मुख्य समाचार:

RBI ने PMC कस्टमर्स को दी राहत, विद्ड्रॉल लिमिट बढ़ाकर की गई 1 लाख; लेकिन यह है शर्त

घोटाले में फंसे पीएमसी के जमाकर्ता मेडिकल इमरजेंसी से जुड़ी जरूरतों की स्थिति में एक लाख रुपये तय की निकासी के लिये रिजर्व बैंक द्वारा नियुक्त प्रशासक से संपर्क कर सकते हैं.

November 20, 2019 12:14 AM
Image: Reuters

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) बैंक​ लिमिटेड के कस्टमर्स को रिजर्व बैंक ने एक बार फिर राहत प्रदान की है. घोटाले में फंसे PMC बैंक के जमाकर्ता मेडिकल इमरजेंसी से जुड़ी जरूरतों की स्थिति में एक लाख रुपये तक की निकासी के लिये रिजर्व बैंक द्वारा नियुक्त प्रशासक से संपर्क कर सकते हैं. रिजर्व बैंक ने मंगलवार को बंबई उच्च न्यायालय में दायर शपथपत्र में कहा कि विवाह, शिक्षा, जीवनयापन आदि जैसी दिक्कतों की स्थिति में निकासी की सीमा 50 हजार रुपये है. शपथपत्र में कहा गया कि बैंक और इसके जमाकर्ताओं के हितों की रक्षा के लिये इस तरह की सीमा तय करना जरूरी था.

रिजर्व बैंक के वकील वेंकटेश धोंड ने ​जस्टिस एस.सी. धर्माधिकारी और ​जस्टिस आर.आई. चागला की पीठ को बताया कि दिक्कतों से जूझ रहे जमाकर्ता केंद्रीय बैंक द्वारा नियुक्त प्रशासक से मिलकर एक लाख रुपये तक की निकासी की मांग कर सकते हैं. केंद्रीय बैंक ने न्यायालय को बताया कि PMC बैंक में व्यापक स्तर पर गड़बड़ियां पायी गयी हैं.

5 नवंबर को 50,000 रु की गई थी विद्ड्रॉल लिमिट

इससे पहले RBI ने 5 नवंबर को PMC बैंक के जमाकर्ताओं के लिए निकासी सीमा (विद्ड्रॉल लिमिट) बढ़ाकर 50,000 रुपये प्रति खाता कर दी थी. इससे पहले यह सीमा 40,000 रुपये थी. बैंक पर पाबंदी लगाए जाने के बाद यह चौथी बार था, जब RBI ने विद्ड्रॉल लिमिट बढ़ाई. PMC बैंक के कामकाज में अनियमितताएं और रियल एस्टेट कंपनी HDIL को दिए गए कर्ज के बारे में सही जानकारी नहीं देने के चलते लेकर RBI ने 23 सितंबर 2019 को बैंक पर नियामकीय पाबंदियां लगाई थीं. इनमें कर्ज देना और नई जमा स्वीकार करने पर प्रतिबंध शामिल है. साथ ही बैंक प्रबंधन को हटाकर उसकी जगह RBI के पूर्व अधिकारी को 6 महीने के लिए बैंक का प्रशासक बनाया गया.

इसके अलावा उस समय प्रति ग्राहक निकासी सीमा 1,000 रुपये तय की गई थी. उसके बाद 26 सितंबर को निकासी सीमा बढ़ाकर 10,000 रुपये प्रति खाता, 3 अक्टूबर को 25000 रुपये प्रति खाता और उसके बाद 40000 रुपये प्रति खाता कर दी गई.

दुनिया में रहने के लिए शीर्ष 10 लग्जरी शहरों में दिल्ली 9वें पायदान पर, मॉस्‍को नंबर- 1

HDIL को दिया 6,500 करोड़ का कर्ज

PMC बैंक ने HDIL को अपने कुल कर्ज 8,880 करोड़ रुपये में से 6,500 करोड़ रुपये का ऋण दिया था. यह उसके कुल कर्ज का करीब 73 प्रतिशत है. पूरा कर्ज पिछले दो-तीन साल से NPA (गैर-निष्पादित परिसंपत्ति) बना हुआ है.

Input: PTI

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. RBI ने PMC कस्टमर्स को दी राहत, विद्ड्रॉल लिमिट बढ़ाकर की गई 1 लाख; लेकिन यह है शर्त

Go to Top