मुख्य समाचार:

लोन मोरेटोरियम की समय-सीमा बढ़ाएगा RBI? दीपक पारेख के प्रस्ताव पर गवर्नर शक्तिकांत दास का जवाब

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कोरोना महामारी के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर तेजी से हुए 5 बड़े बदलावों का जिक्र किया.

Published: July 27, 2020 2:15 PM
will RBI extend loan moratorium after 31 august RBI governor Shaktikanta Das’ responseRBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर तेजी से हुए 5 बड़े बदलावों का जिक्र किया.

RBI on loan moratorium: रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने कोरोना वायरस महामारी (Covid-19 Pandemic) के प्रभाव से जूझ रही अर्थव्यवस्था में गतिविधियां बढ़ाने के लिये मूलभूत सुविधाओं वाली परियोजनाओं में निवेश बढ़ाने पर जोर दिया है. RBI गवर्नर ने कहा कि कृषि क्षेत्र में हाल में उठाए गए सुधार के कदमों से इस क्षेत्र में नए अवसर खुले हैं. उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र आकर्षण का केन्द्र बनकर उभर रहा है. भारत को ऐसी नीतियों की आवश्यकता है जिससे कि कृषि क्षेत्र की आय में निरंतर वृद्धि होती रहे. इस समय अर्थव्यवस्था के लिए मीडियम टर्म का दृष्टिकोण लेकर आगे बढ़ने की जरूरत है. भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) की ओर से आयोजित एक ऑनलाइन सेशन में HDFC चेयरमैन दीपक पारेख (Deepak Parekh) ने शक्तिकांत दास से मोरेटोरियम नहीं बढ़ाने की अपील की. पारेख का कहना है कि इससे बैंकों को नुकसान हो रहा है. जो लोग लोन रिपेमेंट कर सकते हैं, वो भी नहीं कर रहे हैं. HDFC चेयरमैन को जवाब देते हुए RBI गवर्नर ने कहा कि मोरेटोरियम पर वो कमेंट नहीं कर सकते हैं लेकिन उन्होंने इस मुद्दे को नोट कर लिया है.

अर्थव्यवस्था के 5 प्रमुख बदलाव

शक्तिकांत दास ने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर तेजी से हुए 5 बड़े बदलावों का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि भविष्य कृषि सेक्टर की ओर शिफ्ट हो रहा है. इसके अलावा, रिन्युएबल, आईटी, सप्लाई व वैल्यू चेन और इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर ग्रोथ के लिए एक गेमचेंजर पावर साबित होंगे. ये भारतीय अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाई पर ले जा सकते हैं.

RBI: रेपो रेट में फिर हो सकती है 0.25 की कटौती, 4 अगस्त से MPC की बैठक

निजी क्षेत्र बन सकता है गेमचेंजर

आरबीआई गवर्नर ने निजी क्षेत्र और निवेश को एक गेमचेंजर के रूप में बताया है. उन्होंने कहा कि नई कंपनियों और स्टार्टअप को प्रमोट करने से देश में अधिक से अधिक रोजगार और आर्थिक अवसर तैयार करने में मदद मिलेगी. सप्लाई चेन के बारे में आरबीआई गवर्नर ने कहा कि प्रतिस्पर्धी बाजार में एक किफायती और प्रभावकारी सप्लाई चेन आर्थिक वेलफेयर को मजबूत कर सकता है. दूसरी ओर, विदेशी मुद्रा विनिमय दर के बारे में दास ने कहा कि इसके लिए रिजर्व बैंक का कोई निर्धारित लक्ष्य नहीं है लेकिन जब भी इसमें अनावश्यक घटबढ़ होगी रिजर्व बैंक इस पर नजर रखेगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. लोन मोरेटोरियम की समय-सीमा बढ़ाएगा RBI? दीपक पारेख के प्रस्ताव पर गवर्नर शक्तिकांत दास का जवाब

Go to Top