सर्वाधिक पढ़ी गईं

China Evergrande Crisis : चीन की इस कंपनी ने दुनिया भर में मचाया कोहराम, क्या भारत के शेयर बाजारों को भी ले डूबेगी?

चीन की यह रियल एस्टेट कंपनी इतनी बड़ी है और इस पर इतना कर्ज लदा हुआ कि यह दुनिया भर के बाजारों में हड़कंप मचा सकती है.

September 21, 2021 5:39 PM
“Some have attributed the sudden dip (in Bitcoin) to the currently ongoing Evergrande situation in China which has already caused turmoil in traditional markets,” Jonas Luethy of GlobalBlock had said on Monday.

सोमवार को भारत समेत दुनिया भर के शेयर बाजार गिर गए. इसकी एक अहम वजह थी चीन की दूसरी सबसे बड़ी और सबसे ज्यादा कर्ज से लदी रियल एस्टेट कंपनी Evergrande. इस कंपनी पर जल्द ही रेगुलेटरी कार्रवाई का आशंका है. आने वाले दिनों में यह किसी भी समय दिवालिया हो सकती है. यह कंपनी इतनी बड़ी है और इस पर इतना कर्ज लदा हुआ कि यह दुनिया भर के बाजारों में हड़कंप मचा सकती है. देश के जाने-माने बैंकर और कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी और सीईओ उदय कोटक ने कहा है कि Evergrande चीन की लेहमैन ब्रदर्स साबित हो सकती है. गौरतलब है कि लेहमैन ब्रदर्स अमेरिका स्थित ग्लोबल फाइनेंस कंपनी थी, जो 2008 में में दिवालिया हो गई थी. इसका भी संबंध अमेरिका के रियल एस्टेट क्राइसिस से जुड़ा था. इस कंपनी के दिवालिया होने के साथ ही पूरी दुनिया भारी वित्तीय संकट में घिर गई थी.

क्या है Evergrande का संकट?

Evergrande की शुरुआत 1996 में बोतलबंद पानी के कारोबार शुरू हुई थी. इसके बाद इसने पिग फार्मिंग और रियल एस्टेट कारोबार शुरू किया. पिछले काफी समय से यह कंपनी चीन के रियल एस्टेट कारोबार का पोस्टर ब्वॉय बनी हुई है. काफी वक्त तक यह कंपनी चीन के रियल एस्टेट के बढ़ते दाम पर सवारी करती रही. कंपनी ने तेजी से विस्तार किया और लगभग 250 शहरों में मिडिल क्लास लोगों को अपने घर का सपना बेचना शुरू किया.

फॉर्च्यून 500 कंपनी में शामिल इस कंपनी पर 300 अरब डॉलर का कर्ज है और इस सप्ताह इसे अपना कर्ज अदा करना है. अगर Evergrande अपना कर्ज अदा करने में नाकाम रहती है तो इससे चीन समेत दुनिया भर के बाजारों में भारी उथल-पुथ मचल सकती है. या तो चीन सरकार को इसे बेलआउट करना पड़ सकता है या फिर इसकी संपत्तियों को बेचा जा सकता है. कंपनी का फेल होने का असर सिर्फ चीन के रियल एस्टेट कारोबार पर ही नहीं पड़ेगा. यह कंपनी ऑटो,ऑनलाइन मीडिया प्लेटफॉर्म, हेल्थ फूड और हेल्थकेयर प्रोजेक्ट में भी मौजूद है. लिहाजा कंपनी फेल होती है बड़ी तादाद में लोग बेरोजगार होंगे. ऐसे वक्त में जब चीन की अर्थव्यवस्था कोविड के असर से बाहर निकलने की कोशिश कर रही है तो यह उसके लिए एक बड़ा झटका साबित होगा.

Evergrande के दिवालिया होने का ग्लोबल इकोनॉमी पर कितना असर?

‘इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक चीन के प्रॉपर्टी बाजार में बूम की शुरुआत 1990 के मध्य में शुरू हुई थी. कहा जा रहा है कि चीन की तीन चौथाई हाउसहोल्ड वेल्थ हाउसिंग सेक्टर में लॉक है. अगर देश के दूसरी बड़ी रियल एस्टेट कंपनी दिवालिया होती है तो इसका चीन की पूरी इकोनॉमी पर घातक असर तो होगा ही यह दुनिया भर की आर्थिक रफ्तार को प्रभावित कर सकता है और इससे ग्लोबल कमोडिटी और फाइनेंशियल को भारी झटका लगेगा.

भारत के शेयर बाजारों में क्या होगा?

भारत के शेयर बाजारों में इस साल की शुरुआत से मेटल शेयर काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे. लेकिन सोमवार को ये शेयर काफी गिर गए. विश्लेषकों का मानना है कि यह शॉर्ट टर्म करेक्शन है लेकिन अगर Evergrande संकट नहीं सुलझा तो इसका स्थायी असर भारतीय बाजारों में दिख सकता है. भारत से काफी लौह अयस्क का निर्यात चीन को होता है. अगर Evergrande Crisis नहीं सुलझा तो चीन के रियल एस्टेट स्लो डाउन का असर यहां पड़ना लाजिमी है. हालांकि कुछ विश्लेषकों की राय अलग है. जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के चीफ इनवेस्टमेंट स्ट्रेटजिस्ट वी के विजय कुमार ने फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन के क्षितिज भार्गव से कहा कि अगर चीन के रियल एस्टेट सेक्टर में रेगुलेटरी कार्रवाई हुई और Evergrande संकट नहीं सुलझा तो भारत के लिए नया मौका खुल सकता है. पहले भी वहां टेक्नोलॉजी कंपनियों पर रेगुलेटरी सख्ती की वजह से ग्लोबल निवेशक भारतीय बाजार की ओर रुख कर रहे हैं. चीन के रियल एस्टेट सेक्टर का यह संकट और भी निवेशकों को भारत को ओर मोड़ सकता है.

IRCTC की साइट से लाखों यात्रियों की जानकारी लीक होने से बची, 17 साल के स्टूडेंट ने सिस्टम में पकड़ा बग

Evergrande के डिफॉल्ट की आशंका में ग्लोबल मार्केट में गिरावट

Evergrande group के डिफॉल्ट करने की आशंका से भारत समेत दुनिया भर के शेयर बाजारों में बिकवाली का दौर शुरू हो गया है. अमेरिका में सोमवार को डो-जोंस 1.78 फीसदी गिर गया वहीं एसएंडपी 500 में भी 1.7 फीसदी की गिरावट आई. चीन का मार्केट आज बंद है लेकिन पिछले एक सप्ताह से हेंगसेंग 3.5 फीसदी गिर गया है . जापानी शेयर मार्केट में भी गिरावट है. हॉन्गकॉन्ग में लिस्ट Evergrande इस सप्ताह 16.4 फीसदी गिर चुका है. साल की शुरुआत से यह शेयर 84.5 फीसदी गिर चुका है. भारत शेयर बाजार सोमवार को इसके असर से सोमवार को एक फीसदी गिर चुके हैं. मंगलवार को भारतीय बाजार बढ़ कर बंद हुए लेकिन शुरुआत में यह भारी दबाव में ट्रेड कर रहे थे. फिलहाल Evergrande संकट दुनिया भर की निगाहें टिकी हुई हैं. उदय कोटक न तो यहां तक कह दिया है कि यह चीन का लेहमैन ब्रदर्स साबित हो सकती है. उनका यह भी कहना था कि इसने अपने देश के IL&FS संकट की याद दिला दी है.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. China Evergrande Crisis : चीन की इस कंपनी ने दुनिया भर में मचाया कोहराम, क्या भारत के शेयर बाजारों को भी ले डूबेगी?

Go to Top