सर्वाधिक पढ़ी गईं

साल 2018: बैंकिंग सेक्टर को पूरे साल झेलना पड़ा दबाव, इन 6 वजहों ने बिगाड़ा सेंटीमेंट

साल 2018 बैंकिंग सेक्टर के लिए परेशानी भरा रहा है. पूरे साल कोई न कोई निगेटिव फैक्टर हावी रहा.

December 26, 2018 4:07 PM
Banking Sector, Banking Sector 2018, Banking Sector Faces Negative Sentiments, Problems In Banking Sector, Fraud, Credit, Repayment, NPA, Management Issueसाल 2018 बेंकिंग सेक्टर के लिए परेशानी भरा रहा है. पूरे साल कोई न कोई निगेटिव फैक्टर हावी रहा.

साल 2018 बैंकिंग सेक्टर के लिए परेशानी भरा रहा है. पूरे साल कोई न कोई निगेटिव फैक्टर हावी रहा, जिससे सेक्टर को लेकर सेंटीमेंट खराब हुए. इस दौरान सेक्टर पर दबाव रहा और खासतौर से सरकारी बैंक सेक्टर, में निगेटिव रिटर्न मिला है. ओवरआल भी रिटर्न म्यूटेड रहा है. एनपीए, फ्रॉड, पेमेंट करने में देरी या चूक और मैनेजमेंट इश्यू तक इसके पीछे कारण बने.

अदालतों और न्यायाधिकरणों द्वारा फंसी परिसंपत्तियों की वसूली के लिये किए गए प्रयास के बावजूद बैंक क्षेत्र में नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स यानी एनपीए की समस्या लगातार बढ़ती रही. यही नहीं, कर्ज भुगतान में चूक करने वाली कंपनियों के प्रवर्तकों ने भी एसेट्स के लिए दावा किया और पेमेंट की पेशकश भी की.

PNB फ्रॉड सामने आया

साल 2018 देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक में धोखाधड़ी के मामले साथ शुरू हुआ. हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उनके मामा मेहुल चोकसी ने कुछ बैंक अधिकारियों के साथ मिलकर पंजाब नेशनल बैंक के साथ करीब 14000 करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी की.

ICICI बैंक और वीडियोकॉन मामला

मार्च में एक व्हिसल ब्लोवर ने ICICI बैंक की प्रबंध निदेशक रहीं चंदा कोचर के खिलाफ शिकायत की. कोचर पर वीडियोकॉन ग्रुप को दिए गए कर्ज में एक-दूसरे को लाभ पहुंचाने और हितों के टकराव के आरोप लगे. अक्टूबर में चंदा कोचर ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. हालांकि, इस मामले में आंतरिक और नियामकीय जांच अभी चल रही है.

एक्सिस बैंक इश्यू

एक और शीर्ष बैंक अधिकारी शिखा शर्मा को भारतीय रिजर्व बैंक से झटका मिला. आरबीआई ने एक्सिस बैंक की प्रबंध निदेशक पद पर उनके कार्यकाल विस्तार को मंजूरी देने से मना कर दिया था.

यस बैंक इश्यू

कुछ ऐसा ही मामला यस बैंक के साथ भी हुआ. आरबीआई ने बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राणा कपूर का कार्यकाल घटाकर 31 जनवरी 2019 कर दिया.

RBI: उर्जित पटेल का इस्तीफा

इस साल का सबसे बड़ा इस्तीफा खुद आरबीआई गवर्नर ऊर्जित पटेल का रहा. उन्होंने निजी कारणों का हवाला देते हुए 10 दिसंबर को अपने पद से अचानक इस्तीफा दे दिया था. बता दें कि आरबीआई और केंद्र सरकार के बीच टकराव की भी खबरें सामने आई थीं.

NPA

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में एनपीए की समस्या के खिलाफ लगातार काम हो रहा है. हालांकि अभी स्थिति सामान्य होने में काफी समय लग सकता है. सरकारी बैंक का सकल एनपीए मार्च में उच्चतम स्तर पर था. चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही (अप्रैल-सितंबर) में सकल एनपीए करीब 23,860 करोड़ रुपये कम होकर 8,71,741 करोड़ रुपये रह गया. मार्च 2018 के अंत में यह 8,95,601 करोड़ रुपये था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. साल 2018: बैंकिंग सेक्टर को पूरे साल झेलना पड़ा दबाव, इन 6 वजहों ने बिगाड़ा सेंटीमेंट

Go to Top