मुख्य समाचार:
  1. क्रूड में उबाल: 72 डॉलर के साथ कीमतें 5 महीने में सबसे ज्यादा, आगे कितनी आएगी तेजी?

क्रूड में उबाल: 72 डॉलर के साथ कीमतें 5 महीने में सबसे ज्यादा, आगे कितनी आएगी तेजी?

Brent Crude: ब्रेंट क्रूड की कीमतें 5 महीने के हाई पर

April 17, 2019 2:05 PM
Brent Crude, WTI Crude, Crude, ब्रेंट क्रूड, Crude Prices, Saudi Arab, USA, China, Petrol, DieselBrent Crude: ब्रेंट क्रूड की कीमतें 5 महीने के हाई पर

Brent Crude Prices: ब्रेंट क्रूड की कीमतों में उबाल लगातार जारी है. बुधवार के कारोबार में क्रूड 72 डॉलर प्रति बैरल के पार 72.10 तक चला गया. यह क्रूड का पिछले 5 महीने में सबसे ज्यादा भाव है. एक्सपर्ट का कहना है कि सप्लाई पर पहले से दबाव था, वहीं यूएस में भी स्टॉक गिर गया है, जिसकी वजह से बुधवार को क्रूड 72 डॉलर के पार चला गया. उनका कहना है कि सप्लाई और डिमांड की मौजूदा स्थिति बनी रही तो यह आगे 78 डॉलर तक महंगा हो सकता है. WTI क्रूड भी 68 डॉलर प्रति बैरल तक आ सकता है.

क्रूड इस साल 32 फीसदी महंगा

इंटरनेशनल मार्केट में ब्रेंट क्रूड की कीमतें इस साल अब तक करीब 32 फीसदी तक बढ़ चुकी हैं. 1 जनवरी को क्रूड का भाव 54 डॉलर प्रति बैरल था जो 17 अप्रैल को 72.10 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया. वहीं एक साल में भी यह करीब 9 फीसदी महंगा हो चुका है.

78 डॉलर तक जाएंगे भाव!

एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट कमोडिटी एंड करंसी, अनुज गुप्ता का कहना है कि सऊदी और साथ ही अन्य कुछ प्रमुख तेल उत्पादक देश क्रूड की कीमतों को कंट्रोल में रखना चाहते हैं. वह उस स्थिति में वापस नहीं जाना चाहते जब क्रूड 44 या 45 डॉलर के भाव उपर आ गया था और उनकी अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा था. इसी वजह से इन्होंने प्रोडक्शन कट करने का फैसला किया है. आगे भी यह कटौती जारी रह सकती है.

वहीं, दुनिया के दूसरे सबसे बड़े क्रूड यूजर चीन की ओर से भी डिमांड बढ़ी है, जिसका असर कीमतों पर दिखा है. यूएस में पिछले हु्ते करीब 31 मिलियन बैरल सप्लाई घटकर 452.7 मिलियन बैरल ही रही. अगर ऐसा हुआ तो आने वाले 1.5 से 2 महीने में ब्रेंट क्रूड 76 से 78 डॉलर तक महंगा हो सकता है. डबल्यूटीआई क्रूड के भाव भी 68 डॉलर तक जा सकते हैं.

Crude का उत्पादन 4 साल के लो पर

इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, तेल का उत्पादन मार्च में 30.55 एमबीडी से घटकर 30.13 एमबीडी पर आ गया है, जो चार साल का निचला स्तर है. इसकी मुख्य वजह सऊदी अरब और वेनेजुएला के तेल उत्पादन में भारी कटौती करना है. आईईए ने सऊदी अरब की तेल उत्पादन में अधिक कटौती करने को लेकर आलोचना भी की है. एजेंसी ने अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा है कि ओपेक के सदस्य देशों की अगुआई कर रहे सऊदी अरब ने अपने उत्पादन में ज्यादा कमी कर दी है.

पेट्रोल-डीजल पर भी असर

क्रूड महंगा होने का असर यह है कि 1 जनवरी से अब तक पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा हुआ है. पेट्रोल की बात करें तो 1 जनवरी को दिल्ली में यह 68.65 रुपये प्रति लीटर था, जो 13 अप्रैल को बढ़कर 72.93 रुपये प्रति लीटर हो गया. इसी तरह से डीजल 62.66 से बढ़कर 66.31 रुपये प्रति लीटर हो गया. यानी पेट्रोल 4.28 रुपये और डीजल 3.65 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop