मुख्य समाचार:

‘उदय’ योजना नहीं हुई विफल, बजट में नई स्कीम का हो सकता है एलान: बिजली मंत्री

इससे बिजली वितरण कंपनियों का नुकसान कम हुआ है.

January 27, 2020 8:12 PM
UDAY not a failure, new scheme likely in Union Budget, says power minister RK SinghImage: PTI

बिजली मंत्री आरके सिंह ने सोमवार को कहा कि बिजली वितरण कंपनियों को वित्तीय रूप से पटरी पर लाने की उदय (उज्जवल डिस्कॉम एश्योरेंस योजना) योजना सफल रही है और इससे बिजली वितरण कंपनियों का नुकसान कम हुआ है. इसमें और सुधार लाते हुए नई उदय योजना की आगामी बजट में घोषणा की जा सकती है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को 2020-21 का बजट पेश करेंगी.

पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन (पीएफसी) के 75 करोड़ डॉलर के अंतरराष्ट्रीय बॉन्ड के एनएसई आईएफएसी गिफ्ट सिटी में सूचीबद्ध होने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में सिंह ने अलग से बातचीत में कहा, ‘‘हमने वित्त मंत्रालय से नई उदय योजना के बारे में चर्चा की है. हमें बजट में इसकी घोषणा की उम्मीद है.’’

कई के बजाय अब एक-दो योजना ही होंगी

देश में बिजली उपलब्धता के बारे में उन्होंने कहा कि अभी बड़े शहरों में 23-24 घंटे बिजली मिल रही है, जबकि छोटे शहरों में 22 घंटे और गांव में 18 से 20 घंटे बिजली उपलब्धता है. हमें इसे 24 घंटे तक पहुंचाना है. उन्होंने यह भी संकेत दिया कि पूर्व में कई योजनाओं की जगह अब एक-दो योजना ही होंगी और सरकार इन्हीं के जरिए अपना काम करेगी. मंत्री ने यह भी कहा कि राज्यों को केंद्र से बिजली क्षेत्र से जुड़े सभी लाभ प्राप्त करने के लिए नुकसान को कम करना होगा.

बिजली वितरण कंपनियों के नुकसान को 15 फीसदी से नीचे लाने का लक्ष्य रखते हुए सिंह ने कहा कि राज्यों को सब्सिडी के बारे में निर्णय करना होगा. उन्होंने कहा कि उदय योजना विफल नहीं हुई है. हम वितरण कंपनियों का नुकसान औसतन 22 फीसदी से कम कर करीब 18 फीसदी पर लाए हैं. इसे 15 फीसदी से नीचे लाने का लक्ष्य है. पिछले साल अगस्त में केंद्र ने बिजली वितरण कंपनियों द्वारा बिजली खरीद के लिए साख पत्र उपलब्ध कराने को अनिवार्य कर दिया है.

Air India को बेचने का टेंडर जारी; विमानन मंत्री ने कहा- जो जीतेगा ब्रांड उसका, मिलेगा मैनेजमेंट कंट्रोल

आगे चलकर बढ़ने वाली है बिजली की मांग

सिंह ने यह भी कहा कि हमारी बिजली की प्रति व्यक्ति खपत वैश्विक औसत की एक तिहाई है और जिस तरीके से घर-घर बिजली पहुंची है और आने वाले समय में गांवों में एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर जैसे उपकरणों की खरीद होगी, उससे बिजली की मांग बढ़ने वाली है. यानी इस क्षेत्र में बड़ा विस्तार होना है और मैं आश्वस्त करता हूं कि यह क्षेत्र व्यवहारिक होगा.

इस बीच, पीएफसी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक राजीव शर्मा ने कहा कि कंपनी ने एकबारगी जुटाये गए सबसे बड़े बॉन्ड निर्गम को सूचीबद्ध किया है. कंपनी के कुल 75 करोड़ डॉलर मूल्य के अंतरराष्ट्रीय बॉन्ड को एनएसई, आईएफएससी गिफ्ट सिटी में सूचीबद्ध किया गया है. शर्मा के अनुसार इस बॉन्ड के बाद पीएफसी का विदेशी मुद्रा में कर्ज 6 अरब डॉलर के आंकड़े को पार कर गया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. ‘उदय’ योजना नहीं हुई विफल, बजट में नई स्कीम का हो सकता है एलान: बिजली मंत्री

Go to Top