सर्वाधिक पढ़ी गईं

9/11 हमले की 20वीं बरसी पर आतंक के खिलाफ अभियान मजबूत करने की अपील, बाइडेन ने कहा- हमारी एकता अटूट

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एकता बनाए रखने की अपील की है. हमले में मारे गए लोगों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि इन 20 सालों में हमने एक चीज सीखी है और वह यह कि हमारी एकता कभी टूटनी नहीं चाहिए.

September 11, 2021 5:23 PM

अमेरिका में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ट्विन टावरों पर आतंकी हमले की 20 बरसी ( 9/11 anniversary) पर दुनिया के कई देशों में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करने की अपील की गई. अमेरिका पर 11 सितंबर के आतंकी हमले को याद करते अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ( Joe Biden ) ने एकता बनाए रखने की अपील की है. हमले में मारे गए लोगों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि इन 20 सालों में हमने एक चीज सीखी है और वह यह कि हमारी एकता कभी टूटनी नहीं चाहिए. ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि यह हमला आजादी और लोकतंत्र में हमारे विश्वास को डिगा नहीं सका है. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 9/11 के आतंकी हमले का जिक्र करते हुए इसे मानवता पर हमला बताया. उन्होंने कहा कि इस तारीख ने हमें काफी कुछ सिखाया है. आज की तारीख को मानवता पर हमले के लिए जाना जाता है.

11 सितंबर को क्या हुआ था?

11 सितंबर, 2001 को मंगलवार का दिन था. इस दिन अल कायदा के आतंकवादियों ने दो अमेरिकी यात्री विमानों को न्यूयॉर्क स्थित वर्ल्ड ट्रेड टॉवर की दो गगनचुंबी इमारतों से टकरा दिया था. हमले में हजारों लोगों की मौत हुई थी. इस हमले ने केवल अमेरिका बल्कि पूरी दुनिया को हिला दिया था. तब से इसे दुनिया के सबसे खौफनाक हादसों में गिना जाता है. हादसे में कुल 2,977 लोगों की मौत हुई थी. ज्यादातर लोगों की मौत न्यूयॉर्क में हुई थी. बीबीसी के मुताबिक वर्ल्ड ट्रेड टावर से जब पहला विमान टकराया था तब मोटे अनुमान के मुताबिक इनमें 17,400 लोग मौजूद थे. उत्तरी टावर में जहां विमान टकराया था, उससे ऊपर मौजूद कोई शख़्स जीवित नहीं बचा. जबकि दक्षिणी टवर में जहां विमान टकराया, उससे ऊपर की मंजिलों में केवल 18 लोग जीवित बचे.

सैन्य बलों ने NDA में महिलाओं को दी शामिल होने की मंजूरी, केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया फैसला

अलकायदा के खिलाफ अमेरिका ने छेड़ा था अभियान

बीबीसी के मुताबिक इस्लामी चरमपंथी समूह अल कायदा ने अफगानिस्तान से इन हमलों को अंजाम दिया था. अल कायदा चीफ ओसामा बिन लादेन ने मुस्लिम देशों में छिड़े संघर्ष के लिए अमेरिका और मित्र देशों को ज़म्मेदार ठहराया था. अल कायदा के 19 हमलावरों ने इस हादसे को अंजाम दिया था. तीन समूह में पांच-पांच हमलावर थे जबकि चौथी टीम (पेन्सेल्विनिया में क्रैश विमान) में चार हमलावर शामिल थे.11 सितंबर के हमले के एक महीने के भीतर तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने अल कायदा और ओसामा बिन लादेन को खत्म करने के लिए अफगानिस्तान पर हमला कर दिया. अमेरिका को इस मुहिम में दूसरे देशों से मदद भी मिली. करीब दस साल बाद 2011 में ओसामा बिन लादेन को अमेरिकी सैनिकों ने पाकिस्तान के एबटाबाद में मार गिराया.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. 9/11 हमले की 20वीं बरसी पर आतंक के खिलाफ अभियान मजबूत करने की अपील, बाइडेन ने कहा- हमारी एकता अटूट

Go to Top