करीब दो साल पहले जॉनसन एंड जॉनसन ने कम बिक्री के चलते अमेरिका और कनाडा में टैल्क बेबी पाउडर की बिक्री बंद कर दिया था. कंपनी को पाउडर की वजह से कैंसर से मारे गए लोगों के परिजनों से करीब 38 हजार मुकदमों का सामना करना पड़ रहा है. आरोपों के मुताबिक जॉनसन एंड जॉनसन के टैल्क आधारित पाउडर में एस्बेटस है जिससे कैंसर होता है.

‘Har Ghar Tiranga’ अभियान के तहत घर-घर लहरा रहा तिरंगा, लेकिन इन बातों का जरूर रखें ख्याल

कंपनी का आरोपों से इनकार लेकिन शोध में विपरीत बात

जॉनसन एंड जॉनसन ने आरोपों से इनकार किया है और उसका दावा है कि दशकों का वैज्ञानिक परीक्षण और नियामकीय मंजूरी यह साबित करती है उसका टैल्क पाउडर सुरक्षित हैं और इसमें एस्बेटस नहीं है. हालांकि करीब चार साल पहले न्यूज एजेंसी Reuters ने अपनी जांच में पाया था कि कंपनी को अपने टैल्क प्रॉडक्ट में एस्बेटस होने की दशकों से जानकारी थी. कंपनी के आंतरिक रिकॉर्ड और अन्य तथ्यों से यह साबित होता है कि कम से कम 1971 से और वर्ष 2000 के दशक के शुरुआती वर्षों में इसके टैल्क पाउडर में कभी-कभी एस्बेटस की थोड़ी मात्रा पाई गई थी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News