Russia Coronavirus Vaccine: रूस में दुनिया का पहला कोविड-19 वैक्सीन मंजूर, पुतिन की बेटी को भी लग चुका है टीका

Russia Coronavirus (Covid-19) Vaccine: कोविड वैक्सीन के इलाज को लेकर बड़ी खबर आ रही है. रूस में कोविड वैक्सीन को रेगुलेटरी मंजूरी मिल गई है.

covid vaccine, COVID-19 treatment, vaccine for coronavirus treatment, regulatory approval for the world's first COVID-19 vaccine in russia, russian health ministry given regulatory approval for covid-19 vaccine
In the form of discarded plastic, 400 tonnes of waste (from discarded syringes) is likely to be produced.
covid vaccine, COVID-19 treatment, vaccine for coronavirus treatment, regulatory approval for the world's first COVID-19 vaccine in russia, russian health ministry given regulatory approval for covid-19 vaccine
कोविड वैक्सीन के इलाज को लेकर बड़ी खबर आ रही है. रूस में कोविड वैक्सीन को रेगुलेटरी मंजूरी मिल गई है.

Coronavirus (Covid-19) Vaccine: कोविड वैक्सीन के इलाज को लेकर बड़ी खबर आ रही है. रॉयटर्स के मुताबिक, रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने जानकारी दी है कि देश में कोविड-19 वैक्सीन को रेगुलेटरी मंजूरी मिल गई है. यह दुनिया की ऐसी पहली वैक्सीन है, जिसे किसी देश में रेगुलेटरी मंजूरी मिली हो. खबरों के मुताबिक, पुतिन की एक बेटी को भी टीका लगाया जा चुका है. रूस ने हाल ही में यह दावा किया था कि वहां वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रॉयल पूरी तरह से सेफ और कारगर रहा है. इसे मिड अगस्त तक मंजूरी मिल जाएगी. जिसके बाद अक्टूबर यानी इसी साल से इसका इस्तेमाल आम आदमी के लिए हो सकेगा. रूस ने दावा किया है कि वह देश में अक्टूबर से ही मास वैक्सीनेशन का कार्यक्रम शुरू करने वाला है.

रूस का दावा है कि यह वैक्‍सीन उसके 20 साल के शोध का नतीजा है. रिसर्चर्स का दावा है कि वैक्‍सीन में जो पार्टिकल्‍स यूज हुए हैं, वे खुद को रेप्लिकेट (कॉपी) नहीं कर सकते. रिसर्च और मैनुफैक्‍चरिंग में शामिल कई लोगों ने खुद को इस वैक्‍सीन की डोज दी है.

क्लिनिकल ट्रॉयल सुरक्षित और कारगर

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, रूस में डेवलप की गई इस वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रॉयल हाल ही में पूरा किया गया है. इस वैक्सीन को मास्को बेस्ड गैमेलेया इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है. इंस्टीट्यूट की ओर से कहा गया था कि इसका ट्रॉयल पूरी तरह से सुरक्षित और कारगर रहा है. बता दें कि पिछले महीने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने यह साफ किया था कि कोरोना वायरस महामारी से लड़ने वाली पहली वैक्सीन 2021 के पहले बाजार में आनी मुश्किल है. लेकिन लगता है कि WHO का यह आंकलन गलत साबित होने वाला है.

गवर्नमेंट ने भी दी थी जानकारी

इसी महीने रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि अक्टूबर से कोरोना वैक्सीन आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी. उन्होंने बताया कि गामालेया इंस्टीट्यूट द्वारा तैयार इस वेक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल में नतीजे काफी अच्छे रहे हैं. फिलहाल वैक्सीन रजिस्ट्रेशन और डिस्ट्रीब्यूशन की प्रक्रिया में है. उन्होंने कहा कि हम अक्टूबर से मास वैक्सीनेशन शुरू कर देंगे. सबसे पहले डॉक्टर्स और टीचर्स के लिए वैक्सीन उपलब्ध कराई जाएगी. मिखाइल के मुताबिक रूस की इस वैक्सीन को अगस्त तक मंजूरी मिल जाएगी.

18 जून से शुरू हुए थे ट्रायल

रूस की वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल्स 18 जून को शुरू हुए थे और 38 वॉलंटियर्स को इसे दिया गया था. इन सभी में इम्युनिटी विकसित हुई. वॉलंटियर्स के पहले ग्रुप को 15 जुलाई और दूसरे ग्रुप को 20 जुलाई को डिस्चार्ज कर दिया गया था. अगस्त में तीसरे फेज का ट्रॉयल पूरा हुआ था. हालांकि दुनिया भर के वैज्ञानिक चिंतित हैं कि कहीं अव्वल आने की यह दौड़ रूस के लिए उल्टी साबित न हो जाए. टीका बनाने की वैश्विक प्रक्रिया में रूस के दावे को समर्थन देने के लिए अब तक कोई वैज्ञानिक साक्ष्य प्रकाशित नहीं हुए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News