मुख्य समाचार:
  1. कपूर खानदान की धरोहर नहीं रहा आरके स्टूडियोज, अब इसकी जमीन पर लग्जरी फ्लैट बनाएगी गोदरेज

कपूर खानदान की धरोहर नहीं रहा आरके स्टूडियोज, अब इसकी जमीन पर लग्जरी फ्लैट बनाएगी गोदरेज

शुक्रवार को रियलिटी कंपनी गोदरेज प्रापर्टीज ने आरके स्टूडियोज खरीदने की घोषणा किया है.

May 3, 2019 9:39 PM
rk studios, rk films and studios, rk films, raj kapoor, kapoor dynasty, randheer kapoor, आरके स्टूडियोज, आरके फिल्म्स, कपूर खानदान, rk studios godrej, राजकपूर ने 1948 में इस स्टूडियो को स्थापित किया था.

बॉलीवुड में शुरू से ही कपूर खानदान का अपना प्रभुत्व रहा है और अब भी यह जारी है. शोमैन कहे जाने वाले राजकपूर ने आरके फिल्म्स एंड स्टूडियो की स्थापना की थी और इस बैनर के तले उन्होंने कई यादगार फिल्मों का निर्माण किया था. 2 साल पहले चेंबूर स्थित आरके स्टूडियो में आग लग गई और उसके बाद ही कपूर खानदान ने इस ऐतिहासिक धरोहर को बेचने का फैसला कर लिया था. आज शुक्रवार को रियलिटी कंपनी गोदरेज प्रापर्टीज ने RK Studios को खरीदने की घोषणा की है. हालांकि यह सौदा कितने में हुआ है, इसकी जानकारी सामने नहीं आई है.

स्टूडियो की जमीन पर बनेंगे लग्जरी फ्लैट

कंपनी ने बताया कि अब स्टूडियो का इस्तेमाल लग्जरी फ्लैट बनाने और रिटेल स्पेस के लिए किया जाएगा. कंपनी द्वारा जारी बयान के मुताबिक 2.20 एकड़ में फैले इस स्टूडियो की 33 हजार वर्गफीट जमीन पर फ्लैट का निर्माण किया जाएगा. कंपनी के कार्यकारी चेयरमैन पिरोजशा गोदरेज ने कहा कि इस ऐतिहासिक धरोहर को कंपनी ने अपने पोर्टफोलियो में शामिल किया है. वहीं रणधीर कपूर का कहना है कि कपूर खानदान के लिए आरके स्टूडियो महत्त्वपूर्ण धरोहर रही है और अब इस प्रापर्टी पर नई कहानी गढ़ने के लिए गोदरेज को चुना गया है.

1948 में RK Studios की स्थापना

राजकपूर ने 1948 में इस स्टूडियो को स्थापित किया था. इस स्टूडियो ने बॉलीवुड को ‘बरसात’ (1949), ‘अवारा’ (1951), ‘बूट पॉलिश’ (1954), ‘श्री 420’ (1955) और ‘जागते रहो’ (1956) जैसी बेहतरीन फिल्में दी हैं. राजकपूर ने इस स्टूडियो में आखिरी फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ बनी थी जो 1985 में रिलीज हुई थी.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop