मुख्य समाचार:

आरबीआई के नये नियम से फंसे कर्ज के समाधान में तेजी आएगी

RBI new norms: आरबीआई का नया सर्कुलर बैंक की अगुवाई में समाधान रूपरेखा की जरूरत को महत्व देता है.

Updated: Jun 10, 2019 7:56 PM
rbi relaxes norms issues new npa circularरिजर्व बैंक ने पिछले शुक्रवार को बैंकों द्वारा एनपीए के वर्गीकरण के लिये कड़ा नियम को हटाकर दूसरा परिपत्र जारी किया.

कर्जदाताओं के बीच समझौते की अनिवार्य व्यवसा के प्रावधान के तहत बैंकों /वित्तीय संस्थाएं किसी ग्राहक कंपनी के पास फंसे अपने ऋणों का समाधान ऋण शोधन अक्षमता एवं दिवाला संहिता (आईबीसी) के बाहर कर सकते हैं.
फंसे कर्ज पर बनी सशक्त समिति ने सोमवार को कहा कि इससे कर्जदाताओं को दबाव वाली संपत्ति के समाधान प्रक्रिया तेज करने में मदद मिलेगी.  पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के गैर-कार्यकारी चेयरमैन सुनील मेहता की अध्यक्षता वाली समिति ने एक विज्ञप्ति में कहा कि कर्जदाताओं के बीच समझौते की जरूरत के जरिये आरबीआई ने वित्तीय संस्थानों को आईबीसी के बाहर समाधान की रूपरेखा को मंजूरी दी है.

RBI ने जारी किया नया सर्कुलर

समिति में शामिल अन्य सदस्यों में एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार, बैंक आफ बड़ौदा के प्रबंध निदेशक और सीईओ पी एस जयकुमार तथा एसबीआई के उप-प्रबंध निदेशक वेंकट नागेश्वर थे. समिति ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में फंसे कर्ज के तेजी से समाधान की दिशा में सुझाव दिया है.

रिजर्व बैंक ने पिछले शुक्रवार को बैंकों द्वारा एनपीए के वर्गीकरण के लिये कड़ा नियम को हटाकर दूसरा परिपत्र जारी किया. पुराने आदेश को उच्चतम न्यायालय ने अप्रैल में खारिज कर दिया था. नये परिपत्र में बैंकों को एनपीए घोषित करने के लिये 30 दिन का अतिरिक्त समय दिया गया है.

RBI ने कड़े नियमों में बदलाव किया

उल्लेखनीय है कि शीर्ष बैंक ने फरवरी 2018 में परिपत्र जारी कर फंसे कर्ज के वर्गीकरण की समयसीमा तय की थी. इसके तहत कर्ज भुगतान में एक दिन की भी देरी होने पर उसे एनपीए में वर्गीकरण करना था. इसके तहत बैंकों को 180 दिनों के भीतर समाधान योजना तलाशना था अन्यथा मामला दिवालिया अदालत में भेजना होगा.
मेहता ने कहा, ‘‘नयी रूपरेखा व्यवहारिक है और कदम सही दिशा में है. इसमें सभी पक्षों के हितों को ध्यान में रखा गया है.’’ एसबीआई के चेयरमैन ने कहा कि आरबीआई का नया मसौदा बैंक की अगुवाई में समाधान रूपरेखा की जरूरत को महत्व देता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. आरबीआई के नये नियम से फंसे कर्ज के समाधान में तेजी आएगी

Go to Top