मुख्य समाचार:

कश्मीर पर मध्यस्थता के लिए मोदी ने ट्रम्प से कभी नहीं कहा: संसद में विदेश मंत्री

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने संसद में स्पष्ट किया कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से ही किया जाएगा.

July 23, 2019 1:19 PM
India did not request Donald Trump to mediate on Kashmir says Foreign Minister Jaishankarविदेश मंत्री एस जयशंकर ने संसद में स्पष्ट किया कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से ही किया जाएगा.

कश्मीर मसले पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दावे को भारत सरकार ने सिरे से खारिज किया है. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने संसद में मंगलवार को स्पष्ट कहा कि प्रधानमंत्री ने ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है और पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से ही किया जाएगा.

कश्मीर को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दावे पर राज्यसभा में दिए गए एक बयान में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, ‘‘हम सदन को पूरी तरह आश्वस्त करना चाहेंगे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है.’’ विदेश मंत्री ने यह भी कहा ‘‘हम अपना रूख फिर से दोहराते हैं कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से ही किया जाएगा.’’

सीमा पार आतंकवाद बंद होने के बाद बातचीत

उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान के साथ कोई भी बातचीत सीमा पार से जारी आतंकवाद बंद होने के बाद, लाहौर घोषणापत्र और शिमला समझौते के अंतर्गत ही होगी.’’ विदेश मंत्री के इस बयान के बाद कांग्रेस सहित विपक्षी सदस्यों ने प्रधानमंत्री से इस विषय पर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की.
हालांकि, सभापति एम वेंकैया नायडू ने शून्यकाल की कार्यवाही शुरू करने का निर्देश दिया. लेकिन, विपक्षी सदस्य प्रधानमंत्री से स्प्ष्टीकरण की मांग पर अड़े रहे और अपने स्थान से आगे आ गए. सदन में सदस्यों का शोर शराबा जारी रहा.

सभापति ने सदस्यों से अपने स्थान पर जाने और शून्यकाल चलने देने का अनुरोध किया. लेकिन सदन में व्यवस्था बनते न देख उन्होंने 11 बज कर 15 मिनट पर ही कार्यवाही दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

व्हाइट हाउस की सफाई

ट्रम्प के इस बयान के बाद उपजे विवाद के बाद ट्रम्प प्रशासन ने भी सफाई देनी शुरू कर दी है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच एक ‘द्विपक्षीय’ मुद्दा है और अमेरिका दोनों देश के बीच वार्ता का स्वागत करता है. साथ ही मंत्रालय ने कहा कि हमारा मानना है कि भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी वार्ता की सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि पाकिस्तान अपनी सीमा में चरमपंथियों एवं आंतकवादियों के खिलाफ निरंतर एवं स्थिर कार्रवाई करे.

क्या था ट्रम्प का दावा?

अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावा किया कि मोदी और उन्होंने पिछले महीने जापान के ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर कश्मीर मुद्दे पर चर्चा की थी, जहां भारतीय प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें कश्मीर पर तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की पेशकश की थी. ट्रंप ने कहा कि मैं दो सप्ताह पहले प्रधानमंत्री मोदी के साथ था और हमने इस विषय (कश्मीर) पर बात की थी.ट्रंप ने कहा कि यदि दोनों देश कहेंगे तो वह मदद के लिए तैयार हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. कश्मीर पर मध्यस्थता के लिए मोदी ने ट्रम्प से कभी नहीं कहा: संसद में विदेश मंत्री

Go to Top