सर्वाधिक पढ़ी गईं

कोरोना वायरस से रिकवर हुए युवा दोबारा हो सकते हैं संक्रमित, इंटरनेशनल मेडिकल जर्नल Lancet की रिपोर्ट में दावा

युवा मरीज, जो कोरोना वायरस से रिकवर हो गए हैं, वे दूसरी बार कोविड-19 से संक्रमित होने से पूरी तरह सुरक्षित नहीं है.

April 18, 2021 4:13 PM
young people recovered from coronavirus can get infected again says Lancet reportयुवा मरीज, जो कोरोना वायरस से रिकवर हो गए हैं, वे दूसरी बार कोविड-19 से संक्रमित होने से पूरी तरह सुरक्षित नहीं है.

युवा मरीज, जो कोरोना वायरस से रिकवर हो गए हैं, वे दूसरी बार कोविड-19 से संक्रमित होने से पूरी तरह सुरक्षित नहीं है. The Lancet रेसपिरेट्री मेडिसिन द्वारा हाल ही में की गई एक स्टडी में यह पाया गया है. स्टडी के सब्जेक्ट यूएस मराइन्स कॉर्प्स के तीन हजार से ज्यादा स्वस्थ सदस्य थे, जिनमें से अधिकतर की उम्र 18-20 साल के बीच थी. तीन हजार में से, कुल करीब 2346 सदस्यों को स्टडी की अवधि के दौरान देखा गया. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट से यह जानकारी मिली है.

मई 2020 में स्टडी की शुरुआत में, कुल 189 मराइन सीरोपॉजिटिव थे, जबकि 2247 मराइन सीरोनेगेटिव पाए गए. नवंबर 2020 में स्टडी के आखिर में, 189 मराइन में से करीब 19 व्यक्ति कोरोना वायरस से दोबारा संक्रमित पाए गए. दूसरी तरफ, करीब 50 फीसदी मराइन, जो पहले सीरोनेगेटिव थे, वे कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए.

युवाओं को वैक्सीन लगवानी चाहिए: स्टडी

रिसर्च के लेखकों ने कहा कि एंटीबॉडी की मौजूदगी और एक बार कोविड-19 संक्रमण होने के बावजूद, कोरोना वायरस वैक्सीन के तौर पर इम्यूनाइजेशन की कोरोना वायरस के खिलाफ लंबी अवधि की सुरक्षा हासिल करने के लिए अभी भी जरूरत थी. स्टडी में यह भी कहा गया है कि युवा लोगों को भी वैक्सीन लगवाने से नहीं रूकना चाहिए, अगर वे वायरस से एक बार रिकवर हो चुके हैं. और जब उपलब्ध हो, अपना डोज लेना चाहिए. हालांकि, स्टडी के लेखकों ने साफ किया कि स्टडी ग्रुप के बीच दोबारा संक्रमण की मौजूदगी समान नहीं हो सकती है, क्योंकि मिलिट्री बेस पर, कर्मी करीब नजदीकी में रहते हैं और अपनी फिजिकल ट्रेनिंग के दौरान नजदीक निजी संपर्क में होते हैं.

दिल्ली में करीब 25 हजार नए कोरोना केस, 24 घंटों में पॉजिटिविटी रेट 24% से बढ़कर 30%: अरविंद केजरीवाल

स्टडी में पाया गया है कि स्टडी के सदस्य जो कोरोना वायरस से दोबारा संक्रमित हुए, उनमें वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी का स्तर कम था. इस मुख्य कारण के साथ, जो सदस्य दोबारा संक्रमित हुए, उनमें भी कम सामान्य न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी थीं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोरोना वायरस से रिकवर हुए युवा दोबारा हो सकते हैं संक्रमित, इंटरनेशनल मेडिकल जर्नल Lancet की रिपोर्ट में दावा

Go to Top