मुख्य समाचार:

क्या मिल गई को​रोना की दवा? ट्रायल में Dexamethasone कारगर, AstraZeneca ने बना ली 1 साल तक बचाने वाली वैक्सीन!

एक सस्ती और व्यापक रूप से उपलब्ध दवा कोरोना वायरस से गंभीर रूप से ग्रस्त लोगों का जीवन को बचाने में मदद कर सकती है.

Updated: Jun 16, 2020 9:38 PM

COVID19: Dexamethasone proves first life-saving drug in coronavirus treatment, AstraZeneca COVID-19 vaccine likely to protect for a year, claims CEO

एक सस्ती और व्यापक रूप से उपलब्ध दवा कोरोना वायरस से गंभीर रूप से ग्रस्त लोगों का जीवन को बचाने में मदद कर सकती है. इस दवा का नाम है Dexamethasone और यह दावा है ब्रिटेन के विशेषज्ञों का. उनका कहना है कि लो डोज स्टेरॉयड ट्रीटमेंट Dexamethasone महामारी के खिलाफ लड़ाई में बड़ा ​ब्रेकथ्रो है. वहीं AstraZeneca (AZN.L) के सीईओ Pascal Soriot का कहना है कि कंपनी की संभावित कोरोनावायरस वैक्सीन द्वारा एक साल तक COVID-19 से बचाव होने की संभावना है.

BBC की रिपोर्ट के मुताबिक, Dexamethasone एक पुरानी और सस्ती दवा है जो कोरोना वायरस से गंभीर रूप से बीमार काफी लोगों की जान बचाने में सफल हुई है. Dexamethasone दवा की हल्की खुराक से ही कोरोना से लड़ने में मदद मिलती है. ट्रायल के दौरान पता चला कि वेंटिलेटर पर रहने वाले मरीजों को ये दवा दिए जाने पर मौत का खतरा एक तिहाई घट गया. वहीं जो लोग ऑक्सीजन पर थे, उनकी मौत का खतरा इस दवा से वन फिफ्थ घट गया.

2000 से अधिक लोगों पर ट्रायल

रिसचर्स का कहना है कि महामारी की शुरुआत से ब्रिटेन में इस दवा का इस्तेमाल किया जा रहा था. अब तक इससे अधिकतम 5000 लोगों को बचाया जा सका है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की टीम की ओर से किए गए ट्रायल में 2104 हॉस्पिटल पेशेंट्स को dexamethasone दी गई और उनकी तुलना 4321 ऐसे मरीजों से की गई, जिनकी साधारण तरीके से देखभाल हो रही थी और दवा नहीं दी गई. दवा के इस्तेमाल के बाद श्वसन संबंधी मशीनों के साथ उपचार करा रहे मरीजों की मृत्यु दर 35 फीसदी तक घट गई. जिन लोगों को ऑक्सीजन की सहायता दी जा रही थी उनमें भी मृत्यु दर 20 फीसदी कम हो गई.

रिसर्चर्स का कहना है कि जहां कोविड19 के मरीज बेहद ज्यादा हैं, वहां इससे बड़ा लाभ हो सकता है. 20 में से 19 मरीज बिना हॉस्पिटल गए ठीक हो जाते हैं और हॉस्पिटल में एडमिट होने वालों में से कुछ को ऑक्सीजन या मैकेनिकटल वेंटिलेशन की जरूरत पड़ सकती है. यही वे हाई रिस्क पेशेंट हैं, ​िजनके मामले में dexamethasone मददगार रही है. Dexamethasone का इस्तेमाल 1960s की शुरुआत से हो रहा है. इससे कई तरह की बीमारियों जैसे rheumatoid arthritis और अस्थमा का ट्रीटमेंट किया जाता रहा है.

ICICI लोम्बार्ड ने COVID-19 क्लेम किया और आसान, घर पर इलाज कराने पर भी कवर का फायदा

AstraZeneca की वैक्सीन

AstraZeneca (AZN.L) के सीईओ Pascal Soriot का कहना है कि कंपनी की संभावित कोरोनावायरस वैक्सीन एक साल तक COVID-19 से बचाव कर सकती है. AstraZeneca ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित वैक्सीन का मानवों पर ट्रायल शुरू कर दिया है. ब्रिटेन में फेज 1 ट्रायल जल्द पूरा होने वाला है, वहीं फेज 3 ट्रायल भी शुरू हो चुका है.

सब ठीक रहा तो अक्टूबर से डिलीवरी

Soriot ने आगे कहा कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो क्लीनिकल ट्रायल्स का परिणाम अगस्त/सितंबर में आ जाएगा. हम साथ में वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग भी कर रहे हैं. सब कुछ ठीक रहा तो अक्टूबर से डिलीवरी शुरू हो जाएगी. AstraZeneca ने शनिवार को कहा था कि कंपनी ने फ्रांस, जर्मनी, इटली और नीदरलैंड के साथ संभावित वैक्सीन की 40 करोड़ डोज सप्लाई करने के लिए कॉन्ट्रैक्ट साइन किए हैं. ब्रिटेन और अमेरिका के साथ भी डील हो गई है.

Input: Reuters

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. क्या मिल गई को​रोना की दवा? ट्रायल में Dexamethasone कारगर, AstraZeneca ने बना ली 1 साल तक बचाने वाली वैक्सीन!

Go to Top