सर्वाधिक पढ़ी गईं

मोदी सरकार को बड़ा झटका, गोल्ड इंपोर्ट में बढ़ोतरी से जनवरी में बढ़ा भारत का व्यापार घाटा

जनवरी में व्यापार घाटा 1.05 लाख करोड़ रुपये (1473 करोड़ डॉलर) रहा जबकि उसके पिछले महीने दिसंबर 2018 में 93.4 हजार करोड़ रुपये (1308 करोड़ डॉलर) था.

February 15, 2019 9:40 PM
EXPORT, export data, import, import data, export deficit widens, gst, gst effect, gst effect on small exporters, gold import, bank credit, Federation of Indian Export Organisations, trade war, commerce ministry, trade deficit, modi government, जीएसटी के कारण एक्सपोर्ट्स बुरी तरह प्रभावित हुआ.

गोल्ड इंपोर्ट बढ़ने और एक्सपोर्ट ग्रोथ कम रहने से भारत का व्यापार घाटा जनवरी में और बढ़ गया. जनवरी में व्यापार घाटा 1.05 लाख करोड़ रुपये (1473 करोड़ डॉलर) रहा जबकि उसके पिछले महीने दिसंबर 2018 में 93.4 हजार करोड़ रुपये (1308 करोड़ डॉलर) था. इससे प्रधानमंत्री मोदी की लोकसभा चुनाव से पहले आर्थिक विस्तार देने की कोशिशों को धक्का लगा है. यह आंकड़ा कॉमर्स मिनिस्ट्री ने शुक्रवार को जारी किया है.

गोल्ड इंपोर्ट्स 38.16 फीसदी बढ़ा

जनवरी में गोल्ड इंपोर्ट्स पिछले साल की तुलना में 38.16 फीसदी बढ़कर 16487 करोड रुपये (231 करोड़ डॉलर) पहुंच गया. इसकी वजह से दिसंबर 2018 की तुलना में जनवरी 2019 में व्यापार घाटा बढ़ गया.

अप्रैल से जनवरी एक्सपोर्ट्स बढ़ा, इंपोर्ट भी

कॉमर्स मिनिस्ट्री द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल 2018 से जनवरी 2019 के बीच भारतीय निर्यात पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 9.07 फीसदी बढ़कर 31.41 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया. हालांकि इस अवधि में आयात भी पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 10.74 फीसदी बढ़कर 37.87 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया. इन आंकड़ों में गुड्स और सर्विसेज दोनों शामिल हैं. जनवरी में मर्चेंडाइज एक्सपोर्ट पिछले साल जनवरी की तुलना में 3.74 फीसदी बढ़कर 1.88 लाख करोड़ रुपये (2636 करोड़ डॉलर) पहुंच गया. आयात भी 0.01 फीसदी बढ़कर 2.93 लाख करोड़ (4109 करोड़ डॉलर) पहुंच गया.

जीएसटी के कारण एक्सपोर्ट्स बुरी तरह प्रभावित

2014 में जब से नरेंद्र मोदी ने केंद्र की सत्ता संभाली है तब से देश का गुड्स एक्सपोर्ट्स बहुत धीमी गति से बढ़ा है. इसकी मुख्य वजह जीएसटी रही. जीएसटी के कारण छोटे एक्सपोर्टर पर बहुत प्रभाव पड़ा और देश के कुल निर्यात में छोटे निर्यातकों की करीब 35 फीसदी हिस्सेदारी रहती है. जीएसटी के कारण छोटे निर्यातकों की इनपुट कॉस्ट बढ़ी जिससे उनका कारोबार प्रभावित हुआ. इसके अलावा टेक्सटाइल्स, एग्रीकल्चरल प्रॉडक्ट्स और इंजीनियरिंग आइटम्स भी बैंक क्रेडिट की शॉर्टेज और जीएसटी के तहत इनपुट क्रेडिट के रिफंड में देरी से बुरी तरह प्रभावित हुए.

बैंक क्रेडिट का सहारा मिलता तो बेहतर होते रिजल्ट

Federation of Indian Export Organisations के डायरेक्टर जनरल अजय सहाय ने कहा कि अगर छोटी कंपनियों को बैंक क्रेडिट मिला होता तो एक्सपोर्ट का प्रदर्शन बेहतर होता. सहाय के मुताबिक वैश्विक इकोनॉमिक ग्रोथ और ट्रेड धीमी पड़ने से 2019 में एक्सपोर्ट्स प्रभावित होगा.

अमेरिका-चीन ट्रेड वार से बांग्लादेश और वियतनाम को फायदा

इस बात की संभावनाएं जताई जा रही थी कि अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वार से भारत को फायदा हो सकता है लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. ट्रे़ड वार से वियतनाम और बांग्लादेश को जरूर फायदा हुआ. ट्रेड वार के कारण चीन से अमेरिका को टेक्सटाइल्स एक्सपोर्ट कम हुआ था. अमेरिका ने इसकी कमी वियतनाम और बांग्लादेश से पूरी की.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. मोदी सरकार को बड़ा झटका, गोल्ड इंपोर्ट में बढ़ोतरी से जनवरी में बढ़ा भारत का व्यापार घाटा

Go to Top