सर्वाधिक पढ़ी गईं

COVID-19 वैक्सीन अपडेट्स: भुवनेश्वर में COVAXIN के तीसरे चरण का ट्रायल जल्द होगा शुरू, AstraZeneca की वैक्सीन बुजुर्गों पर भी असरदार

ICMR ने IMS और SUM अस्पताल समेत देश के 21 चिकित्सा संस्थानों को तीसरे चरण के परीक्षण के लिए मंजूरी दी है.

October 26, 2020 9:29 PM
Third phase human trial of COVID-19 vaccine to commence in Bhubaneswar soon, Astrazeneca vaccine prompts immune response among adults old and young

COVID19 Vaccine Latest Updates: कोविड-19 के खिलाफ स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन (COVAXIN) के इंसानों पर परीक्षण का तीसरा चरण जल्द ही भुवनेश्वर में एक निजी अस्पताल में शुरू होगा. चिकित्सा विज्ञान संस्थान और एसयूएम अस्पताल में कम्युनिटी मेडिसिन विभाग में प्रोफेसर और कोवैक्सीन के परीक्षण में प्रधान निगरानी अधिकारी डॉ. ई वेंकट राव का कहना है कि कोविड-19 के लिए उपयुक्त वैक्सीन की खोज का काम करीब-करीब अंतिम चरण में है. भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने आईएमएस और एसयूएम अस्पताल समेत देश के 21 चिकित्सा संस्थानों को तीसरे चरण के परीक्षण के लिए मंजूरी दी है.

डॉ. राव ने कहा कि केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संस्थान (सीडीएससीओ) से आईसीएमआर और भारत बायोटेक द्वारा विकसित किए जा रहे स्वदेशी टीके COVAXIN के लिए तीसरे चरण का परीक्षण शुरू करने की मंजूरी मिल चुकी है. परीक्षण के पहले और दूसरे चरण के बाद अब इस चरण में हजारों लोगों को शामिल कर इसका अध्ययन किया जाएगा.

18 साल से अधिक उम्र वाले होंगे शामिल

निवारक और चिकित्सकीय नैदानिक परीक्षण इकाई (पीटीसीटीयू) के प्रमुख डॉ. राव ने कहा कि इस चरण के दौरान उम्र सीमा आदि मानदंडों में ढील दी जाएगी. पूर्व के चरणों के विपरीत इसमें आधे लोगों को कोवैक्सीन दी जाएगी. स्वास्थ्यकर्मियों को भी इसमें शामिल किया जाएगा. राव ने कहा कि परीक्षण में 18 वर्ष से अधिक आयु वालों को शामिल किया जाएगा.

एस्ट्राजेनेका की एक और बड़ी कामयाबी

वहीं दूसरी ओर एस्‍ट्राजेनेका को एक बड़ी कामयाबी मिली है. कंपनी की वैक्सीन कैंडीडेट बुजुर्गों में भी नोवेल कोरोना वायरस के खिलाफ प्रभावी इम्‍यून रेस्‍पांस ट्रिगर करने में सफल रही है. रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, एस्ट्राजेनेका के प्रवक्ता ने कहा है कि वैक्सीन कैंडीडेट का इम्यूनोजेनिसिटी रिस्पॉन्स बुजुर्गों और युवाओं में एक जैसा रहा. हालांकि रिएक्टोजेनेसिटी बुजुर्गों में थोड़ी कम थी. ये नतीजे एस्ट्राजेनेका की कोविड19 वैक्सीन कैंडिडेट AZD1222 की सेफ्टी और इम्यूनोजेनिसिटी के प्रमाण को और मजबूती देने वाले हैं. AstraZeneca, Oxford यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर कोविड19 वैक्सीन विकसित कर रही है. बुजुर्गों को कोरोनावायरस से मृत्यु का ज्यादा खतरा है क्योंकि उम्र के साथ इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है. ऐसे में एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के नए नतीजे एक सकरात्मक खबर हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. COVID-19 वैक्सीन अपडेट्स: भुवनेश्वर में COVAXIN के तीसरे चरण का ट्रायल जल्द होगा शुरू, AstraZeneca की वैक्सीन बुजुर्गों पर भी असरदार

Go to Top