सर्वाधिक पढ़ी गईं

Corona Virus को खत्म करने के लिए Tech Mahindra ने इस तरह खोजा अहम मॉलिक्यूल, पेटेंट के लिए कर रही आवेदन

आईटी कंपनी Tech Mahindra और Reagene Biosciences मिलकर ऐसी दवा बना रही हैं जो कोरोना वायरस को खत्म करने में सक्षम है.

May 2, 2021 7:21 PM
Tech Mahindra Reagene to file patent for molecule that potentially attacks coronavirusदुनिया भर में कई दवाईयों पर परीक्षण चल रहा है लेकिन कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अभी लोग सिर्फ वैक्सीन के भरोसे ही हैं.

आईटी कंपनी Tech Mahindra और Reagene Biosciences मिलकर ऐसी दवा बना रही हैं जो कोरोना वायरस को खत्म करने में सक्षम है. ये दोनों कंपनियां इस ड्रग मॉलिक्यूल के पेटेंट के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर रही है. टेक महिंद्रा के वैश्विक प्रमुख (मार्कर्स लैब) निखिल मल्होत्रा ने जानकारी दी कि वह अपनी सहयोगी कंपनी के साथ मिलकर इस मॉलिक्यूल के पेटेंट के लिए आवेदन कर रही है जिस पर बाद में टेस्टिंग किया जाएगा. हालांकि मल्होत्रा ने मॉलिक्यूल का नाम बताने से इनकार कर दिया और कहा कि पेटेंट प्रक्रिया पूरी होने तक इसका खुलासा नहीं किया जाएगा. मार्कर्स लैब टेक महिंद्रा की रिसर्च एंड डेवलपमेंट इकाई है.

इस तरह खोज हुई मॉलिक्यूल की

टेक महिंद्रा और रीजीन बॉयोसाइंसेज शोध प्रक्रिया में है. मार्कर्स लैब ने कोरोना वायरस की कंप्यूटेशनल मॉडलिंग एनालिसिस शुरू किया है. इसके आधार पर टेक महिंद्रा और इसकी सहयोगी ने एफडीए की अप्रूव्ड 8 हजार दवाईयों में से 10 ड्रग मॉलिक्यूल को शॉर्टलिस्टेड किया गया. मल्होत्रा ने जानकारी दी कि तकनीक की सहायता से इन 10 दवाइयों को शॉर्टलिस्ट कर तीन दवाइयों को चुना गया. इसके बाद एक त्रिआयामी फेफड़ा बनाया गया जिस पर परीक्षण किया गया और यह पाया गया कि एक मॉलिक्यूल उम्मीद के मुताबिक काम कर रहा है. महिंद्रा टेक ने इस पूरी प्रक्रिया में कंप्यूटेशनशल एनालिसिस किया है और उसकी सहयोगी ने क्लीनिकल एनालिसिस किया है. मल्होत्रा के मुताबिक ऑर्टिफिशियल इंटेलीजेंस और अन्य कंप्यूटेशनल टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल दवाइयों की खोज में लगने वाले समय को कम किया जा सकता है.

कोरोना के चलते अप्रैल में घटी तेल की मांग, दो साल पहले प्री-कोविड के मुकाबले 7% कम हुई डिमांड लेकिन रसोई गैस की बढ़ी बिक्री

भारत में Remdesivir और Tocilizumab की मंजूरी

दुनिया भर में कई दवाईयों पर परीक्षण चल रहा है लेकिन कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अभी लोग सिर्फ वैक्सीन के भरोसे ही हैं. भारत सरकार ने कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए मरीजों की स्थिति के मुताबिक रेम्डेसिविर और टोसिलिजुमैब के प्रयोग को मंजूरी दी है. हालांकि इनकी शॉर्टेज भी हो रही है. टोसिलिजुनैब की शॉर्टेज का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि देश के सबसे अधिक जनसंख्या वाले प्रदेश उत्तर प्रदेश को महज 150 डोज ही उपलब्ध करा सकी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Corona Virus को खत्म करने के लिए Tech Mahindra ने इस तरह खोजा अहम मॉलिक्यूल, पेटेंट के लिए कर रही आवेदन

Go to Top