मुख्य समाचार:

राज्यसभा का 250वां सत्र रहा ऐतिहासिक, शीतकालीन सत्र में हुआ शत-प्रतिशत कामकाज

राज्यसभा में लगातार ऐसा दूसरी बार हुआ है जब सदन में शत प्रतिशत कामकाज दर्ज किया गया.

December 13, 2019 3:51 PM
rajyasabha 250th session historical hundred percent work doneराज्यसभा में लगातार ऐसा दूसरी बार हुआ है जब सदन में शत प्रतिशत कामकाज दर्ज किया गया.

राज्यसभा का 250वां सत्र शुक्रवार को अनिश्चितकाल के लिये स्थगित हो गया और इस दौरान नागरिकता संशोधन विधेयक, SC-ST आरक्षण को दस साल आगे बढ़ाने संबंधी संविधान संशोधन विधेयक और ट्रांसजेंडर विधेयक के साथ 15 महत्वपूर्ण विधेयक पारित किये गये और सत्र के दौरान शत प्रतिशत कामकाज हुआ. राज्यसभा में लगातार ऐसा दूसरी बार हुआ है जब सदन में शत प्रतिशत कामकाज दर्ज किया गया.

राष्ट्रगीत की धुन बजाने के बाद सदन को अनिश्चितकाल के लिये स्थगित करने के एलान से पहले सभापति एम वेंकैया नायडू ने अपने पारंपरिक भाषण में सत्र के दौरान हुये कामकाज और लोकमहत्व के विषयों पर की गयी चर्चाओं पर संतोष जताते हुये इसे ऐतिहासिक करार दिया.

सत्र में नागरिकता (संशोधन) विधेयक पारित हुआ

18 नवंबर से शुरु हुये इस सत्र में कुल 20 बैठकें हुईं. इस दौरान सदन में 108 घंटे 33 मिनट तक निर्धारित कामकाज होना था. विभिन्न मुद्दों पर हंगामे के चलते सदन के कामकाज में 11 घंटे 47 मिनट का नुकसान हुआ. लेकिन सदस्यों ने 10 घंटे 52 मिनट ज्यादा काम करके सदन की उत्पादकता को 100 फीसदी पर ला दिया. सत्र के दौरान कुल 15 विधेयक पारित किये गये या विचार कर लौटाये गये. इनमें ट्रांसजेंडर व्यक्ति (अधिकारों का संरक्षण) विधेयक शामिल है जो इस तरह के व्यक्तियों के हितों के लिये लाया गया अपनी तरह का पहला विधेयक है.

इस दौरान नागरिकता (संशोधन) विधेयक और अनुसूचित जाति एवं जनजाति आरक्षण को दस साल बढ़ाने संबंधी संविधान (126वां) संशोधन विधेयकों पर सदन में लंबी चर्चा हुई और विपक्ष, सत्तापक्ष के लोगों ने खुलकर अपने विचार रखे. इस दौरान ई-सिगरेट पर रोक लगाने संबंधी विधेयक, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केन्द्र संबंधी विधेयक के साथ विभिन्न विधेयकों पर चर्चा हुई. साथ ही उच्च सदन में लंबे अंतराल के बाद अनुदान की अनुपूरक मांगों को चर्चा के बाद लोकसभा को लौटाया गया.

Winter Travel Safety Tips: सर्दियों में लाहौल-स्पीति का ट्रिप कर रहे हैं प्लान, याद रखें ये 9 टिप्स

49 सालों में सबसे बेहतरीन रहा प्रश्नकाल

सत्र के दौरान सदस्यों ने दो ध्यानाकर्षण प्रस्ताव और शून्यकाल में तथा विशेष उल्लेख के जरिये लोकमहत्व के विभिन्न मुद्दे उठाये. यह सत्र प्रश्नकाल के लिहाज से भी 1971 के बाद पिछले 49 सालों में सबसे बेहतरीन रहा. इस दौरान कुल 255 मौखिक सवालों में से 171 का जवाब दिया गया जो कुल सवालों का 67 प्रतिशत है.

इस तरह सत्र के दौरान हर दिन 9.5 मौखिक सवालों का जवाब दिया गया. सभापति ने राज्यसभा के 250वें सत्र को ऐतिहासिक सत्र करार देते हुये कहा कि इसकी गंभीरता और संक्षिप्तता महत्वपूर्ण रही.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. राज्यसभा का 250वां सत्र रहा ऐतिहासिक, शीतकालीन सत्र में हुआ शत-प्रतिशत कामकाज

Go to Top