मुख्य समाचार:
  1. चीन से बढ़ेगा नए दौर का कॉम्पिटिशन, अमेरिकी एक्सपर्ट ने कहा- अंतरिक्ष में तैयार रहे भारत

चीन से बढ़ेगा नए दौर का कॉम्पिटिशन, अमेरिकी एक्सपर्ट ने कहा- अंतरिक्ष में तैयार रहे भारत

भारत की ओर से पिछले महीने किए गए एसैट मिसाइल के परीक्षण के बाद भारत और चीन के बीच नए दौर का कॉम्पिटिशन बढ़ सकता है.

April 17, 2019 5:26 PM
Indias ASAT test, China, India china relation, anti-satellite missile test, Beijing, long-term space competition, US, Russia, China, ASAT capabilities, Ashley J Tellis, Tata Chair, भारत, चीन, भारत चीन संबंध, एसैट परीक्षण, एसैट मिसाइल, अमेरिकाभारत की ओर से पिछले महीने किए गए एसैट मिसाइल के परीक्षण के बाद भारत और चीन के बीच नए दौर का कॉम्पिटिशन बढ़ सकता है.

भारत की ओर से पिछले महीने किया गया एसैट (ASAT) मिसाइल के परीक्षण के बाद भारत और चीन के बीच नए दौर का कॉम्पिटिशन बढ़ सकता है. एक अमेरिकी एक्सपर्ट ने यह आकलन करते हुए कहा है कि भारत को अब खुद विस्तृत अंतरिक्ष प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार रहना चाहिए.

बीते 27 मार्च को भारत ने इतिहास रचते हुए लोवर आर्बिट के एक सैटेलाइट को जमीन से आकाश में मार करने वाली मिसाइल से मार गिराया था. इससे देश को वैश्विक अंतरिक्ष शक्ति के रूप में पहचान मिली और भारत ऐसी क्षमता हासिल करने वाला विश्व का चौथा देश बन गया. इससे पहले यह क्षमता केवल रूस, अमेरिका और चीन के ही पास थी.

कार्नेगी एंडाउमेंट फॉर इंटरनेशनल पीस के सीनियर रिसर्चर और टाटा चेयर फॉर स्ट्रैटजिक अफेयर्स के एश्ले जे टेलिस ने कहा, ‘‘भारतीय एसैट परीक्षण वास्तव में चीन की ओर लगाया गया निशाना है. अगर यह चुपचाप भी चले, तो भी इससे बीजिंग के साथ केवल प्रतिद्वंद्विता में बढ़ोतरी होगी.’’

उन्होंने कहा कि इससे यह बात अब छिपी नहीं है कि अब नई दिल्ली विश्व स्तर पर बड़ी भूमिका निभाना चाहता है. उन्होंने जोर देकर कहा कि अब भारत को दीर्घावधि वाली अंतरिक्ष प्रतिस्पर्धा के लिए खुद को तैयार करना होगा. उन्होंने कहा कि भारत को अब बढ़ते चीनी खतरों के बावजूद अपनी अंतरिक्ष क्षमता को अवश्य ही बढ़ाना चाहिए.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop