सर्वाधिक पढ़ी गईं

लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा गठबंधन का ऐलान, 38-38 सीटों पर उतारेंगे प्रत्याशी; Update

सपा और बसपा में प्रदेश की 38-38 सीटों के बंटवारे पर सहमति बनी है.

Updated: Jan 12, 2019 1:37 PM
ls election 2019, sp, bsp, congress, bjp, loksabha election 2019, akhilesh yadav, mayawati, loksabha alliance, सपा बसपा गठबंधन, लोकसभा चुनाव 2019मायावती और अखिलेश यादव प्रेस कांफ्रेंस में (Image-ANI)

2019 के आम चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के गठबंधन का ऐलान हो गया है. दोनों पार्टियां उत्तर प्रदेश से लोकसभा चुनाव में 38-38 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारने पर सहमत हुई हैं. दो सीटें अन्य दलों को और दो सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ दी गई हैं. कांग्रेस के लिए अमेठी और रायबरेली की सीटें छोड़ी गई हैं. हालांकि कांग्रेस को गठबंधन में शामिल नहीं किया गया है. उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 80 सीटें हैं.

पिछले लोकसभा चुनाव में दलवार स्थिति
2014 में हुए पिछले लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को 71 सीटें मिली थीं और 2 सीटें कांग्रेस को मिली थी. सपा को 5 सीटें मिली थी जबकि बसपा को एक भी सीट नहीं हासिल हुई थी.

कांफ्रेंस में सवालों पर दोनों नेताओं के जवाब

मायावती का अपमान मेरा अपमानः अखिलेश
सपा मुखिया ने काफ्रेंस में कहा, सपा-बसपा का गठबंधन केवल चुनावी गठबंधन नहीं है बल्कि यह गठबंधन भाजपा के अत्याचार का अंत भी है. बीजेपी के अहंकार का विनाश करने के लिए बसपा और सपा का मिलना बहुत जरूरी था. मायावती का सम्मान मेरा सम्मान है. अगर बीजेपी का कोई नेता मायावती का अपमान करता है तो सपा कार्यकर्ता समझ लें कि वह मायावती का नहीं बल्कि मेरा अपमान है. मायावती को प्रधानमंत्री के रूप में समर्थन देने के सवाल पर अखिलेश यादव की प्रतिक्रिया रही कि आप जानते हैं कि मेरी पसंद क्या है. उत्तर प्रदेश ने इससे पहले भी प्रधानमंत्री दिए हैं और यह ट्रेंड आगे भी जारी रहेगा.

गेस्ट हाउस कांड को राष्ट्रहित में भुला दियाः मायावती
सपा के साथ गेस्ट हाउस कांड के कारण बढ़ी दूरियों पर मायावती ने कहा कि लोगों के और राष्ट्रहित में उन्होंने इस घटना को भुला दिया है.

भगवान को भी जाति में बांट दियाः अखिलेश
अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेंस में बीजेपी पर आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में लोगों का सिर्फ उनकी जातियों के कारण एनकाउंटर किया जा रहा है. बीजेपी सरकार ने उत्तर प्रदेश को ”जाति प्रदेश” बना दिया है, और भगवान को भी जाति में बांट दिया.

गठबंधन स्थायीः मायावती
गठबंधन के स्थायित्व पर मायावती ने कहा कि गठबंधन स्थायी है. यह सिर्फ लोकसभा चुनाव तक नहीं है बल्कि उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में भी चलेगा और उसके बाद भी चलेगा. मायावती ने कहा कि बीजेपी ने इस गठबंधन को तोड़ने के लिए सपा प्रमुख अखिलेश यादव का नाम जानबूझकर खनन मामले से जोड़ा. बीजेपी को मालूम होना चाहिए कि उनकी इस घिनौनी हरकत से सपा-बसपा गठबंधन को और ज्यादा मजबूती मिलेगी ।

कांग्रेस और बीजेपी एक समान भ्रष्टः मायावती
गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किये जाने के बारे में मायावती ने कहा कि कांग्रेस के वर्षों के शासन के दौरान गरीबी, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार में वृद्धि हुई. कांग्रेस और बीजेपी एक समान हैं. रक्षा सौदों में दोनों पार्टियों ने घोटाला किया है और सभी वर्गों के लोग दोनों ही पार्टियों से नाराज हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा गठबंधन का ऐलान, 38-38 सीटों पर उतारेंगे प्रत्याशी; Update

Go to Top