सर्वाधिक पढ़ी गईं

2020: कोरोना से अर्थव्यवस्था ‘पस्त’, फिर भी इन सेक्टर में खूब हुई कमाई; विनर और लूजर की लिस्ट

Coronavirus Impact: कोरोना वायरस के दौर में भी कुछ इंडस्ट्री ने आपदा को अवसर में बदल दिया.

December 26, 2020 8:26 AM
Coronavirus Impact on IndustriesCoronavirus Impact: कोरोना वायरस के दौर में भी कुछ इंडस्ट्री ने आपदा को अवसर में बदल दिया.

Coronavirus Impact on Industries: कोरोनावायरस (Coronavirus) वैश्विक महामारी दुनियाभर की अर्थव्यवस्था पर गहरा असर डाला है. भारत की अर्थव्यवस्था भी इससे अछूती नहीं रही और लंबे लॉकडाउन के चलते भारत की विकास दर निगेटिव में चली गई. लॉकडाउन के चलते लंबे समय तक अनिश्चितता का माहौल बना रहा, जो अब तक जारी है. इस लॉकडाउन के चलते अलग अलग कई सेक्टर्स मंदी के चपेट में चले गए, लेकिन वहीं कुछ ऐसे सेक्टर भी हैं, जिन्होंने इस आपदा में अवसर खोज लिया. हेल्थकेयर सेक्टर, आईटी सेक्टर भी इन्हीं में शामिल हैं, जिनमें पिछले 6 से 7 महीनों के दौरान अच्छी खासी ग्रोथ देखने को मिला है. दूसरी ओर, रियल एस्टेट, आटो, कंज्यूमर, रिटेल और टूरिज्म जैसे सेक्टर्स को जमकर नुकसान उठाना पड़ा है. एग्री और मेटल जैसे प्रमुख सेक्टर्स को आंशिक नुकसान हुआ है.

लॉकडाउन ने बिगाड़ी अर्थव्यवस्था की चाल

लॉकडाउन की वजह से भारत की अर्थव्यवस्था अब आधिकारिक रूप से मंदी की चपेट में आ गई है. मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 23.9 फीसदी की ऐतिहासिक गिरावट दर्ज हुई थी. वहीं, दूसरी तिमाही में भी भारतीय अर्थव्यवस्था में संकुचन दर्ज किया गया. भारत की जीडीपी में दूसरी तिमाही में 7.5 फीसदी की निगेटिव ग्रोथ रही. हालांकि पॉजिटिव यह है कि दूसरी तिमाही में जीडीपी की गिरावट की रफ्तार 10 फीसदी के करीब रहने की उम्मीद जताई जा रही थी. रेटिंग एजेंसियों ने आगे के लिए अनुमान बेहतर किए हैं. माना जा रहा है कि गिरावट की यह रफ्तार मौजूदा तिमाही में और धीमी पड़ेगी और चौथी तिमाही यानी जनवरी से मार्च, 2021 में ग्रोथ रेट पॉजिटिव हो सकती है.

ये भी पढ़ें: रिकॉर्ड लो से रिकॉर्ड हाई, 2020 में शेयर बाजार की 10 घटनाएं

हेल्थकेयर सेक्टर

कोरोना वायरस महामारी के दौरान हेल्थकेयर सेक्टर में अच्छी ग्रोथ देखने को मिली है. फार्मा कंपनियों ने इस आपदा को अवसर में बदला है. महामारी के चलते लोग अपने हेल्थ को लेकर ज्यादा सजग हुए. जरा भी सर्दी, खांसी या वायरस पर लोगों ने डॉक्टर सेकंसल्ट किया और दवाओं का सहारा लिया. दवाओं के साथ हेल्थ सप्लीमेंट, फेस मास्क, सैनिटाइजर, इम्यूनिटी बढ़ाने वाली दवाएं, हाइजीन से जुड़े प्रोडक्ट की जमकर डिमांड आई. इस दौरान आनलाइन दवाओं की सप्लाई में भी इजाफा हुआ. वहीं खासतौर से लैब और टेस्टिंग की बेहतर सुविधा होने से निजी अस्पतालों को भी इस दौरान फायदा हुआ है.

लॉकडाउन से छूट की वजह से इस इंडस्ट्री का बिजनेस ग्रोथ करता रहा. यस सिक्योरिटीज के लीड एनालिस्ट भावेश गांधी का मानना है कि 2021 में भी दवाओं की मांग रहेगी, लेकिन वैक्सीन मैन्युुैक्चरिंग और उसके वितरण पर फोकस करने वाला रहेगा. खासकर अगर 30-40 फीसदी आबादी को टीका लगाया जाना है. ऐसे में डॉ. रेड्डीज, अरबिंदो फार्मा, कैडिला, सीरम और Wockhardt जैसी कंपनियों को इसका ज्यादा फायदा मिलने की उम्मीद है.

टूरिज्म सेक्टर

कोरोना वायरस महामारी के चलते भारत सहित दुनियाभर का टूरिज्म सेक्टर सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. इसमें एयरलाइंस, होटल, टूर ऑपरेटर, टूरिज्म डेस्टिनेशन रेस्टोरेंट, टूरिस्ट ट्रांसपोर्टेशन, टूरिस्ट गाइड समेत पूरी टूरिज्म वैल्यू चेन शामिल है. ज्यादातर सेग्मेंट लंबे समय तक बंद रहे और कारोबार प्रभावित हुआ. हाल ही में संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है महामारी से वैश्विक स्तर पर पर्यटन उद्योग को वित्त वर्ष के पहले 5 महीनों में 32,000 करोड़ डॉलर के निर्यात का नुकसान हुआ है. पर्यटन उद्योग में 12 करोड़ नौकरियां खतरे में हैं. भारत में भी रोजगार व राजस्व में पर्यटन क्षेत्र का योगदान 12 से 13 फीसदी के करीब है.

आईटी सेक्टर

कोरोना वारस महामारी के शुरूआती दौर में ऐसा लगा था कि आईटी सेक्टर बुरी तरह से हिट हो सकता है. शुरू में इसका प्रभाव दिखा, लेकिन बाद में आईटी सेक्टर ने भी इस आपदा को अवसर में बदला है. आईटी कंपनियों का बेहतर तरीके से डिजिटल मॉडल को अपनाया जाना इसमें गेमचेंजर बनी. आईटभ्लॉ कंपनियों ने वर्क फ्रॉम के मॉडल को भी सही तरह से लागू किया, जिससे उनके बिजनेस में गिरावट नहीं आई. वहीं इस दौरान उन्होंने एक आरे अपना खर्च कम किया, दूसरी ओर अपने क्लाइंट लगातार बढ़ाए. लॉकडज्ञउन में उनके आर्डरबुक मजबूत होते रहे. लॉकडाउन में बंद पूरी दुनिया इन्फोटेक के भरोसे आ गई, जिसका फायदा सेक्टर को मिला. साइबर सिक्योरिटी की डिमांड ने भी इसमें भमिका निभाई.

ये भी पढ़ें: 2020: कोरोना महामारी में कितनी बदल गई कमाने, खर्च करने और बचत की आदतें

रियल एस्टेट

कोरोना वायरस महामारी के चलते रियल एस्टेट सेक्टर भी पस्त हो गया है. इस साल घरों की मांग में जमकर गिरावट आई है. तमाम आफर और छूट के बाद भी यूनिट सेल करना मुश्किल हुआ है. रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स के अनुसार वित्त वर्ष 2021 में सालाना आधार पर रेजिडेंशियल डिमांड में 40 फीसदी से ज्यादा गिरावट आ सकती है. कोरोना वायरस के चलते मंदी की वजह से अफोर्डेबल हाउसिंग सेग्मेंट सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. क्रेडिट की उपलब्धता में अनिश्चितता है. वहीं लोगों की आय भी प्रभावित हुई है. इसके चलते लोग लोन लेने से बच रहे हैं.

ई-कॉमर्स सेक्टर

कोविड 19 के दौर में ई-कॉमर्स कंपनियों पर लोगों की निर्भरता बढ़ी. दुकानें और शोरूम लंबे समय तक बंद रहे, जिससे ऑनलाइन ग्रॉसरी और ई-रिटेल शॉप्स के लिए बड़े अवसर पैदा हुए. लॉकडाउन के दौरान ई-कॉमर्स को छूट मिलने के बाद इन कंपनियों ने अपनी नेटवर्क मजबूत करने का काम किया है. मैनपावर की कमी को इन्होंने अच्छे से हैंडल किया. हालांकि शुरू में सप्लाई चेन में आई रुकावट, सामानों की आवाजाही में अवरोध और स्टाफ की कमी के कारण कुछ दिक्कतें आईं. लेकिन बाद के महीनों में ई कॉमर्स कंपनियों ने रिकवरी की.

आटो सेक्टर

पहले से ही मंदी की मार झेल रही आटो कंपनियों को कोविड 19 के चलते लॉकडाउन की वजह से जमकर नुकसान उठाना पड़ा है. लॉकडाउन के दौरान जीरो सेल्स तक की नौबत आ गई, जिससे कंपनियों का मुनाफा गिरा है. बता दें कि आटो सेक्टर में 2019 के दौरान भी मंदी देखने को मिली थी. अप्रैल से जून तिमाही के दौरान पैसेंजर व्हीकल सेल्स में करीब 79 फीसदी की गिरावट देखने को मिली थी. आटो सेक्टर में अभी भी दबाव देखने को मिल रहा है जोग अगली एक से दो तिमाही तक जारी रहेगा. आटो कंपानेंट सेक्टर को भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ा है. लॉकडाउन के चलते डिमांड बेहद कमजोर रही वहीं इंपोर्ट लेवल पर सप्लाई चेन भी ठप पड़ गई.

इनके अलावा फूड आइटम बनाने वाली एफएमसीजी कंपनियों, आटो एंसिलियरीज और आयल एंड गैस कंपनियों को आंशिक फायदा हुआ. वहीं मेटल, बैंक, एनबीएफसी और एग्री कंपनियों को आंशिक नुकसान.

 

(नोट: ये रिपोर्ट अलग अलग एजेंसियां, एक्सपर्ट और ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर बनाई गई है. इसमें आंशिक से लेकर ज्यादा फरायदा व नुकसान का जिक्र किया गया है. ध्यान देने की बात है कि लॉकडाउन हटने के बाद से अब ज्यादातर इंडस्ट्री में ग्रोथ आने लगी है.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. 2020: कोरोना से अर्थव्यवस्था ‘पस्त’, फिर भी इन सेक्टर में खूब हुई कमाई; विनर और लूजर की लिस्ट

Go to Top