मुख्य समाचार:

अप्रैल-सितंबर में खुदरा महंगाई दर 3.0-3.10 फीसदी रहने का अनुमान: RBI

Inflation: इससे साल के बचे समय के लिये इन्फ्लेशन के अनुमान को नीचे रखा गया है.

Updated: Jun 06, 2019 5:27 PM
rbi monetary policy inflation projection at 3 percentदूसरी छमाही यानी अक्टूबर19 से मार्च 20 के दौरान रीटेल इन्फ्लेशन का पुर्वानुमान 3.50-3.80 फीसदी से घटाकर 3.40-3.70 फीसदी कर दिया गया.

RBI:  इस साल मानसून सामान्य रहने के अनुमान के बीच खाद्य पदार्थों विशेषकर सब्जियों की कीमतों में तेजी को देखते हुए रिजर्व बैंक (RBI) ने चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही (अप्रैल-सितंबर) के दौरान खुदरा महंगाई दर (रिटेल इन्फ्लेशन) का पूर्वानुमान मामूली बढ़ाकर 3.0-3.10 फीसदी कर दिया. इससे पहले अप्रैल की समीक्षा में रिजर्व बैंक ने इस अवधि के लिये रिटेल इन्फ्लेशन 2.90-3.0 फीसदी रहने का अनुमान जताया था. हालांकि दूसरी छमाही यानी अक्टूबर19 से मार्च 20 के दौरान खुदरा महंगाई दर का पुर्वानुमान 3.50-3.80 फीसदी से घटाकर 3.40-3.70 फीसदी कर दिया गया.

महंगाई दर इन बातों का होगा असर

रिजर्व बैंक ने दूसरे मॉनिटरी पॉलिसी बयान में कहा, ‘‘वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान रीटेल इन्फ्लेशन का रुख कई फैक्टर्स से प्रभावित होगा. सबसे पहले, सब्जियों के भाव में गर्मियों के कारण आने वाली तेजी अनुमान से पहले आ गयी, हालांकि सर्दियों में इसमें कमी देखने को मिलेगी.’’ रिजर्व बैंक ने कहा कि ताजी सूचनाओं से कई खाद्य पदार्थों में व्यापक आधार पर कीमतों में तेजी का पता चलता है. इससे फूड इन्फ्लेशन के निकट भविष्य में ऊपर जाने के संकेत मिलते हैं. कच्चा तेल में उथल-पुथल जारी रहने वाला है.

RBI की समीक्षा में कहा गया है, ‘‘इन फैक्टर्स, नीतिगत दर में हालिया कटौती के प्रभाव तथा 2019 में सामान्य मानसून के पूर्वानुमान पर गौर करें तो रिटेल इन्फ्लेशन के अनुमान को संशोधित कर 2019-20 की पहली छमाही के लिये 3.0-3.10 फीसदी और दूसरी छमाही के लिये 3.40-3.70 फीसदी कर दिया गया है. इसके साथ ही जोखिम व्यापक स्तर पर संतुलित रहने का अनुमान है.’’

इन्फ्लेशन पर रिवर्ज बैंक का अनुमान मानसून को लेकर अनिश्चितता, सब्जियों के भाव में बेमौसम तेजी, कच्चा तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतें और घरेलू कीमतों पर इसके असर, भू-राजनीतिक तनाव, वित्तीय बाजार का उथल-पुथल और राजकोषीय परिदृश्य पर आधारित है. रिजर्व बैंक ने कहा कि घरेलू एवं बाह्य मांग परिस्थितियों में उल्लेखनीय नरमी आने से अप्रैल में खाद्य एवं ईंधन को छोड़ इन्फ्लेशन में 0.60 फीसदी की कमी देखने को मिली. इससे साल के बचे समय के लिये इन्फ्लेशन के अनुमान को नीचे रखा गया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. अप्रैल-सितंबर में खुदरा महंगाई दर 3.0-3.10 फीसदी रहने का अनुमान: RBI

Go to Top