मुख्य समाचार:

थोक महंगाई सितंबर में घटकर 0.33% पर, जून 2016 के बाद सबसे कम; फ्यूल की कीमतों ने दी राहत

थोक मूल्य सूचकांक आधारित (WPI) मुद्रास्फीति सितंबर महीने में गिरकर 0.33 फीसदी पर आ गई.

October 14, 2019 1:46 PM
WPI Inflation, non food articles, fuel prices, थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति, inflation, commerce ministry, september WPI inflation detailथोक मूल्य सूचकांक आधारित (डब्ल्यूपीआई) मुद्रास्फीति सितंबर महीने में गिरकर 0.33 फीसदी पर आ गई.

WPI Inflation: गैर-खाद्य सामग्रियों की कीमतें कम होने से थोक मूल्य सूचकांक आधारित (डब्ल्यूपीआई) मुद्रास्फीति सितंबर महीने में गिरकर 0.33 फीसदी पर आ गई. सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई. थोक मुद्रास्फीति अगस्त 2019 में 1.08 फीसदी और पिछले साल सितंबर में 5.22 फीसदी थी. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, खाद्य वर्ग की मुद्रास्फीति सितंबर महीने के दौरान बढ़कर 7.47 फीसदी पर रही, जबकि गैर-खाद्य उत्पाद वर्ग की मुद्रास्फीति 2.18 फीसदी पर रही.

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में थोक महंगाई दर 0.1%

आंकड़ों के मुताबिक, मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में थोक महंगाई दर 0.1 फीसदी रही. फ्यूल तथा बिजली क्षेत्र में थोक महंगाई दर में 0.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. फलों, सब्जियों, गेहूं, मांस तथा दूध की थोक महंगाई दर 0.6 फीसदी रही. थोक महंगाई सूचकांक में प्राथमिक उत्पादों की हिस्सेदारी 22.62 फीसदी है.

WPI फूड इंडेक्स बढ़कर 5.98%

डब्ल्यूपीआई फूड इंडेक्स बढ़कर 5.98 फीसदी रहा, जो अगस्त में 5.75 फीसदी रहा था. सरकार सोमवार शाम को उपभोक्ता मुद्रास्फीति पर आंकड़ों को जारी करेगी. गैर खाद्य पदार्थों की महंगाई दर 2.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है.

अगस्त में औद्योगिक उत्पादन गिरा

शुक्रवार को IIP डाटा आया था, जिसके अनुसार अगस्त में औद्योगिक उत्पादन 1.1 फीसदी गिर गया. इसकी बड़ी वजह मैन्युफैक्चरिंग, पावर जेनरेशन और माइनिंग सेक्टर का खराब प्रदर्शन रहा. अगस्त 2018 में इंडेक्स ऑफ इं​डस्ट्रियल प्रोडक्शन यानी आईआईपी 4.8 फीसदी बढ़ा था.
आईआईपी में करीब 77 फीसदी का योगदान रखने वाले मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का उत्पादन अगस्त 2019 में 1.2 फीसदी गिर गया, जबकि अगस्त 2018 में इसमें 5.2 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई थी.

इसी तरह, अगस्त 2019 में इलेक्ट्रिसिटी उत्पादन 0.9 फीसदी गिर गया, जोकि एक साल पहले अगस्त में 7.6 फीसदी की दर से बढ़ा था. वहीं, इस साल अगस्त में माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ 0.1 फीसदी ही दर्ज की गई. अप्रैल-अगस्त की अवधि के दौरान आईआईपी ग्रोथ 2.4 फीसदी दर्ज की गई. जो पिछले साल इसी अवधि में 5.3 फीसदी रही थी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. थोक महंगाई सितंबर में घटकर 0.33% पर, जून 2016 के बाद सबसे कम; फ्यूल की कीमतों ने दी राहत

Go to Top