scorecardresearch

INS विक्रांत ने भारतीय नौसेना की बढ़ाई ताकत, चीन के फुजियान को टक्कर देगा ये “बाहुबली”, 10 बड़ी खासियत

INS विक्रांत को 1.10 लाख हॉर्सपावर की ताकत देने के लिए जनरल इलेक्ट्रिक टरबाइन लगाये गए हैं. इस एयरक्राफ्ट कैरियर की स्ट्राइक रेंज 1500 किलोमीटर है. जबकि इसकी सेलिंग रेंज 15 हजार KM है. इसके साथ ही इस पर 76 mm की 4 ओटोब्रेडा ड्यूल पर्पज कैनन लगाये गए हैं.

INS विक्रांत ने भारतीय नौसेना की बढ़ाई ताकत, चीन के फुजियान को टक्कर देगा ये “बाहुबली”, 10 बड़ी खासियत
INS विक्रांत का निर्माण कोचीन शिपयार्ड में किया गया है. कुल 2.5 एकड़ के क्षेत्रफल वाले आईएनएस विक्रांत की लंबाई 860 फीट, बीम 203 फीट, गहराई 84 फीट और चौड़ाई 203 फीट है.

चीन से जारी सीमा विवाद और रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद से वैश्विक स्तर पर तेजी से बदल से सियासी समीकरणों के बीच समंदर में भारत की ताकत में कई गुना इजाफा करने वाला INS विक्रांत भारतीय नौ सेना के बेड़े में शामिल हो गया.

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वदेश में निर्मित पहले एयरक्राफ्ट कैरियर को देश को समर्पित किया. स्वदेशी तकनीक से निर्मित INS विक्रांत देश का दूसरा एयरक्राफ्ट कैरियर है. 

जानिए भारत INS Vikrant की खुबियां

INS विक्रांत का निर्माण कोचीन शिपयार्ड में किया गया है. कुल 2.5 एकड़ के क्षेत्रफल वाले आईएनएस विक्रांत की लंबाई 860 फीट, बीम 203 फीट, गहराई 84 फीट और चौड़ाई 203 फीट है. विक्रांत के ऊपर 30 से 35 विमानों को तैनात किया जा सकता है. 45 हजार टन के डिस्प्लेसमेंट वाला विक्रांत 52 km प्रतिघंटे की रफ्तार समंदर पर दौड़ सकता है. बराक मिसाइलों से लैस इस एयरक्राफ्ट कैरियर पर ब्रह्मोस जैसी सुपर सोनिक मिसाइलों को भी तैनात किया जा सकता है, जिसके लिए इंटीग्रेशन का काम किया जा रहा है.

हिंद महासागर में भारतीय नौसेना का दबदबा बढ़ाएगा INS विक्रांत, पीएम मोदी ने बताया समंदर में तैरता किला

विक्रांत को 1.10 लाख हॉर्सपावर की ताकत देने के लिए जनरल इलेक्ट्रिक टरबाइन लगाये गए हैं. इस एयरक्राफ्ट कैरियर की स्ट्राइक रेंज 1500 किलोमीटर है. जबकि इसकी सेलिंग रेंज 15 हजार KM है. इसके साथ ही इस पर 76 mm की 4 ओटोब्रेडा ड्यूल पर्पज कैनन लगाये गए हैं. यह दुश्मन के एयरक्राफ्ट्स, मिसाइलों और फाइट्स जहाजों को मार गिराने की क्षमता रखता है. 76 फीसदी स्वदेशी उपकरणों से निर्मित इस एयरक्राफ्ट कैरियर पर 4 AK 630 प्वाइंट डिफेंस सिस्टम गन लगाई गई है.

इसके साथ ही इस एयरक्राफ्ट कैरियर में 14 डेक्स का निर्माण कराया गया है, जिनमें विमानों के साथ ही 1700 से ज्यादा क्रू मेंबर्स की तैनाती की जा सकती है. आईएनएस विक्रांत में मेस, जिम, अस्पताल के साथ-साथ के विमानों में होने वाली छोटी-मोटी मरम्मत किये जाने की सुविधा उपलब्ध हैं.

चीन के फुजियान एयरक्राफ्ट कैरियर की क्षमता

फुजियान को चीन का सबसे ताकतवर एयरक्राफ्ट कैरियर कहा जाता है. यह टाइप 003 का एयरक्राफ्ट कैरियर है. इसकी लंबाई करीब 300 मीटर और चौड़ाई 78 मीटर की हैं, जबकि इसका डिस्प्लेसमेंट 80 हजार टन है. यह एयरक्राफ्ट चीन के पूराने एयरक्राफ्ट कैरियर्स लियाओनिंग और शैनडोंग के मुकाबले बड़ा है. इन एयरक्राफ्ट करियर्स में डीजल गैस टरबाइन इंजन लगे हैं. अमेरिकी युद्धपोतों की तर्ज पर फुजियान में कैटापॉल्ट एसिस्टेड टेक ऑफ अरेस्टेड रिकवरी (CATOBAR) का इस्तेमाल किया गया है. चीन के फुजियान पर एक समय में 36 से ज्यादा विमानों को तैनात किया जा सकता है.

बड़ी खुबियां

  1. INS विक्रांत का निर्माण पूर्ण रुप से स्वदेश में हुआ है.
  2. कुल 2.5 एकड़ के क्षेत्रफल वाले आईएनएस विक्रांत की लंबाई 860 फीट, बीम 203 फीट, गहराई 84 फीट और चौड़ाई 203 फीट है.
  3. INS विक्रांत पर एक समय में 30 से 35 विमानों को तैनात किया जा सकता है.
  4. इसका डिस्प्लेसमेंट 45 हजार टन का है.
  5. अधिकतम रफ्तार 52 km प्रतिघंटे है.
  6. बराक मिसाइलों से लैस है INS विक्रांत.
  7. 1.10 लाख हॉर्सपावर की ताकत देने के लिए जनरल इलेक्ट्रिक टरबाइन लगाये गए हैं.
  8. इस एयरक्राफ्ट कैरियर की स्ट्राइक रेंज 1500 किलोमीटर है.
  9. सेलिंग रेंज 15 हजार KM है. 
  10. 76 mm की 4 ओटोब्रेडा ड्यूल पर्पज कैनन लगाये गए हैं.
  11. एयरक्राफ्ट कैरियर पर 4 AK 630 प्वाइंट डिफेंस सिस्टम गन लगाई गई है.
  12. एयरक्राफ्ट कैरियर में 14 डेक्स का निर्माण कराया गया है,
  13. 1700 से ज्यादा क्रू मेंबर्स की हो सकती है तैनाती.
  14. मेस, जिम, अस्पताल और विमानों की छोटी-मोटी मरम्मत के लिए वर्कशॉप की सुविधा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News