मुख्य समाचार:
  1. भारत रुपये में कर सकेगा ईरान को तेल का पेंमेंट, करार पर लगी मुहर

भारत रुपये में कर सकेगा ईरान को तेल का पेंमेंट, करार पर लगी मुहर

भारतीय रिफाइनरी कंपनियां, नेशनल ईरानियन आॅयल कंपनी (NIOC) के यूको बैंक खाते में रुपये में भुगतान करेंगी.

December 6, 2018 6:59 PM
India inks pact with Iran to pay crude bill in rupeeअमेरिका ने भारत और सात अन्य देशों को प्रतिबंध के बावजूद ईरान से कच्चा तेल खरीदने की छूट दी है. ईरान पर यह प्रतिबंध 5 नवंबर से लागू हुआ है. (Reuters)

भारत ने ईरान को कच्चे तेल का पेमेंट रुपये में करने का करार किया है. बता दें कि अमेरिका ने भारत और सात अन्य देशों को प्रतिबंध के बावजूद ईरान से कच्चा तेल खरीदने की छूट दी है. ईरान पर यह प्रतिबंध 5 नवंबर से लागू हुआ है. इसी के बाद रुपये में भुगतान के लिए एमओयू किया गया.

सूत्रों ने बताया कि भारतीय रिफाइनरी कंपनियां, नेशनल ईरानियन आॅयल कंपनी (NIOC) के यूको बैंक खाते में रुपये में भुगतान करेंगी. इसमें से आधी राशि ईरान को भारत द्वारा किए गए वस्तुओं के एक्सपोर्ट के भुगतान के निपटान को रखी जाएगी.

6 महीनों में भारत मैक्सिमम तीन लाख बैरल तेल का कर सकता है आयात

अमेरिकी प्रतिबंधों के तहत भारत द्वारा ईरान को खाद्यान्न, दवाओं और चिकित्सा उपकरणों का एक्सपोर्ट किया जा सकता है. भारत को अमेरिका से यह छूट आयात घटाने तथा एस्क्रो भुगतान के बाद मिली है. इस 180 दिन की छूट के दौरान भारत प्रतिदिन ईरान से अधिकतम तीन लाख बैरल कच्चे तेल का आयात कर सकेगा. इस साल भारत का ईरान से कच्चे तेल का औसत आयात 5,60,000 बैरल प्रतिदिन रहा है.

चीन के बाद भारत में आता है ईरान से सबसे ज्यादा तेल

सूत्रों ने कहा कि भारत, ईरान के तेल का चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा खरीदार है. अब ईरान से भारत मासिक आधार पर 12.5 लाख टन या डेढ़ करोड़ टन सालाना या तीन लाख बैरल प्रतिदिन की कच्चे तेल की ही खरीद कर सकता है. वित्त वर्ष 2017-18 में भारत ने ईरान से 2.26 करोड़ टन या 4,52,000 बैरल प्रतिदिन की तेल की खरीद की थी.

Go to Top