मुख्य समाचार:
  1. केमिस्ट्री पढ़ाना छोड़ शुरू किया अपना कारोबार, आज दुनिया के अरबपतियों की लिस्ट में है नाम

केमिस्ट्री पढ़ाना छोड़ शुरू किया अपना कारोबार, आज दुनिया के अरबपतियों की लिस्ट में है नाम

चीन की झोंग हुइजुआन लंबे समय तक केमिस्ट्री पढ़ाती थीं और एक दिन उन्होंने इसे छोड़कर अपना कारोबार शुरू करने का फैसला किया. आज उनका नाम ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स में शामिल है.

June 14, 2019 11:00 AM
china, china richest women, richest women, chemistry teacher in Bloomberg Billionaires Index, Bloomberg Billionaires Index, Chemistry Teacher Quit Her Job Now in Bloomberg Billionaires Index, chemistry teacher quit job, 54.5 हजार करोड़ रुपये के शेयरों की मालकिन झोंग अपने परिवार की सबसे अमीर शख्स नहीं हैं. (Image-Bloomberg)

चीन की झोंग हुइजुआन लंबे समय तक केमिस्ट्री पढ़ाती थीं और एक दिन उन्होंने इसे छोड़कर अपना कारोबार शुरू करने का फैसला किया. आज उनका नाम ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स में शामिल है. कैरियर बदलने का उनका फैसला उनके लिए आर्थिक तौर पर बहुत फायदेमंद रहा. हांगकांग में स्थित उनकी कंपनी हानसोह फार्मास्यूटिकल ग्रूप आज 72.3 हजार करोड़ रुपये (104 करोड़ डॉलर) की मार्केट वैल्यु के साथ पब्लिक होने जा रही है. इसमें झांग की 68 फीसदी हिस्सेदारी है जिसका बाजार मूल्य 54.5 हजार करोड़ रुपये (790 करोड़ डॉलर) है. हानसोह फार्मा समूह चीन में साइकोट्रॉपिक दवा बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी है. ट्रेड वार के कारण भारत में बन सकते हैं आईफोन, चीन में बंद हो सकता है निर्माण

झोंग परिवार की सबसे अमीर शख्स नहीं

54.5 हजार करोड़ रुपये के शेयरों की मालकिन झोंग अपने परिवार की सबसे अमीर शख्स नहीं हैं. उनके पति सुन पियाओयांग के पास 64.7 हजार करोड़ रपये की नेटवर्थ है. पियाओयांग की कंपनी जियांग्सू हेंग्रुई मे़डिसिन एंटी-ट्यूमर ड्रग्स बनाती है.

यह कंपनी करीब दो दशक पहले पब्लिक हुई थी और दो दशक में इसके शेयर भाव में 16300 फीसदी तक की बढ़ोतरी हो चुकी है. झोंग की फार्मा कंपनी के पब्लिक होने के बाद उनका परिवार दुनिया के सबसे अमीर फार्मा परिवारों में शामिल हो जाएगा.

IPO से झोंग बनेंगी चीन की तीसरी सबसे अमीर महिला

चीन के हानसोह फार्मास्यूटिकल ग्रुप का आईपीओ आने के बाद झोंग चीन की तीसरी सबसे अमीर शख्स हो जाएंगी. झोंग ने 1982 में केमिस्ट्री की अंडरग्रेजुएट डिग्री हासिल किया था और इसके बाद उन्होंने 1990 के दशक की शुरुआत में एक मिडिल स्कूल में बच्चों को केमिस्ट्री पढ़ाना शुरू किया.

1995 में उन्होंने हानसोह की शुरुआत की. इस कंपनी का आधे से अधिक रेवेन्यू कैंसर ट्रीटमेंट से आता है. झोंग की फार्मा कंपनी के पब्लिक होने के बाद उनका परिवार दुनिया के सबसे अमीर फार्मा परिवारों में शामिल हो जाएगा.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop