सर्वाधिक पढ़ी गईं

WPI: अक्टूबर में थोक महंगाई 8 माह के टॉप पर; मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट के दाम चढ़े, खाने-पीने की कीमतें घटी

अक्टूबर में थोक मूल्य आधारित महंगाई आठ महीने के उच्च स्तर 1.48 फीसदी पर पहुंच गई.

Updated: Nov 16, 2020 2:04 PM
WPI wholesale inflation at high level of eight months in october food prices fellअक्टूबर में थोक महंगाई आठ महीने के उच्च स्तर 1.48 फीसदी पर पहुंच गई.

WPI in October: अक्टूबर में थोक महंगाई आठ महीने के उच्च स्तर 1.48 फीसदी पर पहुंच गई. यह सितंबर में 1.32 फीसदी और पिछले साल अक्टूबर में शून्य फीसदी रही थी. यह थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति (WPI) का फरवरी के बाद सबसे ऊंचा स्तर है जब यह 2.26 फीसदी थी. जहां खाने की चीजों की कीमतों में अक्टूबर में नरमी आई, वहीं विनिर्मित चीजों की कीमतें बढ़ी हैं. वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी दी.

खाद्य महंगाई अक्टूबर में 6.37 फीसदी रही जो पिछले महीने में 8.17 फीसदी पर थी. सब्जियों और आलू के दाम में बढ़ोतरी ऊंचे स्तर पर बनी रही. महीने के दौरान यह बढ़ोतरी क्रमश: 25.23 फीसदी और 107.70 फीसदी पर रही. गैर-खाद्य चीजों और खनिजों की महंगाई क्रमश: 2.85 फीसदी और 9.11 फीसदी के ऊंचे स्तर पर रही.

तेल और ऊर्जा क्षेत्र में नरमी

विनिर्मित उत्पाद की श्रेणी में, महंगाई अक्टूबर में 2.12 फीसदी पर रही, जो सितंबर में 1.61 फीसदी पर थी. अक्टूबर में तेल और पावर में कीमतें नरमी के साथ (-) 10.95 फीसदी पर पहुंच गईं. पिछले हफ्ते जारी हुए डेटा में पता चला था कि खुदरा महंगाई जो कंज्यूमर प्राइस इंडैक्स पर आधारित है, वह अक्टूबर में 7.61 फीसदी थी.

रिजर्व बैंक ने पिछले हफ्ते अर्थव्यवस्था की स्थिति पर एक रिपोर्ट में महंगाई के दबाव को अर्थव्यवस्था की रिकवरी के सामने एक जोखिम बताया था. आरबीआई ने कहा था कि सबसे महत्वपूर्ण महंगाई का नहीं कम हो रहा दबाव है जिसमें सप्लाई मैनेजमेंट के कदमों के बावजूद घटने के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं. कीमतों में दबाव का बड़ा जोखिम है, मुद्रास्फीति का उम्मीद के मुताबिक नहीं रहने से पॉलिसी में दखल में विश्वसनीयता कम हो रही है और इससे ग्रोथ पर भी असर होगा.

Nitish Kumar Oath Ceremony: नीतीश कुमार आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ, लगातार चौथी बार संभालेंगे बिहार की कमान

खुदरा महंगाई दर में भी आया था उछाल

पिछले हफ्ते जारी हुए डेटा में पता चला था कि खुदरा महंगाई जो कंज्यूमर प्राइस इंडैक्स पर आधारित है, वह अक्टूबर में 7.61 फीसदी थी. खुदरा महंगाई का यह स्तर लगभग साढ़े 6 साल का हाई है. इससे पहले खुदरा महंगाई का सबसे उच्च स्तर मई 2014 में दर्ज किया गया था, जो कि 8.33 फीसदी है. सितंबर 2020 में खुदरा महंगाई 7.27 फीसदी के स्तर पर रही थी. अक्टूबर 2019 में खुदरा महंगाई 4.62 फीसदी दर्ज की गई थी.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. WPI: अक्टूबर में थोक महंगाई 8 माह के टॉप पर; मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट के दाम चढ़े, खाने-पीने की कीमतें घटी

Go to Top