सर्वाधिक पढ़ी गईं

7 हजार किमी का सफर कर भारत पहुंची Rafale की तीसरी खेप, UAE एयरफोर्स ने आसमान में ही भरा फ्यूल

Rafale Fighter Jets India: भारत को फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमान की तीसरी खेप प्राप्त हो गई है.

Updated: Jan 28, 2021 11:38 AM
Three more Rafale jets arrive in India from France know here rafale fighter jet specificationsभारत ने फ्रांस के साथ 36 राफेल लड़ाकू विमानों के लिए 59 हजार करोड़ में सौदा किया है. (Image- IAF Twitter)

Rafale Fighter Jets India: भारत को फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमान की तीसरी खेप प्राप्त हो गई है. 27 अक्टूबर की शाम को फ्रांस से लगातार उड़ान भरते हुए राफेल भारत में उतरा. इस तीन राफेल के आने के बाद अब भारत के पास राफेल विमान की संख्या बढ़कर 11 हो गई है. राफेल विमान के आने से भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता में ऐसे समय में बढ़ोतरी होगी, जब पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच तीखा सीमा विवाद चल रहा है. भारतीय वायुसेना ने एक ट्वीट कर इसकी जानकारी दी कि तीन राफेल विमान आईएएफ बेस पर पहुंच चुके हैं. ट्वीट के मुताबिक ये तीनों लड़ाकू विमान 7 हजार किमी से अधिक का सफर पूरा करके भारत पहुंचे हैं और इस दौरान यूएई एयरफोर्स ने आसमान में ही इसमें तेल भरा जिसके लिए वायुसेना ने धन्यवाद दिया है.

सौदे के चार साल बाद मिला था पहला राफेल

फ्रांस के साथ 36 राफेल विमानों के लिए सौदा किए जाने के करीब चार साल बाद राफेल विमान की पहली खेप भारत में 29 जुलाई 2020 को पहुंची थी. भारत ने फ्रांस के साथ 36 राफेल लड़ाकू विमानों के लिए 59 हजार करोड़ में सौदा किया है. राफेल विमानों की दूसरी खेप पिछले साल 3 नवंबर 2020 को पहुंची थी. राफेल विमान का निर्माण फ्रेंच कंपनी दसाल्ट एविएशन करती है. भारत ने करीब 23 साल के बाद लड़ाकू विमानों की प्रमुख खरीदारी की है. इसके पहले भारत ने रूस से सुखोई जेट का आयात किया था.

यह भी पढ़ें- UK के कोरोना स्‍ट्रेन के खिलाफ कारगर है कोवैक्‍सीन, भारत के लिए क्‍या हैं इसके मायने

कितना घातक है राफेल

  • राफेल दो इंजन वाला फाइटर जेट है.
  • राफेल जेट कई हथियारों को कैरी करने में सक्षम हैं. यह परमाणु ​हथियारों को लेकर उड़ान भरने में भी सक्षम है.
  • यूरोप की मिसाइल निर्माता MBDA की ‘मीटियोर बियोन्ड विजुअल रेंज एयर टू एयर मिसाइल’ और हवा से जमीन पर मार करने में सक्षम ‘स्कैल्प क्रूज मिसाइल’ राफेल के वैपन पैकेजेस में प्रमुख हैं. राफेल की स्कैल्प मिसाइल की रेंज करीब 300 किलोमीटर है.
    मिसाइल सिस्टम्स के अलावा राफेल जेट्स कई इंडिया स्पेसिफिक मॉडिफिकेशंस से लैस होंगे. इनमें इजरायली हैलमेट माउंटेड डिस्प्ले, रडार वार्निंग रिसीवर्स, लो बैंड जैमर्स, 10 घंटे के फ्लाइट डेटा की रिकॉर्डिंग, इन्फ्रा रेड सर्च व ट्रैकिंग सिस्टम्स आदि शामिल हैं.
  • राफेल विमान की भार वहन क्षमता 9500 किलोग्राम है और यह अधिकतम 24,500 किलोग्राम तक के वजन के भार के साथ 60 घंटे की अतिरिक्त उड़ान भरने में सक्षम है.
  • राफेल 15.27 मीटर लंबा और 5.3 मीटर ऊंचा है. इसकी फ्यूल कैपेसिटी तकरीबन 17 हजार किलोग्राम है.
  • राफेल एक मिनट में 60 हजार फुट की ऊंचाई तक की उड़ान भर सकता है. राफेल 2,223 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से उड़ सकता है.
  • राफेल का राडार 100 किमी के भीतर एक बार में 40 टारगेट का पता लगा लगा सकता है. इससे दुश्मन के विमान को पता चले बिना भारतीय वायुसेना उन्हें देख पाएगी.
  • एक साथ 40 टारगेट का पता लगाने की खासियत इस फाइटर जेट को दूसरों से और खास बना देता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. 7 हजार किमी का सफर कर भारत पहुंची Rafale की तीसरी खेप, UAE एयरफोर्स ने आसमान में ही भरा फ्यूल

Go to Top