सर्वाधिक पढ़ी गईं

टैक्सपेयर्स सावधान! इन 6 ट्रांजेक्शन पर लग सकती है पेनल्टी, हो सकता है मुकदमा

अगर आपको लगता है कि केवल बड़े टैक्स डिफॉल्ट और बड़े ट्रांजेक्शन ही इनकम टैक्स की जांच के दायरे में आते हैं तो आप गलत हैं.

Updated: Jan 29, 2019 2:52 PM

Taxpayers Beware! 6 transactions which may invite penalty, prosecution under Income Tax Act

Income Tax : अगर आपको लगता है कि केवल बड़े टैक्स डिफॉल्ट और बड़े ट्रांजेक्शन ही इनकम टैक्स की जांच के दायरे में आते हैं तो आप गलत हैं. अगर छोटे ट्रांजेक्शन इनकम टैक्स नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं तो भी Income tax department के एक्शन का सामना करना पड़ सकता है. एनए शाह एसोसिएट्स LLP में पार्टनर अशोक शाह के मुताबिक, ऐसे कई ट्रांजेक्शन हैं जो नॉर्मल लगते हैं लेकिन हो सकता है वे टैक्स नियमों का उल्लंघन कर रहे हों. ऐसे में डिपार्टमेंट आप पर पेनल्टी लगाने के साथ मुकदमा भी कर सकता है. आइए बताते हैं ऐसे ही 6 ट्रांजेक्शंस के बारे में-

1. 20,000 रु से ज्यादा का कैश लोन लेना या देना/डिपॉजिट

अगर कोई 20,000 रुपये से ज्यादा कैश लोन के तौर पर लेता या देता या चुकाता है तो इस अमाउंट के बराबर पेनल्टी लग सकती है. इसके अलावा इनकम टैक्स नियमों के मुताबिक, आपको अचल संपत्ति के ट्रांसफर के लिए 20000 रुपये से ज्यादा का अमाउंट कैश में न लेना चाहिए न देना चाहिए. वर्ना आप पर एक्ट के सेक्शन 269SS के प्रावधान के उल्लंघन को लेकर सेक्शन 271डी के तहत पेनल्टी लग सकती है.

2. बिजनेस/प्रोफेशन के खर्च के संबंध में 10000 रु से ज्यादा कैश में पे करना

अगर आप बिजनेस या प्रोफेशन से संबंधित खर्च के लिए 10000 रुपये से ज्यादा अमाउंट कैश में पे करते हैं तो प्रॉफिट और लॉस अकाउंट में ऐसे खर्च के संबंध में किसी डिडक्शन कर मंजूरी नहीं होगी.

Fake Bills के जरिए ले रहे हैं टैक्स छूट तो सतर्क हो जाएं, लग सकता है 200% तक का जुर्माना

3. किसी राजनीतिक पार्टी या रजिस्टर्ड ट्रस्ट को 2000 रुपये से ज्यादा कैश डोनेशन

अगर आप किसी राजनीतिक पार्टी को चंदे के तौर पर कैश में 2000 रुपये से ज्यादा का अमाउंट देते हैं तो आप इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80जी के तहत ऐसी डोनेशन पर टैक्स छूट नहीं पा सकेंगे. इसके अलावा संबंधित राजनीतिक पार्टी या ट्रस्ट के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग को बढ़ावा देने के लिए उचित एक्शन भी लिया जाएगा.

4. सरकार को TDS न देना

ऐसे कई ट्रांजेक्शन हैं, जहां टैक्सपेयर का TDS यानी टैक्स डिडक्टेड एट सोर्स कटता है. अगर ये टैक्स न कटे या कटा हुआ टैक्स न चुकाया जाए तो कई मसले पैदा हो जाते हैं. अगर जानबूझकर यह टैक्स न चुकाया जाए तो ​टैक्सपेयर के खिलाफ मुकदमा होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं. साथ ही TDS डिफॉल्ट के अमाउंट के बराबर पेनल्टी लग सकती है और डिले पेमेंट पर 1.5 फीसदी प्रति माह के हिसाब से इंट्रेस्ट लगाया जा सकता है.

यहां खास बात यह भी है कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 5 लाख रुपसे से ज्यादा के TDS अमाउंट के डिफॉल्ट मामले में प्रॉसिक्यूशन नोटिस जारी करना शुरू कर दिया है.

काउ टैक्स से लेकर विंडो टैक्स तक, जब भारत ही नहीं दुनिया में भी लगे अजीबोगरीब टैक्स

5. घर, ज्वैलरी आदि की खरीद में 2 लाख से ज्यादा का ट्रांजेक्शन कैश में करना

अगर आपने प्रॉपर्टी या ज्वैलरी की खरीद या बिक्री में 2 लाख रुपये से ज्यादा के अमाउंट का कैश ट्रांजेक्शन किया है तो आप पर अमाउंट के बराबर पेनल्टी लग सकती है. फिर भले ही अमाउंट अलग-अलग तारीखों या अलग-अलग लोगों द्वारा किया गया हो.

6. बकाया टैक्स भुगतान किए बिना ही टैक्स रिटर्न फाइल करना

बकाया टैक्स के पेमेंट के बिना टैक्स रिटर्न फाइल करने से 1 फीसदी प्रतिमाह का ब्याज देना होगा. इसके अलावा डिफॉल्टेड अमाउंट के बराबर पेनल्टी भी लग सकती है. ऐसा तभी भी होगा, अगर आप नोटिस जारी होने से पहले टैक्स दे चुके होंगे. अगर बकाया टैक्स नहीं चुकाया नहीं जाता है तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट प्रोसिक्यूशन नोटिस भी जारी कर सकता है.

(स्टोरी : संजीव सिन्हा)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. टैक्सपेयर्स सावधान! इन 6 ट्रांजेक्शन पर लग सकती है पेनल्टी, हो सकता है मुकदमा

Go to Top