सर्वाधिक पढ़ी गईं

भारत में पेट्रोल और डीजल अबतक सबसे महंगा, पड़ोसी देशों में सस्ता क्यों? केंद्र सरकार ने दिया जवाब

Petroleum Minister on Fuel Prices: पेट्रोलियम मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें इंटरनेशन कीमतों पर निर्भर है.

February 10, 2021 1:50 PM
Petroleum Minister on Fuel PricesPetroleum Minister on Fuel Prices: पेट्रोलियम मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें इंटरनेशन कीमतों पर निर्भर है.

Petroleum Minister on Fuel Prices: पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ रही कीमतें अब आम आदमी के लिए सिर दर्द बन गई हैं. देश में पेट्रोल 98 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गया है. वहीं दिल्ली और मुंबई सहित ज्यादातर मेट्रो शहरों में तेल का भाव अपने आल टाइम हाई पर चला गया है. दिल्ली में पेट्रोल 87 रुपये के पार तो मुंबई में 94 रुपये के पार बिक रहा है. इस मसले पर पेट्रोलियम मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि यह पेट्रोलियम प्रोडक्ट की कीमतें इंटरनेशन कीमतों पर निर्भर है, इसलिए यह कहना गलत होगा कि तेल अपने रिकॉर्ड हाई पर है. उन्होंने पड़ोसी देशों से भी पेट्रोल और डीजल के भाव की तुलना करने को भी जायज नहीं ठहराया है.

पड़ोसी देशों में तेल सस्ता क्यों

पेट्रोलियम मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को तेल की बढ़ रही कीमतों पर राज्य सभा में जवाब दिया. एक सवाल उठा कि भारत की तुलना में नेपाल और श्रीलंका में पेट्रोल और डीजल सस्ता क्यों है. क्या सरकार पेट्रोल-डीजल के दाम कम करेगी. इस पर पेट्रोलियम मिनिस्टर ने कहा कि इन देशों के साथ भारत की तुलना करना गलत है क्योंकि कम लोग इसका उपयोग करते हैं. केरोसिन की कीमत में भारत और इन देशों में काफी अंतर है. बांग्लादेश नेपाल में केरोसिन लगभग 57 रुपये से 59 रुपये प्रति लीटर मिलता है जबकि भारत में केरोसिन की कीमत 32 रुपये प्रति लीटर है.

टैक्स लगाने पर क्या कहा

वहीं जब पूछा गया कि देश में पेट्रोल-डीजल की की कीमतें ऑल-टाइम हाई हैं, लेकिन क्रूड के दाम ऑल-टाइम हाई नहीं है. भारत में पेट्रोल 100 रुपए के करीब पहुंच रहा है. एक्साइ़ज ड्यूटी को कितनी बार बढ़ाया गया है? इस पर पेट्रोलियम मिनिस्टर ने कहा कि आज इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड ऑयल 61 डॉलर प्रति बैरल के पार चल रहा है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रूड का भाव एक इंडीकेटर है लेकिन अंतरराष्ट्रीय उत्पाद मूल्य बेंचमार्क है. हमारे देश में राज्य सरकारें और केंद्र सरकार अपने टैक्स कलेक्शन के बारे में सावधान हैं, क्योंकि हर किसी की अपनी वेलफेयर कमिटमेंट, विकास संबंधी प्राथमिकताएं हैं. उन्होंने कहा कि केंद्र ने उत्पाद शुल्क बढ़ाया है और राज्यों VAT बढ़ा दिया है. हालांकि केंद्र सरकार ने भी कीमतों में कमी भी की है.

300 दिनों में 60 दिन बढ़े दाम

धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि पिछले 300 दिनों के अंदर 60 दिन ऐसे हैं, जब तेल की कीमतें बढ़ाई गई थीं. जबकि पेट्रोल की कीमतें 7 दिन घटाई गईं, वहीं डीजल के दाम 21 दिन घटाए गए. वहीं 250 दिन ऐसे हैं, जब कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया. यह कहकर कैंपेन करना कि पेट्रोल-़डीजल के दाम ऑल-टाइम हाई हैं, यह असंगत लगता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. भारत में पेट्रोल और डीजल अबतक सबसे महंगा, पड़ोसी देशों में सस्ता क्यों? केंद्र सरकार ने दिया जवाब

Go to Top