मुख्य समाचार:
  1. प्री-मानसून बारिश 65 साल में दूसरी बार सबसे कम: स्काइमेट

प्री-मानसून बारिश 65 साल में दूसरी बार सबसे कम: स्काइमेट

Rainfall in India: मॉनसून से पहले होने वाली बारिश देश के कई हिस्सों के लिए बहुत जरूरी होती है.

June 4, 2019 10:36 AM
skymet says pre monsoon rainfaal in india second lowest in 65 yearsहिमालय के वन क्षेत्रों में मॉनसून से पहले होने वाली बारिश सेब लगाने के लिए जरूरी होती है.

Pre Monsoon Rainfall: मौसम का पूर्वानुमान जताने वाली निजी संस्था स्काइमेट वेदर ने सोमवार को कहा कि देश में मॉनसून से पूर्व होने वाली बारिश 65 सालों में दूसरी बार इतनी कम दर्ज की गई है. तीन महीने की अवधि का मॉनसून से पहले का सीजन- मार्च, अप्रैल और मई 25 फीसदी कम वर्षा के साथ समाप्त हुआ. स्काइमेट ने कहा कि सभी चार मौसमी मंडलों- उत्तर पश्चिम भारत, मध्य भारत, पूर्व-पूर्वोत्तर भारत एवं दक्षिणी प्रायद्वीप में क्रमश: 30 फीसदी, 18 फीसदी, 14 फीसदी और 47 फीसदी कम बारिश दर्ज की गई.

Pre Monsoon बारिश कई हिस्सों के लिए जरूरी

मॉनसून से पहले होने वाली बारिश देश के कई हिस्सों के लिए बहुत जरूरी होती है. ओडिशा जैसे राज्यों में खेतों की जोताई इसी दौरान की जाती है और पश्चिमोत्तर भारत एवं पश्चिमी घाटों में यह फसलों की रोपाई के लिए जरूरी होती है.

हिमालय के वन क्षेत्रों में मॉनसून से पहले होने वाली बारिश सेब लगाने के लिए जरूरी होती है. नमी के कारण यह बारिश जंगलों में लगने वाली आग की घटनाओं को भी कम करने में मदद करती है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop