मुख्य समाचार:

इंटरपोल ने मेहुल चौकसी के खिलाफ जारी किया रेड कॉर्नर नोटिस, क्या है इस नोटिस का मतलब?

करीब 14 हजार करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं.

December 13, 2018 12:06 PM
Interpol issues Red Corner Notice against Mehul Choksi, what is Red Corner Notice, What is Interpol, Nirav Modi, PNB Scam. Whio is Mehul Choksiकरीब 14 हजार करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं.

इंटरपोल ने भारत की जांच एजेंसी CBI के अनुरोध पर PNB घोटाले के एक आरोपी और भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है. करीब 14 हजार करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं. चौकसी के एंटीगुआ में रहने की खबर है. इंटरनपोल इससे पहले इस साल जुलाई में नीरव मोदी के खिलाफ भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर चुका है.

मेहुल चौकसी कौन है?

मेहुल की कंपनी गीतांजलि जेम्स लिमिटेड कंपनी का मालिक है. यह कंपनी दुनिया भर में हीरों का निर्यात करती है. गीतांजलि कंपनी की स्थापना साल 1966 में मेहुल चौकसी के पिता ने की थी. मेहुल चौकसी, नीरव मोदी का मामा है. घोटाला सामने आने से पहले ही यह देश छोड़कर भाग निकला. अभी यह एंटीगुआ में है. मोदी सरकार इसके प्रत्यर्पण की कोशिशों में जुटी है. घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव और उसका भाई निशाल 1 जनवरी को भारत छोड़कर चले गए थे. मेहुल 4 जनवरी को गया था.

क्या है PNB घोटाला?

पंजाब नेशनल बैंक ने इस साल की शुरुआत में ल स्‍टॉक एक्‍सचेंज बीएसई को बताया कि उसने 1.8 अरब डॉलर (करीब 11,356 करोड़ रुपए) का संदिग्‍ध ट्रांजैक्‍शन पकड़ा है. इस घोटाले की शुरुआत 2011 से हुई थी. 7 साल में हजारों करोड़ की रकम फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई.  बैंक के अनुसार, इन ट्रांजैक्‍शन के आधार पर विदेश में कुछ बैंकों ने उन्हें (चुनिंदा अकाउंट होल्‍डर्स को) कर्ज दिया.

इस पूरे फ्रॉड को लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) के जरिए अंजाम दिया गया. यह एक तरह की गारंटी होती है, जिसके आधार पर दूसरे बैंक अकाउंटहोल्डर को पैसा मुहैया करा देते हैं. अब यदि अकाउंटहोल्डर डिफॉल्ट कर जाता है तो एलओयू मुहैया कराने वाले बैंक की यह जिम्मेदारी होती है कि वह संबंधित बैंक को बकाये का भुगतान करे. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अनुसार, नीरव मोदी ने मनी लॉन्ड्रिंग के लिए देश-विदेश में डमी कंपनियां बनाईं. घोटाले में नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चौकसी के साथ ही नीरव की पत्नी और भाई भी आरोपी हैं. जनवरी के पहले हफ्ते में ये सभी विदेश भाग गए थे.

क्या है इंटरपोल?

इंटरपोल यानी इंटरनेशनल क्रिमिनल पुलिस ऑर्गनाइजेशन एक ऐसी संस्था है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी देशों की पुलिस के बीच कोआॅर्डिनेशन का काम करती है. इसमें इंटरपोल से सदस्य देशों की पुलिस शामिल होती है. यह संस्था 1923 से काम कर रही है. इंटरपोल 8 तरह नोटिस जारी करती है, इन्हीं में से एक रेड कॉर्नर नोटिस है. इंटरपोल इसे राष्ट्रीय केंद्रीय ब्यूरो के कहने पर लागू करता है. इसे अंग्रेजी, फ्रेंच, अरबी और स्पेनिश में छापा जाता है.

Red Corner Notice किसे कहते हैं?

रेड कॉर्नर नोटिस वांछित अपराधियों की गिरफ्तारी या उनके प्रत्यर्पण को हासिल करने के लिए जारी किया जाता है. रेड कॉर्नर नोटिस एक ऐसे व्यक्ति को ढूंढने और उसे अस्थायी रूप से गिरफ्तार करने का अनुरोध है जिसे आपराधिक मामले में दोषी ठहराया गया है. हालांकि सिर्फ रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने का मतलब यह नहीं है कि व्यक्ति दोषी है, उसे अदालत द्वारा दोषी ठहराया जाना चाहिए.

जिस व्यक्ति के खिलाफ “इंटरपोल” ने रेड कार्नर नोटिस जारी किया है; इंटरपोल उस वांछित व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए किसी सदस्य देश को मजबूर नहीं कर सकता है. प्रत्येक सदस्य देश को यह अधिकार है कि वह यह तय करे कि उसकी सीमा के भीतर इंटरपोल के ‘रेड कार्नर नोटिस’ का क्या कानूनी मूल्य है. अर्थात इस नोटिस में यह प्रावधान है कि किसी भी सदस्य देश की संप्रभुता के लिए किसी प्रकार का खतरा उत्पन्न ना हो. भारत सरकार के अनुरोध पर दाऊद इब्राहिम के खिलाफ यह नोटिस जारी किया गया है.

 

Input : PTI

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. इंटरपोल ने मेहुल चौकसी के खिलाफ जारी किया रेड कॉर्नर नोटिस, क्या है इस नोटिस का मतलब?

Go to Top