मुख्य समाचार:

क्या ठीक होने के बाद फिर हो रहा है कोरोना, लॉकडाउन खत्म होने के क्या है मायने? COVID-19 पर जरूरी सवालों के जवाब

कोरोना वायरस का ऐसा डर बन चुका है कि लोगों के मन में इसे लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं.

April 13, 2020 8:42 AM
Can Covid 19 recur, can coronavirus reinfected after recoverd, WHO, COVID-19 research, कोरोना वायरस, social distancing, lockdownकोरोना वायरस का ऐसा डर बन चुका है कि लोगों के मन में इसे लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं.

कोरोना वायरस ने लगभग पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लिया हुआ है. पिछले कुछ दिनों ने रोजाना औसतन 75 हजार मामले सामने आ रहे हैं. इस बीमारी के चलते मरने वालों की संख्या 1.10 लाख से जयादा हो गई है. इस बीमारी की खतरे का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनियाभर में हर 10 की आबादी पर अब करीब 22 मरीज इससे संक्रमित हो चुके हैं. ऐसे में इसे लेकर लोगों में डर बढ़ता जा रहा है. कई तरह के सवाल लोगों के मन में कोरोना वायरस को लेकर उठ रहे हैं. मसलन क्या एक बार अगर मरीज इस बीमारी से निजात पा जाए तो उसे तुरंत फिर संक्रमित होने का खतरा है. लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग पर भी लोग सवाल पूछ रहे हैं. यहां ऐसे ही कुछ जरूरी सवालों के जवाब कंफेडरेशन आफ मेडिकल एसोसिएशन इन एशिया एंड ओसेनिया (CMAAO) के प्रेसिडेंट डॉ केके अग्रवाल की हवाले से मिने दी है.

1. क्या कोरोना वायरस का मरीज ठीक होने के तुरंत बाद भी संक्रमित हो सकता है?

जवाब: हां. कोरोना वायरस का मरीज बीमारी से निजात पाने के तुरंत बाद भी संक्रमित हो सकता है. बीते शनिवार को WHO की ओर से यह स्पष्ट किया गया है कि कुछ ऐसे मामले मिले हैं, जिनमें कोरोना वायरस के मरीजों में ठीक होने के बाद फिर टेस्ट पॉजिटिव आया है.

बीते शुक्रवार को दक्षिण कोरिया के हेल्थ अधिकरियों द्वारा यह जानकारी दी गई है कि COVID-19 के 91 ऐसे मरीज थे, जो पूरी तरह से स्वस्थ हो गए थे. लेकिन बाद में उनमें कोरोना वायरस रीएक्टिवेट हो गया. इसके बाद से WHO की ओर से ऐसे कुछ मरीजों में जांच करवाई भी जा रही है.

2. अभी WHO की डिस्चार्ज पॉलिसी क्या है?

जवाब: वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन क्लीनिकल मैनेजमेंट गाइडलाइन के अनुसार अगर किसी मरीज में कोरोना वायरस का इलाज चल रहा है तो उसे अस्पताल से डिस्चार्ज करने के पहले उसका 24 घंटे में 2 बार टेस्ट निगेटिव आना चाहिए.

3. क्या COVID-19 का लांग टर्म पल्यूशन से भी है लिंक?

जवाब: WHO की ओर से इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है. लेकिन इस बारे में हाल ही में एक स्टडी सामने आई है, जिसमें COVID-19 हेल्थ इंपैक्ट और लांग टर्म पल्यूशन का लिंक दिखाया गया है. हार्वर्ड टीएच चान स्कूल आफ पब्लिक हेल्थ के डाटा साइंस इनिशिएटिव डायरेक्टर डॉ फ्रैंसेस्का डोमिनिसी के अनुसार यह देखा गया है कि यूएस जैसे देश के शहरों में जहां 15 से 17 साल साल से हाई लेवल का एयर पल्यूशन देखा गया है, वहां कोरोना वायरस के चलते मोर्टेलिटी रेट भी ज्यादा है. स्टडी के अनुसार PM 2.5 के लांग टर्म एक्सपोजर में 1 यूनिट की बढ़ोत्तरी से खतरा 15 फीसदी बढ़ सकता है.

4. सोशल डिस्टेंसिंग कब खत्म होगा, इसके क्या है मायने?

जब समय के साथ नए आने वाले मामले कम होते जाएंगे.
जब देश में ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग के जरिए ज्यादा से ज्यादा मामले डायगनोस करने की क्षमता बहुत ज्यादा होगी.
जब मेडिकल स्टाफ के पास मास्क, किट, ग्लव्स जैसे अन्य प्रॉपर इक्विपमेंट की पर्याप्त उपलब्धता हो. वहीं अस्पतालों के पास पर्याप्त बेड, वेंटिलेटर व अन्ल्य सुविधाएं हों, जिससे बीमार लोगों का इलाज सुरक्षा के साथ प्रभावशाली तरीके से की जा सके.
जब यह भरोसा हो जाए कि देश में नए मामलों की पहचान करने, उसे आगे फैलने से रोकने और मरीजों का प्रभावशाली इलाज के लिए पर्याप्त हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर का इंतजाम कर लिया गया हो.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. क्या ठीक होने के बाद फिर हो रहा है कोरोना, लॉकडाउन खत्म होने के क्या है मायने? COVID-19 पर जरूरी सवालों के जवाब

Go to Top