मुख्य समाचार:

विवाद से विश्वास योजना: विदेशी पंच-अदालतों के मामले भी हो सकते हैं शामिल, जानें भुगतान की शर्तें व अन्य डिटेल

इस योजना को आयकर विवाद निपटाने का एक ‘स्वर्णिम अवसर’ बताया गया है.

February 22, 2020 6:05 PM

‘Vivad Se Vishwas’ Scheme: Cases In Arbitration Abroad Eligible to be taken up, Says Income Tax Department, know conditions related to payment and other details

आयकर मामलों में मुकदमेबाजी खत्म करने के लिए घोषित ‘विवाद से विश्वास’ (Vivad Se Vishwas) योजना के दायरे में उन मामलों का भी समाधान किया जा सकता है, जो इस समय पंच-निर्णय के लिए विदेशी प्लेटफॉर्म्स पर लंबित हैं. आयकर विभाग ने शनिवार को प्रमुख दैनिक अखबारों में इस योजना के विषय में एक विज्ञापन जारी किया. इसमें इस योजना को आयकर विवाद निपटाने का एक ‘स्वर्णिम अवसर’ बताया गया है. इस विज्ञापन में विवाद से विश्वास योजना की मुख्य बातें बताई गई हैं.

सरकार ने इस योजना की अधिसूचना अभी जारी नहीं की है. विज्ञापन में बताया गया है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पहली फरवरी को आम बजट में यह जो योजना घोषित की है, उसमें आवेदन की पात्रता क्या है? इसके अंतर्गत किस-किस प्रकार के विवादों का निपटान किया जा सकता है? और भुगतान की शर्तें क्या-क्या होंगी? इसमें कहा गया है कि विवाद वाले ऐसे मामले भी इस योजना के पात्र हैं, जहां भुगतान तो पहले किया जा किया जा चुका है, पर करदाता या कर विभाग ने मामले में अपील या रिट याचिका दायर कर रखी है.

31 जनवरी से पहले दाखिल अपील भी हो सकती है शामिल

इसी तरह भारत और भारत के बाहर पंच-निर्णय अदालतों में लंबित मामलों को भी इसके तहत निपटाया जा सकता है. विज्ञापन के अनुसार इस साल 31 जनवरी से पहले दाखिल अपील और याचिका के मामले इस योजना में शामिल किए जा सकते हैं. वे आदेश भी इसमें आ सकते हैं जिनमें अपील करने की अवधि गत 31 जनवरी से पहले खत्म नहीं हुई थी, विवाद निपटान समिति (डीआरपी) के समक्ष लंबित मामले जिनमें डीआरपी ने 31 जनवरी 2020 के पहले दिशानिर्देश जारी कर दिया था पर कोई आदेश जारी नहीं किया गया था, ऐसे छापे के मामले जिसमें करदाता ने पुनरीक्षण दायर कर रखा है और जहां विवादित कर देनदारी 5 करोड़ रुपये से अधिक की नहीं है.

Tax Saving: दिव्यांग रिश्तेदार के इलाज का उठा रहे हैं खर्च, तो आयकर में मिलेगी 1.25 लाख रु तक की राहत

भुगतान के संबंध में शर्त

इस योजना में कर, दंड, ब्याज, शुल्क और टीडीएस व टीसीएस (स्रोत पर संग्रह) ऐसे सभी प्रकार के विवादों के समाधान के लिए आवेदन किया जा सकता है. भुगतान के संबंध में शर्त है कि इसके तहत कर की शत-प्रतिशत राशि 31 मार्च तक जमा करनी होगी. छापे के मामलों में 31 मार्च तक विवादित कर के 125 फीसदी के बराबर की राशि जमा करानी होगी. लेकिन यदि अपील केवल दंड, ब्याज या शुल्क के विवाद को लेकर है तो उसमें 31 मार्च तक संबंधित राशि के केवल 25 फीसदी का भुगतान करना होगा.

31 मार्च 2020 के बाद योजना की समाप्ति तिथि 30 जून तक भुगतान करने पर करदाता को उपरोक्त स्थितियों में क्रमश: 110 फीसदी, 135 फीसदी और 30 फीसदी की दर से भुगतान करना होगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. विवाद से विश्वास योजना: विदेशी पंच-अदालतों के मामले भी हो सकते हैं शामिल, जानें भुगतान की शर्तें व अन्य डिटेल

Go to Top