सर्वाधिक पढ़ी गईं

क्या है RCEP समझौता, भारत क्यों नहीं हो रहा शामिल; चीन ने दिलाया क्या भरोसा

चीन ने कहा है कि वह RCEP समझौते में शामिल नहीं होने के मामले में भारत की तरफ से उठाए गए मुद्दों के समाधान के लिए आपसी समझ और सामंजस्य के सिद्धांत का अनुकरण करेगा.

November 5, 2019 8:45 PM

What is RCEP trade deal, why india is not participating what is china's assurance

चीन ने मंगलवार को कहा है कि वह क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (RCEP) समझौते में शामिल नहीं होने के मामले में भारत की तरफ से उठाए गए मुद्दों के समाधान के लिए आपसी समझ और सामंजस्य के सिद्धांत का अनुकरण करेगा. चीन ने यह भी कहा कि वह चाहता है कि भारत समझौते से जल्द जुड़े, इसका वह स्वागत करेगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 देशों के आरसीईपी समूह के शिखर सम्मेलन में सोमवार को कहा था कि भारत आरसीईपी समझौते में शामिल नहीं होगा.

भारत के इस फैसले से चीन के दुनिया का सबसे बड़ा मुक्त व्यापार क्षेत्र बनाने के प्रयास को बड़ा झटका लगा है. भारत के इस फैसले की वजह बताते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘‘आरसीईपी समझौता मौजूदा स्वरूप में उसकी मूल भावना और उसके निर्देशित सिद्धांतों को पूरी तरह से प्रतिबिंबित नहीं करता है. इसमें भारत द्वारा उठाए गए मुद्दों और चिंताओं का भी संतोषजनक समाधान नहीं हुआ है. ऐसी स्थिति में भारत के लिए आरसीईपी समझौते में शामिल होना संभव नहीं है.’’

चीनी उत्पादों का भारतीय बाजार में कब्जा होने की आशंका

भारत दूसरे देशों के बाजारों में वस्तुओं की पहुंच के साथ ही घरेलू उद्योगों के हित में सामानों की संरक्षित सूची के मुद्दे को उठाता रहा है. ऐसा माना गया है कि इस समझौते के अमल में आने के बाद चीन के सस्ते कृषि और औद्योगिक उत्पाद भारतीय बाजार में छा जाएंगे. सस्ते चीनी सामान को लेकर चिंता की वजह से भारत के आरसीईपी समझौते से नहीं जुड़ने के बारे में पूछे जाने पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने मंगलवार को कहा कि हम भारत के समझौते से जुड़ने का स्वागत करेंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘आरसीईपी खुला है. हम भारत की तरफ से उठाए गए मुद्दों के समाधान को लेकर आपसी समझ और सांमजस्य के सिद्धांत का अनुकरण करेंगे. हम उनके यथाशीघ्र समझौते से जुड़ने का स्वागत करेंगे.’’

RCEP समझौते से नहीं जुड़ने का फैसला राष्ट्र हित देख कर

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि भारत ने राष्ट्र हित को देखते हुए चीन की अगुवाई वाले इस वृहत व्यापार समझौते से नहीं जुड़ने का फैसला किया है. सरकार पहले किए गये कुछ मुक्त व्यापार समझौतों की भी समीक्षा कर रही है. गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री ने डेयरी क्षेत्र, किसानों और घरेलू उद्योग के हितों की रक्षा के लिए कड़ा रुख अपनाया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. क्या है RCEP समझौता, भारत क्यों नहीं हो रहा शामिल; चीन ने दिलाया क्या भरोसा

Go to Top