मुख्य समाचार:

अच्छे मानसून पर भारी कोरोना! लॉकडाउन के 3 माह बाद चपेट में गांव, अब कैसे चलेगा ग्रोथ का इंजन

Covid-19 Cases in Rural India: SBI की रिपोर्ट के अनुसार ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं.

Updated: Sep 03, 2020 4:46 PM
Rising Covid-19 cases in Rural India, SBI latest report on COVID-19, India after 3 month of lockdown, rising coronavirus cases big concern for economy, rural district now badly effected as covid-19, GSDP, state wise GDP, crop, tractor registration down, fertilizers sales, diesel consumption dipped in rural india, pressure in insurance sector, good monsoon, will covid-19 negative impact more than monsoon good impactCovid-19 Cases in Rural India: SBI की रिपोर्ट के अनुसार ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं.

Covid-19 Cases Spreading in Rural India: 24 मार्च को देशभर में लॉकडाउन लगने के बाद आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह से ठप पड़ गईं. इससे देश की अर्थव्यवस्था को तगड़ा झटका लगा है. इसका असर यह हुआ कि देश की जीडीपी ग्रोथ अप्रैल से जून तिमाही में 23.9 फीसदी घटी है. हालांकि लॉकडाउन खुलने के बाद एक बार फिर बात हो रही है कि अर्थव्यवस्था पटरी पर लौटेगी. लेकिन अब SBI की एक ताजा रिसर्च रिपोर्ट से चिंता फिर बढ़ा दी है. रिपोर्ट के अनुसार अब शहरी इलाकों की बजाए ग्रामीण इलाकों में कोरोना के संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. ऐसे में ग्रामीण अर्थव्यवस्था प्रभावित होने का डर है. ऐसे होता है तो रिकवरी को बड़ा झटका लग सकता है.

ग्रामीण इलाकों में तेजी से बढ़ रहे हैं मामले

एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक अगस्त महीने में अगर कोविड 19 से सबसे ज्यादा प्रभावित 50 डिस्ट्रिक्ट की बात करें तो इनमें से 26 रूरल इलाके थे, जहां सबसे तेजी से मामले फैल रहे हैं. आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और कर्नाटक के ग्रामीण इलाके सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं. इनमें से 4 डिस्ट्रिक्ट ऐसे हैं, जिनका अपने राज्य की ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट में योगदान 10 फीसदी से ज्यादा है.

ऐसे में इन राज्यों या इलाकों में कोरोना के मामले ऐसे ही बढ़ते हैं तो स्टेट वाइज GSDP में और कमी आ सकती है. आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, राजस्थान, महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे राज्यों के रूरल इलाके ज्यादा प्रभावित हैं, जहां अच्छी पैदावार होती है.

मानूसन पर भारी पड़ सकता है कोरोना

सबसे तेजी से मामले बढ़ने वाले 8 डिस्ट्रिक्ट ऐसे हैं, जहां रोज 1000 या इससे भी ज्यादा मामले आ रहे हैं. इन 8 में से आंध्र प्रदेश के 2 (ईस्ट गोदावरी और नेल्लोर) रूरल डिस्ट्रिक्ट में आते हैं. वैसे देखें तो उपर लिखे गए ज्यादातर एरिया में इस साल मानसून या तो सामान्य रहा है या सामान्य से ज्यादा बारिश हुई है. ये बेहतर संकेत जरूर है, लेकिन अगर इन इलाकों में कोविड-19 के मामले इसी तरह से बढ़ते रहे तो मानसून का अच्छा असर कोविड-19 के बुरे असर से पीछे रह सकता है.

फर्टिलाइजर्स की बिक्री भी घटी

एक और लीडिंग इंडीकेटर यह है कि अगस्त महीने में फर्टिलाइजर्स की बिक्री घटी है. वहीं, डीजल का कंजम्पशन भी घटा है. इन दोनों का इस्तेमाल खेती किसानी के काम में बहुत ज्यादा होता है. हालांकि जुलाई और अगस्त में ट्रैक्टर की ब्रिकी में सुधार आया है, लेकिन अगस्त महीने में ट्रैक्टर का रजिस्ट्रेशन कम हुआ है.

इंश्योरेंस सेक्टर की भी ग्रोथ कम

इसी तरह से इंश्योरेंस सेकटर पर भी दबाव दिख रहा है. नॉन लाइफ इंश्योरेंस इंडस्ट्री में जुलाई तक 1.62 फीसदी ग्रोथ देखने को मिली है. लाइफ इंश्योरेंस सेक्टर में जुलाई तक प्रीमियम में 12 फीसदी और पॉलिसी की संख्या में 30 फीसदी गिरावट रही है. हेलथ इंश्योरेंस बिजनेस 10.4 फीसदी के हिसाब से बढ़ा है, लेकिन मोटर इंश्योरेंस सेक्टर में गिरावट रही है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. अच्छे मानसून पर भारी कोरोना! लॉकडाउन के 3 माह बाद चपेट में गांव, अब कैसे चलेगा ग्रोथ का इंजन

Go to Top