scorecardresearch

Delhi Hospitals: दिल्ली के अस्पतालों में बढ़ रही है टाइफाइड और गैस्ट्रोएंटेराइटिस जैसे मरीजों की संख्या, बेमौसम बारिश ने बढ़ाई मुश्किलें

OPD में आने वाले ऐसे मरीजों की संख्या पहले एक दिन में 10 से कम थी, लेकिन अब इसमें भारी इजाफा देखा गया है. इन मरीजों में हर उम्र के लोग शामिल हैं.

Delhi Hospitals: दिल्ली के अस्पतालों में बढ़ रही है टाइफाइड और गैस्ट्रोएंटेराइटिस जैसे मरीजों की संख्या, बेमौसम बारिश ने बढ़ाई मुश्किलें
स्क्रब टाइफस और चिगर माइट्स एक बैक्टिरियल इंफेक्शन है.

Delhi Hospitals: दिल्ली में सर्दियों की शुरूआत से पहले हो रही बेमौसम बारिश की वजह से दिल्ली के अस्पतालों में मरीजों की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है. रिपोर्ट के अनुसार इन मरीजों में अधिकतर टाइफाइड, गैस्ट्रोएंटेराइटिस और सांस से संबंधित रोगों से पीड़ित हैं. हाल ही में इन मरीजों की संख्या दोगुनी से ज्यादा हो गई है. मूलचंद अस्पताल के सलाहकार पल्मोनोलॉजिस्ट और क्रिटिकल केयर स्पेशलिस्ट डॉ. भगवान मंत्री ने बताया कि पहले ओपीडी में आने वाले ऐसे मरीजों की संख्या एक दिन में 10 से कम थी, लेकिन हाल ही में इसमें भारी इजाफा देखा गया है. उन्होंने कहा कि इन मरीजों में हर उम्र के लोग शामिल हैं. लेकिन जब बुजुर्गों को सांस से जुड़ी कोई समस्या होती है, तो वह एक गंभीर रूप धारण कर लेती है.

रेट हाइक के दौर में कहां करें निवेश? शॉर्ट टर्म फंड दिलाएंगे बेहतर रिटर्न

हर साल मानसून में फैलते हैं वायरल इंफेक्शन

एक्सपर्ट्स की माने तो हर साल मानसून के बाद वायरल इंफेक्शन से फैलने वाली बीमारियों का प्रकोप देखने को मिलता है. लेकिन इस बार पिछले साल से उल्ट कुछ अस्पतालों में स्क्रब टाइफस और लेप्टोस्पायरोसिस के मामलों में बहुत तेजी देखी गई है. फोर्टिस हॉस्पिटल में इंटरनल मेडिसिन के सीनियर कंसल्टेंट डॉ मनोज शर्मा ने कहा कि इस मौसम में हर साल डेंगू के मरीज आते ही हैं, लेकिन इस बार टाइफाइड बुखार, गैस्ट्रोएंटेराइटिस, हेपेटाइटिस, सांस से जुड़ी बीमारियों के साथ ही स्वाइन फ्लू और कोविड के भी मरीज आ रहे हैं.

रेट हाइक के दौर में पा सकते हैं सस्ता होम लोन, करने होंगे ये काम

डॉक्टरों ने दी मास्क पहनने की सलाह

डॉ. मनोज शर्मा ने कहा कि इस साल स्क्रब टाइफस और लेप्टोस्पायरोसिस के मरीज भी आ रहे हैं, जिनकी संख्या बहुत ज्यादा नहीं है. हालांकि यह संख्या पिछले साल के मुकाबले में अधिक है. उन्होंने बताया कि स्क्रब टाइफस एक संक्रामक रोग है, जो ओरिएंटिया त्सुत्सुगामुशी, एक घुन जनित जीवाणु के कारण होता है. चिगर माइट्स, घुन का लार्वा चरण, चूहों, गिलहरियों और खरगोशों जैसे जानवरों से इंसानों में रोग पहुंचाता है. लेप्टोस्पायरोसिस एक बैक्टिरियल इंफेक्शन है, जो चूहों और मवेशियों के मूत्र या मलमूत्र के जरिए फैलता है. डॉक्टरों ने लोगों को मास्क पहनने की सलाह देते हुए कहा कि मास्क आप को न सिर्फ कोविड से बचाता है बल्कि अन्य दूसरे तरीके के वायरस से भी बचाता है. डॉ. मंत्री ने कहा कि अगर 48 घंटे से अधिक समय तक बुखार है, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 08-10-2022 at 17:23 IST

TRENDING NOW

Business News