मुख्य समाचार:

Modi 2.0: BJP कार्यकर्ता से गृह मंत्री बनने का सफर, जानें अमित शाह कैसे बने राजनीति के चाणक्य

Modi Cabinet 2.0: बीजेपी (BJP) को 300 पार पहुंचाने वाले अमित शाह अब मोदी सरकार (Modi Govt) का हिस्सा हैं.

May 31, 2019 2:39 PM
who is amit shah, know about his political journeys, full list of modi cabinet, modi 2.0, modi cabinet 2.0, new modi team, new modi cabinet, PM modi, Amit Shah, BJP, NDA, Modi Swearing-in Ceremony, PM Modi Swearing-in Ceremony, new member of modi cabinet, मोदी कैबिनेट, मोदी की नई टीम, प्रधानमंत्री मोदी, मोदी 2.0, मोदी का नया मंत्रिमंडल, मोदी मंत्रिमंडल की पूरी लिस्ट, बीजेपी, अमित शाहअमित शाह को पहला बड़ा राजनीतिक मौका मिला 1991 में, जब आडवाणी के लिए गांधीनगर संसदीय क्षेत्र में उन्होंने चुनाव प्रचार का जिम्मा संभाला. (PTI)

Modi Cabinet 2.0: अमित शाह (Amit Shah) को भारतीय राजनीति की 21वीं सदी का चाणक्य कहा जाए तो गलत नहीं होगा. संगठन पर पकड़, रणनीति बनाने में माहिर, सटीक सियासी दावपेंच और नए साथियों को साथ लाने की कला शाह को इस दौर की भारतीय राजनीति का सफल नायक बनती है. बीजेपी (BJP) को 300 पार पहुंचाने वाले अमित शाह अब मोदी सरकार (Modi Govt) का हिस्सा बनने जा रहे हैं. नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्रित्व के दूसरे कार्यकाल में अमित शाह को गृह मंत्रालय का प्रमुख बनाया गया है. गृह मंत्री के पॉवर की बात करें तो सरकार में यह प्रधानमंत्री के बाद के क्रम में सबसे ऊपर आता है.

अमित शाह का राजनीतिक सफर

  • अमित शाह का 22 अक्टूबर 1964 को महाराष्ट्र के मुंबई में एक व्यापारी परिवार में जन्म हुआ. उनका ताल्लुक गुजरात के एक रईस परिवार से है. अहमदाबाद से बॉयोकेमिस्ट्री में बीएससी करने के बाद शाह अपने पिता का बिजनेस संभालने में जुट गए. शाह बहुत कम उम्र में ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गए थे. 1982 में उनके अपने कॉलेज के दिनों में शाह की मुलाक़ात नरेंद्र मोदी से हुई. 1983 में वे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े और इस तरह उनका छात्र जीवन में राजनीतिक रुझान बना.
  • शाह 1986 में भाजपा में शामिल हुए. शाह को पहला बड़ा राजनीतिक मौका मिला 1991 में, जब आडवाणी के लिए गांधीनगर संसदीय क्षेत्र में उन्होंने चुनाव प्रचार का जिम्मा संभाला. दूसरा मौका 1996 में मिला, जब अटल बिहारी वाजपेयी ने गुजरात से चुनाव लड़ना तय किया. इस चुनाव में भी उन्होंने चुनाव प्रचार का जिम्मा संभाला.
  • पेशे से स्टॉक ब्रोकर अमित शाह ने 1997 में गुजरात की सरखेज विधानसभा सीट से उप चुनाव जीतकर अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की. 2014 में नरेंद्र मोदी के अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद वे गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष बने. 2003 से 2010 तक उन्होने गुजरात सरकार की कैबिनेट में गृहमंत्रालय का जिम्मा संभाला.
  • वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के करीबी माने जाते हैं. 16वीं लोकसभा चुनाव के लगभग 10 माह पूर्व शाह दिनांक 12 जून 2013 को भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया, तब प्रदेश में भाजपा की मात्र 10 लोक सभा सीटें ही थी. उनके संगठनात्मक कौशल और नेतृत्व क्षमता का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि जब 16 मई 2014 को सोलहवीं लोकसभा के चुनाव परिणाम आए, जब भाजपा ने उत्तर प्रदेश में 71 सीटें हासिल की. प्रदेश में भाजपा की ये अब तक की सबसे बड़ी जीत ‌थी. इस जीत के बाद पार्टी और संगठन में अमित शाह का कद और बड़ा हो गया.
  • 17वीं लोकसभा के लिए हुए चुनाव में सपा, बसपा और रालोद के महागठबंधन के बावजूद बीजेपी यूपी में 64 सीटें जीत लीं. चुनाव से पहले माना जा रहा था कि बीजेपी के लिए 40 का आंकड़ा छुना मुश्किल होगा, लेकिन तमाम अटकलों को खारिज कर बीजेपी दोबारा 60 से अधिक सीट जीत कर आई. इसके अलावा, पश्चिम बंगाल में बीजेपी की अबतक की सबसे बड़ी जीत हुई. बंगाल में बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही. यह एक अप्रत्याशित कामयाबी रही. 17वीं लोकसभा के लिए खुद शाह गांधीनगर से भारी मतों से चुनाव जीत कर आए हैं.
  • 2019 चुनाव में बीजेपी की जीत ने अमित शाह का कद बहुत बड़ा कर दिया. मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में अमित शाह को सरकार का हिस्सा बनाया गया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Modi 2.0: BJP कार्यकर्ता से गृह मंत्री बनने का सफर, जानें अमित शाह कैसे बने राजनीति के चाणक्य

Go to Top